कांग्रेस नेता ने मोदी सरकार की जमकर की तारीफ, विदेश नीति को बताया बेहतरीन कदम

नई दिल्ली: जिन मुद्दो को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पीएम मोदी पर हमला  बोलते हुए नजर आते  हैं, उन्ही मुद्दों पर कांग्रेस के दिग्गज नेता ने मोदी सरकार के तारीफों के पुल बांधे। जी हां, कांग्रेस के दिग्गज नेता ने मोदी सरकार की विदेश नीति की जमकर तारीफ की। हालांकि, विपक्ष का यही काम होता है कि वो सरकार की आलोचना करने के साथ साथ उसकी तारीफ भी करे, लेकिन ये तारीफ राहुल गांधी के लिए मुसीबतों का सबब बन सकता है। आइये जानते हैं कि हमारे इस रिपोर्ट में क्या खास है?

बात तारीफ तक ही नहीं बल्कि दिग्गज नेता ने मोदी सरकार की उस मुद्दे पर तारीफ कर डाली, जिस पर राहुल गांधी बीजेपी को घेरते हुए नजर आते हैं। जी हां, कांग्रेस नेता शशि थरूर ने मोदी सरकार की तारीफों के पुल बांधते हुए कहा कि मोदी जी यात्रा करते रहते हैं, जोकि देश के लिए सराहनीय कदम है, ऐसे में हमारी विदेश नीति और भी मजबूत होगी। शशि थरूर यही नहीं रूके उन्होंने मोदी सरकार की तारीफ का पुल बांधना आगे भी जारी रखा।

कांग्रेस नेता शशि थरूर ने डोकलाम मुद्दे पर मोदी सरकार की समझदारी और नीति की तारीफ करते हुए कहा कि ये मोदी सरकार की सबसे बड़ी जीत है, जोकि उन्होंने बड़ी ही समझदारी से निभाया। इस दौरान शशि थरूर ने न सिर्फ मोदी सरकार की तारीफ की बल्कि उनकी खामियों को गिनाने से पीछे नहीं हटे। शशि थरूर ने आगे कहा कि भले ही मोदी सरकार की विदेश नीति अच्छी हो, लेकिन उनकी पड़ोसी नीति बहुत ही बेकार है।

पड़ोसियों के साथ व्यवहार में फ्लॉप है भारत

मोदी सरकार की तारीफ करने के बाद कांग्रेस नेता मोदी सरकार को पड़ोसी नीतियो के तहत घेरा भी। जी हां, शशि थरूर ने कहा कि भारत पड़ोसियों के साथ व्यवहार के लिए फ्लॉप नजरिया अपना रहा है, जोकि आर्थिक और राजनीति स्तर पर पीएम मोदी की पड़ोसी पहले वाली नीति को झूठलाता है। इस दौरान शशि ने ये भी कहा कि पीएम मोदी की  ये नीति कहीं न कहीं भारत की दुनिया में अच्छी छवि के लिए अच्छे संकेत नहीं है।

विदेश नीति पर मोदी सरकार की पीठ थपथपाई

डोकलाम मुद्दे को लेकर मोदी सरकार की  तारीफ करते हुए शशि थरूर ने कहा कि बीजेपी की विदेश नीति अच्छी है, जोकि एक बेहतर ऊर्जा पैदा करती है, जोकि भारत की विदेश नीति के नजरिये से अच्छी मानी जा सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.