अध्यात्म

ये तथ्य साबित करेंगे कि रामायण की घटना कोई काल्पनिक नहीं, बल्कि एक सच्ची घटना है!

अक्सर रामायण के पात्रों और उसकी घटना पर लोग ऊँगली उठाते रहते हैं। रामायण की घटना से हिन्दुओं की आस्था जुडी हुई है और लोग इसे पवित्र घटना के रूप में याद करते हैं। ऐसे में समय- समय पर इसकी सत्यता पर उठती हुई ऊँगली उनके ह्रदय हो ठेस पहुचती है। हिन्दू धर्म में राम को पूजा जाता है और उन्हें एक आदर्श पुरुष के उदाहर के रूप में माना जाता है। लोग अक्सर ये सवाल उठाते हैं कि क्या राम सच में पैदा हुए थे? क्या रावण नाम का कोई राक्षस था या हनुमान जैसा कोई था? उनमे से किसी को इस समय लाया नहीं जा सकता क्योंकि यह घटना बहुत प्राचीन थी लेकिन उनके होने के कुछ ठोस सबूत जरुर सामने लाये जा सकते हैं।

भारत और श्रीलंका में कुछ ऐसी जगहें हैं जो रामायण की घटना की गवाही देते हैं (Ramayan True Story)और उनके होने के विश्वास को और मजबूत करते हैं।

पंचवटी (Ramayan True Story -1) :

ramayan true story

भगवान राम अपने वनवास के समय यहाँ पर गए थे, इसी जगह पर लक्षमण ने सूपर्णखा की नाक काटी थी। यह जगह आज नाशिक में पड़ती है।

 

श्रीलंका की कोबरा हुड गुफा:

ramayan true story

इस गुफा के बारे में यह कहा जाता है कि रावण ने जब माता सीता का अपहरण किया, और लंका पहुँचा तो इसी जगह पर सबसे पहले रुका और सीता को यही रखा हुआ था। इस गुफा में उस समय के कुछ चित्र आज भी बने हुए हैं जो यह साबित करते हैं।

जनकपुर का जानकी मन्दिर:

ramayan true story

सीता माता का जन्म राजा जनक के यहाँ हुआ था, इसलिए उनका नाम जानकी पड़ गया। उनके पिता के नाम से ही नेपाल में जिस जगह सीता माता का जन्म हुआ था आज उसे जनकपुर के नाम से जाना जाता है। इस जगह पर सीता माता का एक मन्दिर है जिसे जानकी मंदिर के नाम से जाना जाता है।

 

हनुमान गढ़ी की उपस्थिति:

ramayan true story

हनुमान गढ़ी के बारे में कहा जाता है कि हनुमान जी जब भगवान राम का इंतज़ार कर रहे थे तो वह इसी जगह पर बैठे हुए थे। रामायण में इस जगह के बारे में विस्तार से लिखा हुआ है। वर्तमान समय में अयोध्या के पास पड़ने वाली इस जगह पर हनुमान जी का एक मंदिर भी है।

रामलिंगम का मंदिर:

ramayan true story

रावण को मरने के बाद भगवान राम को बहुत पछतावा हुआ कि उनके हाथों से एक ब्राम्हण का वध हो गया है। इसके बाद उन्होंने ने शिव की आराधना की, भगवान शिव ने उन्हें चार शिवलिंग बनाने के लिए कहा। हनुमान जी दो शिवलिंग कैलाश पर्वत से ले आये, माता सीता ने एक शिवलिंग रेट से बनाया और भगवान राम ने एक शिवलिंग बना के इस जगह पर स्थापित कर दिया था। आज इसी जगह को रामलिंगम के नाम से जाना जाता है।

 

हनुमान जी के पैरों के निशान:

ramayan true story

हनुमान जी ने सीता माता को खोजने के लिए बृहद रूप लिया था। जब वह समुद्र पार कर के लंका में पहुँचे तो उनके पैर जमीन पर पड़ते ही वहाँ पर पैरों के निशान पड़ गए, जो आज भी श्रीलंका में मौजूद हैं।

राम द्वारा बनाया गया पुल:

ramayan true story

राम जब भारत से लंका जाने लगे तो बीच में समुद्र था उसे पार करने के लिए उन्होंने एक पुल बनाया था। यह पुल तैरते हुए पत्थरों से बनाया गया था, जो आज भी मौजूद है। कुछ साल पहले इस पुल को तोड़ने की बात चल रही थी, लेकिन उसे तोड़ने नहीं दिया गया।

 

पुरातत्व विभाग ने भी स्वीकार किया:

 

पुरातत्व विभाग भी यह बात मानता है कि भगवान राम थे, पुरातत्व विभाग ने यह भी बताया कि श्रीलंका में 1750000 साल पहले भी इंसानों के घर थे। राम द्वारा बनाया गया पुल भी उसी समय का है।

रावण का महल और कोंडा कट्टू गाला:

ramayan true story

श्रीलंका में पुरातत्व विभाग को एक महल मिला है जिसे वे रामायण के समय का कह रहे हैं, उनका अनुमान है कि यह महल किसी और का नहीं बल्कि रावण का ही है। महल से कई सरे गुप्त रस्ते निकलकर शहर के पास जाते हैं, ये सभी रस्ते इंसानों द्वारा बनाये गए हैं। इसी महल से एक रास्ता कोंडा कट्टू गाला में बनी गुफाओं तक जाता हैं जहाँ रावण ने सीता माता को हनुमान जी के लंका दहन के बाद रखा था।

लंका दहन के अवशेष:

ramayan true story

हनुमान जी के लंका जलने से उस जगह की सारी मिट्टी कलि पड़ गयी थी जो आज भी उस इलाके के पास मिलती है, जहाँ रावण का महल मिला है।

 

लोपक्षी का मन्दिर:

ramayan true story

रावण जब माता सीता का अपहरण कर के लंका ले जा रहा था तब रावण का रास्ता जटायु ने रोका था। रावण से जटायु ने लड़ाई की परन्तु वह मारे गए थे, उनका मृत शरीर इसी जगह पर गिरा था। आज इस जगा पर एक मंदिर है जिसे लोपक्षी मंदिर के नाम से जाना जाता है।

पानी में तैरने वाले पत्थर:

ramayan true story

राम ने जिस पुल को लंका जाने के लिए बनाया था वह तैरते हुए पत्थरों से बनाया गया था। कुछ साल पहले सुनामी आयी हुई थी उस समय कुछ पत्थर निकल कर बाहर आ गए थे। वैज्ञानिकों ने उस पत्थर को दुबारा पानी में फेका तो वो तैर रहे थे।

 

द्रोणागिरी पर्वत और श्रीलंका में हिमालय की जड़ी बूटियाँ:

ramayan true story

लंका में युद्ध के समय जब लक्षमण मुर्छित हो गए थे तो उनके इलाज के लिए हनुमान हिमालय से द्रोणागिरी पर्वत लाये थे। उसमे से संजीवनी निकलकर लक्षमण का इलाज किया गया था जिससे वो ठीक हो गए थे। इलाज के बाद हनुमान जी ने उस पहाड़ को वही ले जा कर रख दिया जहाँ से लाये थे। आज भी उस पर्वत पर निशान मौजूद हैं। आज भी श्रीलंका के कुछ स्थानों पर ऐसी जड़ी- बूटियाँ पाई जाती हैं जो केवल हिमालय में होती हैं।

अशोक वाटिका:

ramayan true story

रावण ने जब सीता का अपहरण किया और उन्हें अपने महल में ले गया तो सीता ने वह तःने से मन कर दिया था। हर कर माता सीता को रावण ने अशोक वाटिका में रखा था। श्रीलंका में आज वो जगह ‘हकगाला बोटैनिकल गार्डन’ के नाम से मशहूर है। जिस जगह पर सीता माता को रखा गया था उसे ‘सीता एल्या’ कहा जाता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close