आपके बुजुर्गों को भी शायद ही पता होंगे महाभारत के ये रहस्य

हिन्दू धर्म में महाभारत एक पवित्र पुस्तक मानी जाती है। महाभारत बहुत समय पहले लिखी गयी थी, लेकिन इसमें लिखी सारी बातें आज भी लोगों के लिए बहुत मायने रखती हैं। इसमें इंसान को एक बेहतर जीवन जीने के लिए बहुत सारी बातें लिखी गई हैं। इसको लोग आज भी अपने जीवन में एक महत्व देते हैं और उसी के अनुसार अपने दैनिक कार्य करते हैं। [ Mahabharat secrets peoples rarely know about it]
लेकिन क्या हम महाभारत (Mahabharat secrets) के बारे में सब कुछ जानते हैं, या जितना जानते हैं वो हमारे लिए काफ़ी है? क्या युद्ध के ख़त्म होने के बाद महाभारत खत्म हो गई थी?

आप ये बात जान कर और भी हैरान रह जाएंगे कि युद्ध के बाद ही महाभारत शुरू हुई थी। इसमें बहुत सरे रहस्य छिपे हुए हैं जिनके आस-पास भी हम नहीं पहुँच पाए हैं। आज हम आपको उन सरे रहस्यों को आपके सामने एक – एक करके पेश करने जा रहे हैं, जिनके बारे में आपने तो क्या आपके बुजुर्गों ने भी कभी नहीं सुना होगा।

1- 18 की गुत्थी (Mahabharat secrets) :

Mahabharat secrets
क्या आपको पता है कि महाभारत का युद्ध 18 दिनों तक चला था? महाभारत के कुल 18 अध्याय हैं, कृष्णा ने अर्जुन को कुल 18 दिनों तक गीता का ज्ञान दिया था, पवित्र पुस्तक गीता में भी कुल 18 ही अध्याय हैं। कौरवों की सेना में कुल 18 करोड़ सैनिक थे, इस युद्ध के ख़त्म होने के बाद केवल 18 लोग ही जीवित बचे थे। इस 18 की संख्या के बारे में बहुत कम लोग ही होंगे जो शायद जानते होंगे।

2- अश्वत्थामा (Mahabharat secrets) :

Mahabharat secrets
कौरवों और पांडवों के गुरू द्रोणाचार्य का एक पुत्र था, नाम था अश्वत्थामा। बहुत ही चंचल किस्म के थे, एक बार उन्होंने युद्ध में ब्रह्मास्त्र का प्रयोग कर दिया। इस बात से कृष्णा नाराज हो गए और उन्होंने उसे अमरता का अभिशाप दे दिया। उन्होंने अश्वत्थामा को अभिशाप दिया कि ‘तू इतने लोगों की मौत का पाप ढोता हुआ तीन हज़ार वर्ष तक निर्जन जगहों पर भटकता रहेगा, तेरे शरीर से हमेसा खून की दुर्गंध आती रहेगी, तू ढेर सारी बीमारियों से ग्रषित रहेगा’। आज भी अश्वत्थामा के देखे जाने की बात लोगकरते हैं। अब यह सच है या झूठ यह हम नहीं बता सकते।

3- हवाई जहाज और परमाणु बम (Mahabharat secrets) :

Mahabharat secrets
लोगों का कहना है कि आज जो परमाणु बम बने हैं उनका अस्तित्व महाभारत के समय से ही है। पहली बार परमाणु बम उसी वक़्त बने थे। मोहन जोदड़ो की खुदाई करते समय मिले कुछ कंकालों में रेडिएशन का असर मिला था, जिसे लोग महाभारत युद्ध से इसका नाता मानते हैं। महाभारत में सौप्तिक पर्व के अध्याय 13 से 15 में ब्रह्मास्त्र के उपयोग करने से जो घटक परिणाम सामने आते हैं उनके बारे में बताया गया है। हिंदू इतिहासकारों के अनुसार 3 नवंबर 5561 ईसा-पूर्व अश्वत्थामा ने जो ब्रह्मास्त्र छोड़ा था वह परमाणु बम ही था।

4. कौरवों के जन्म का रहस्य (Mahabharat secrets) :

Mahabharat secrets
धृतराष्ट्र और गांधारी के कुल 99 लड़के और केवल एक ही लड़की थी। कुरु वंश से होने के कारण इन्हें कौरव कहा गया। गांधारी ने वेदव्यास से लड़की के लिए वरदान माँगा था, लेकिन गांधारी को कोई भी बच्चा नहीं हुआ। गुस्से में आकर गांधारी ने अपने पेट पर जोर से मुक्का मारा, और उसका गर्भ गिर गया। वेदव्यास को जब इस बात का पता चला तो उन्होंने तुरंत गांधारी को 100 कुएं खुदवाने को कहा। उन्होंने घी डालकर कुओं में मरे हुए बच्चे के अवशेष उसमे डालने को कहा, इसीसे कौरवों का जन्म हुआ था।

5. वीर योद्धा बर्बरीक (Mahabharat secrets) :

Mahabharat secrets
बर्बरीक भीम के पौत्र थे, उन्होंने ये कहा था कि वह हारे हुए पक्ष से लड़ेंगे। बर्बरीक के लिए तीन ही बाण काफ़ी थे पुरे युद्ध को ख़त्म करने के लिए। इससे कृष्ण परेशां हो गए और बर्बरीक से उसकी जान माँग ली, बर्बरीक ने अपनी जान दे तो दी लेकिन उसकी एक शर्त थी कि वह युद्ध को अंत तक देखना चाहता है। कृष्णा ने उसके सरको युद्ध क्षेत्र की सबसे ऊँची चोटी पर रख दिया, जिससे वह पूरा युद्ध देख सके।

6. राशियां नहीं थीं ज्योतिष का आधार (Mahabharat secrets) :

Mahabharat secrets
राशियों का जन्म महाभारत काल के बाद हुआ था, उस समय के ज्योतिष लोगों कि राशियाँ देखकर कुछ भी नहीं बताते थे। ग्रह और नक्षत्रों को देखकर भविष्यवाणियाँ की जाती थी।

7. अन्य देशों के लोगों ने भी इस लड़ाई में भाग लिया था (Mahabharat secrets) :

Mahabharat secrets
महाभारत के युद्ध में केवल अपने देश के ही नहीं बल्कि विदेशी योद्धाओं ने भी भाग लिया था। यवन देश की सेना के साथ साथ ग्रीक, रोमन, अमेरिका, मेसिडोनियन के योद्धाओं ने भी लड़ाई में भाग लिया था। इसके अनुसार यह माना जाता है कि महाभारत विश्व का ‘पहला विश्व युद्ध’ था।

8. महाभारत को किसने लिखा (Mahabharat secrets) :

Mahabharat secrets
अब तक आप यह जानते थे कि वेदव्यास ने ही महाभारत लिखी है लेकिन वेदव्यास कोई नाम नहीं, बल्कि एक उपाधि थी। जो उस समय वेदों का ज्ञान रखने वाले लोगों को दी जाती थी। महाभारत की रचना 28वें वेदव्यास कृष्णद्वैपायन ने की थी, इससे पहले 27 वेदव्यास हो चुके थे।

9. अभिमन्यु को आखिर किसने मारा (Mahabharat secrets) :

Mahabharat secrets
महाभारत के अनुसार, अभिमन्यु ने लड़ते हुए चक्रव्यूह में मौजूद सात में से एक महारथी (दुर्योधन के बेटे) को मार गिराया था। इससे नाराज़ होकर दुशासन के बेटे ने अभिमन्यु की हत्या कर दी थी ना कि सात लोगों ने मिलकर मारा था।

10. महाभारत को तीन भागों में लिखा गया (Mahabharat secrets) :

Mahabharat secrets
महाभारत केवल एक ही किताब है लेकिन इसे तीन भागों में लिखा गया था। पहले भाग में 8,800 श्लोक, दूसरे में 24,000 और तीसरे भाग में 1,00,000 श्लोक लिखे गए थे। वेदव्यास की महाभारत और भंडारकर ओरिएंटल रिसर्च इंस्टीट्यूट, पुणे की संस्कृत महाभारत

Leave a Reply

Your email address will not be published.