स्वास्थ्य

इस वजह से पैदा होते हैं जुड़वां बच्चे, जानिये कैसे पा सकते हैं प्राकृतिक तरीके से जुड़वाँ बच्चे

घर में नन्हें मेहमान के आने की खुशी और दूगनी हो जाती है जब ये पता लगता है एक नही बल्कि जुड़वा बच्चे आ रहे हैं.. आजकल तो मेडिकल टेस्ट के जरिए ये आसानी से पता लग जाता है गर्भ में जुड़वा बच्चे पल रहे हैं। पर ये खुशी भी किस्मत वालों को  ही मिलती है। एक आंकलन के अनुसार, दुनिया में बहुत सी महिलाएं हैं, जिनके जुड़वा बच्चे हुए और सफल रहे। एक शोध के मुताबिक दो हजार महिलाओं में कहीं एक महिला को जुड़वा बच्चे नसीब होते हैं, जिनकी चाल ढाल, चेहरा, हावभाव सब एक जैसा हो। लेकिन कुछ जुड़वा बच्चे ऐसे भी होते हैं, जिनकी शक्लें अलग होती हैं। साथ ही दोनों जुड़वां है ये भी पहचानना मुश्किल हो जाता है।

लेकिन बड़ा सवाल ये है कि आखिर जुड़वा बच्चे होते क्यों है। सभी की जिज्ञासा होती है ये जानने की, कि आखिर कैसे एक पेट में दो से तीन बच्चे जन्म ले सकते हैं। आज हम इसी बात के बारे में आपको बताने वाले हैं कि आखिर कैसे परिवार में दो बच्चों का जन्म होता है।

अनुवांशिक गुण का मतलब ये हैं कि परिवार में या पूर्वजों में अगर किसी को जुड़वा बच्चे हुए हैं तो उसके भी जुड़वा बच्चे हो सकते हैं। इसमें अनुवांशिक गुण काम करता है। इसमें या तो महिला या पुरुष दोनों में से किसी एक के परिवार में अगर ऐसा हुआ है तो उसके भी जुड़वा बच्चे होने के ज्यादा संभावना रहती है।

मेडिकल साइंस के साथ बड़े बुजुर्गों के अनुसार अधिक उम्र में मां बनना मुश्किल है। साथ ही महिलाओं के लिए गर्भधारण करना मुश्किल हो सकता है। लेकिन इस सब के बीच एक बात जो शोध में सामने आई है, वो ये कि बड़ी उम्र की महिलाओं के जुड़वा बच्चे होने के ज्यादा चांसेज रहते हैं। विज्ञान के अनुसार उम्र बढ़ने के साथ महिलाओं में एफएसएच के निर्माण में कमी आती है जो महिलाओं के अंडोत्सर्ग में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। ऐसे में अंडोत्सर्ग की प्रक्रिया तेज हो जाती है जिससे जुड़वा बच्चे होने की संभावना बढ़ जाती है।

जुड़वा बच्चें होने के पीछे एक बड़ा कारण ये भी है कि अगर महिला का वजन और हाइट यानी लंबाई औसत से ज्यादा है तो ऐसी महिलाओं के जुड़वां बच्चे होने की संभावना ज्यादा रहती है।

जुड़वां बच्चे होने के पीछे बड़ा कारण खानपान भी होता है। जिसका सीधा असर हमारे शरीर पर पड़ता है। ज्यादा गरिष्ठ और हेल्दी फूड खाने से भी महिलाओं का वजन बढ़ता है। जिससे जुड़वा बच्चे होने की संभावना प्रबल हो जाती है।

साधारणतः महिलायें जब गर्भधारण करने के लिए तैयारी करती हैं, तो गर्भनिरोधक का इस्तेमाल बंद कर देती है। लेकिन जब वो गर्भनिरोधक का इस्तेमाल करती हैं तो अंडाशय को काफी नुकसान होता है। लेकिन जब गर्भधारण करने की बारी आती है तो महिलाओं के शरीर में अंडाशय से कई अंडे जन्म लेते है। जिससे जुड़वा बच्चे होने की संभावना बढ़ जाती है।

कैसे जुड़वां होने की अपनी संभावना को बढ़ाएं

अपनी वर्तमान संभावना को समझें

गर्भवती महिलाओं को नहीं बतानी चाहिए डिलीवरी डेट, हो सकता है खतरनाक

1. एक औसत महिला की जुड़वां बच्चे होने की संभावना 3% है: उतनी अधिक नहीं है। लेकिन आप शायद औसत मेंं से ना हों। यदि नीचे दिए गए संकेतों में से आप के ऊपर कोई लागू होता है, तो आपकी संभावना बढ़ जाती है। यदि नीचे दिए गए संकेतों में से कुछ या सभी आप के ऊपर कोई लागू होते हैं, तो आपके मौके बहुत बढ़ जाते हैं। इसके विपरीत, यदि आप युवा हैं, एशियाई मूल की कम वजन महिला हैं, और परिवार में कोई भी जुड़वां बच्चे नहीं हैं, तो ट्विनिंग की संभावना बेहद कम होगी।

“परिवार में जुड़वां बच्चे होना” विशेष रूप से माँ की ओर से। यदि आप पहले से ही जुड़वाँ है, तो आपकी संभावना कम से कम 4 गुना बढ़ जाती है।
अफ्रीकी मूल वाली महिलाओं की जुड़वां बच्चे होने की उच्चतम संभावना होती है, उसके बाद यूरोपीय वंश आता है। हिस्पैनिक और एशियाई लोगों की जुड़वां बच्चों के होने की सबसे कम संभावना होती है।
लंबा और/या अच्छी तरह से पोषित होना या अधिक वजन का होना।
पूर्व गर्भधारण होना। 4 या अधिक गर्भधारण के बाद महिलाएं जुड़वां बच्चे होने के अपने अवसरों में नाटकीय रूप से वृद्धि करती है। ऐसा माना जाता है कि शरीर में जुड़वां बच्चों की संभावना बढ़ जाती है, क्योंकि शरीर को यह पता लग जाता है, आप “इसे सह सकते हैं।” बहुत से परिवारों में जहां एक दर्जन से अधिक बच्चे होते हैं, वहां और अधिक गर्भधारण होने पर आप जुड़वां बच्चों के जन्म की बढ़ती संख्या को देख सकते हैं।

2.  अधिक उम्र की महिलाओं में गर्भवती होने की संभावना कम होती है, लेकिन अगर वे गर्भवती होती हैं, तो उनकी जुड़वाँ होने की संभावना अधिक होती है: जितने अधिक उम्र के आप होगें, आपके जुड़वाँ होने की उतनी अधिक संभावना होगी। यदि आप 40 के आसपास हैं, तो आपकी संभावना काफी अधिक 7% के आसपास होगी। 45 पर, यदि आप गर्भवती हो सकती हैं, तो संभावना 17% है।

अधिक उम्र की महिलाओं में आईवीएफ होने की संभावना होती है, नीचे देखें। आईवीएफ भी ट्विनिंग की संभावना को बढ़ाता है।

अच्छी तरह से पोषित रहें, और कुछ खाद्य पदार्थों को खाएं: कुल मिलाकर, कम वजन के लोगों में जुड़वाँ होने की संभावना कम होती है।

कुल मिलाकर, अच्छे से पोषित होना या अधिक वजन का होना, ट्विनिंग के अवसरों में वृद्धि कर सकता है।
अच्छे से पोषित होने का मतलब है, एक स्वस्थ तरीके से वजन बढ़ाना। वजन बढ़ाने की अपनी किसी भी योजना के बारे में अपने डॉक्टर से परामर्श लें।

3. डेयरी और रतालू की खुराक लें: संभवतः कुछ खाद्य पदार्थ जुड़वां बच्चे होने की संभावना से जुड़े होते हैं।

एक प्रमुख फर्टिलिटी स्पेस्लिस्ट द्वारा किए गए एक अध्ययन में पाया गया है कि महिलाएं जो समय सीमा के दौरान डेयरी उत्पादों का उपभोग करती हैं, वे जुड़वा बच्चों के गर्भ धारण करने के अपने अवसर को अन्य महिलाओं से 5 गुना अधिक बढ़ा देती हैं, जो इस तरह के खाद्य पदार्थों से बचने की कोशिश करती हैं।
इंसुलिन की तरह ग्रॉथ फैक्टर (आईजीएफ), जो गायों के लीवर में उत्पादित किया जाता है, वह इस घटना में उकसाने वाला रसायन माना जाता है।
दूसरे सुझाव देते हैं कि rBGH हार्मोन वाली गायों के दूध पीने से मानव महिलाओं को जुड़वाँ करने के लिए प्रभावित किया जा सकता है।
एक अफ्रीकी जनजाति जिसका आहार जंगली रतालू (कसावा) से समृद्ध है, वहां जुड़वां होने की जन्म दर वैश्विक औसत से 4 गुना अधिक है। सब्जियों में मौजूद पोषक तत्व ऑव्यूलेशन के दौरान ऑवरीज को 1 से अधिक एग प्रोड्यूस करने में प्रोत्साहित करने के लिए माना जाता है।
कई डॉक्टरों को संदेह है कि रतालू का जुड़वा बच्चों के साथ कुछ संबंध है। दूसरी ओर, रतालू खाने से कोई नुकसान नहीं है, और वे स्वादिष्ट होते हैं।

अवसरों को बढ़ाने के लिए आसान चीजें

1. विटामिन्स लें: कम पोषित महिलाओं में जुड़वाँ होने की संभावना कम होती है।

सभी विटामिन अच्छे हैं, लेकिन फोलिक एसिड की खुराक को अवसरों को बढ़ाने के लिए साबित किया गया है। आप उन्हें किसी भी फार्मेसी से पा सकते हैं।
फोलिक एसिड की सभी गर्भवती महिलाओं के लिए सिफारिश की गई है; यह जन्म दोष से बचाता है। हालांकि, आपको एक दिन में 1000 मि.ग्रा से अधिक नहीं लेना चाहिए।

ठीक पहले बर्थ-कंट्रोल पिल्स बंद करें: गर्भवती होने का प्रयास करने से पहले पिल्स को रोकने की कोशिश करें। जब महिलाएं पिल्स लेना बंद करती हैं, शरीर उसके हार्मोन को फिर से रि-रेग्यूलेट करने का प्रयास करता है। पिल्स बंद करने के पहले या दूसरे महीने के दौरान, कभी कभी ऑवरी 2 एग्स जारी करती है।

यह भी सिद्ध नहीं किया गया है, लेकिन नुकसान नहीं करेगा। कुछ अध्ययन इसे सच मानते है।

एक डॉक्टर की मदद के साथ ट्विनिंग

गर्भवती महिलाओं को नहीं बतानी चाहिए डिलीवरी डेट, हो सकता है खतरनाक
एक डॉक्टर को आपके जुड़वां बच्चे होने के अवसरों में वृद्धि करने दें: कुछ डॉक्टर किसी की भी जुड़वाँ होने में मदद कर सकते हैं, जैसे ऑक्टोमॉम के डॉक्टर। दूसरें तब ही मदद करेगें, जब “चिकित्सा आवश्यकता” जरूरी हो।

1. एक डॉक्टर के आपके जुड़वाँ करने में मदद करने के लिए कई चिकित्सा कारण हैं।
यदि आप अधिक उम्र के हैं, तो डॉक्टर आपको जुड़वा बच्चों की सलाह दे सकते हैं, चूंकि जुड़वां करने में, दो एकल गर्भधारण करने से कम जन्म दोष की संभावना होती है।
अन्य कारण होते हैं कि क्यों एक औरत चिकित्सकीय रूप से एक से अधिक गर्भावस्था करने में सक्षम नहीं हो सकती, इसे सेकंडरी इनफर्टिलिटी के रूप में जाना जाता है। उम्र और फर्टिलिटी विंडोज जुड़वाँ करने की जरूरत के लिए अन्य कारण हैं।

2 .अगर आप आईवीएफ के दौर से गुजर रहे हैं, तो आप कुछ गंभीर पैसा खर्च कर रहे हैं: कई एग्स दाखिल करवाने में प्रभावी लागत होती है, चूंकि प्रत्येक आईवीएफ एग की दाखिल करने की कम संभावना होती है तो सबसे अच्छा है कि एक बार में कई एग्स की कोशिश करें।

3. क्लोमिड नामक एक ओरल मेडिसिन के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें: यह सामान्य रूप से उन महिलाओं को दी जाती है, जो ऑव्यूलेट नहीं करती हैं, लेकिन जब बिना किसी तकलीफ के यह महिलाओं द्वारा लिया जाता है, यह औरत पर निर्भर करते हुए जुड़वाँ होने की संभावना को 33% से अधिक कर देता है।

क्लोमिड एक सायकल में अधिक एग्स ड्रॉप करने के लिए ऑवरी को प्रोत्साहित करने का काम करता है। क्लोमिड तीन या उससे अधिक का परिणाम भी दे सकता है, तो सावधान रहें!

4. आईवीएफ करवाएं (इन्ट्रो विट्रो फर्टिलाइजेशन): आईवीएफ को “टेस्ट ट्यूब बेबीज” भी कहा जाता है।

आईवीएफ प्रक्रिया एक उच्च दर पर जुड़वा बच्चों में परिणाम देती है। आम तौर पर डॉक्टर एक के ठहरने की आशा में कई भ्रूण प्रत्यारोपण करने की कोशिश करेंगे, लेकिन अगर एक ठहरता है, तो दो की भी संभावना होती है। कुल मिलाकर, आईवीएफ में जुड़वा बच्चों के होने की संभावना 20% से 40% के बीच होती है।

आईवीएफ महंगा हो सकता है। कई क्लीनिक हैं जो कि आईवीएफ कर रहे हैं, तो रेफरल पा कर ही करवाने जाएं।
आईवीएफ अब काफी सामान्य है। यह सस्ता नहीं है या जल्दी नहीं होता, लेकिन यह इन दिनों असामान्य नहीं है।

सलाह

प्राकृतिक रूप से जुड़वां, भारत में 89 में से 1 गर्भधारण में पाए जाते हैं। केवल 0.4 प्रतिशत जन्म में जुड़वां एक समान होते हैं।
एक से अधिक की गर्भावस्था बहुत सी समस्याओं को बढ़ावा देती है, समय से पहले जन्म, कम वजन और नवजात शिशुओं की जन्म दोष की संभावना।

चेतावनी

जुड़वाँ करने की अपनी योजनाओं के बारे में अपने डॉक्टर से परामर्श लें। हर कोई अलग है, और हो सकता है ऊपर की कुछ जानकारी आपके मामले में लागू नहीं हो।
कभी भी चिकित्सक द्वारा परामर्श लिए बिना दवाई ना लें।
विशेष रूप से, वजन बढ़ाने या घटाने और अपने आहार के लिए चिकित्सक से परामर्श लें।
आईवीएफ महंगा हो सकता है, और हमेशा काम नहीं करता।

Related Articles

Close