नई दिल्ली – इन दिनों सोशल मीडिया पर एक तस्वीर वायरल हो रही है जिसमें एक मौलवी एक साधु को शराब पिलाते हुए दिखाई दे रहा है। आज कल ऐसी फोटो अक्सर हमारे सामने आ रही हैं, जिनका सच कुछ और है और वास्तविकता से कोई लेना देना नहीं है। दरअसल, हाल ही में दो तस्वीरे वायरल हुई हैं, जिनमें से एक में एक मौलवी एक साधु को शराब पिलाते हुए दिखाई दे रहा है। तो वहीं दूसरी में राहुल गांधी के पीछे टंगी तस्वीर में मुगल बादशाह दिखाई दे रहा है। तो आइये जानते हैं कि आखिर इस तरह की तस्वीरों का सच क्या है।

कांग्रेस के अध्यक्ष पद के लिए राहुल गांधी के नामाकंन भरते वक्त की एक तस्वीर सामने आई थी। राहुल गांधी द्वारा कांग्रेस के अध्यक्ष पद के लिए नामांकन भरते समय खिंची गई इस तस्वीर में ज्योतिरादित्य सिंधिया और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह बैठे दिखाई दे रहे  हैं। लेकिन, सबसे चौकाने वाली बात ये है कि इस तस्वीर में राहुल गांधी के पीछे एक तस्वीर टंगी हुई है जिसमें मुग़ल बादशाह औरंगज़ेब नजर आ रहा है।

इस तस्वीर के बारे में कहा जा रहा है कि कांग्रेस के कार्यालय में औरंगज़ेब की तस्वीर लगी है। यह तस्वीर इतनी वायरल हुई कि कांग्रेस को सामने आकर सफाई तक देनी पड़ गई। लेकिन, यह तस्वीर पूरी तरह से फोटोशॉप की गई है। जिसकी पुष्टी इंडियन यूथ कांग्रेस के अध्यक्ष अमरिंदर सिंह राजा द्वारा राहुल गांधी के कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए नामांकन भरते समय शेयर कि गई तस्वीर से हुआ। इस तस्वीर में राहुल गांधी के पीछे महात्मा गांधी की तस्वीर टंगी हुई नजर आ रही है।

बांग्लादेशी लेखक तस्लीमा नसरीन भी फर्जी तस्वीरों के जाल से नहीं बच सकी। अपने भी ट्विटर पर एक तस्वीर शेयर कर दी जिसमें एक भगवा धारी साधु को एक मुस्लिम व्यक्ति शराब देते दिखाई दे रहा है। हालांकि, तस्लीमा ने इस फोटो को शेयर तो किया है लेकिन, कोई कैप्शन नहीं दिया है।

लेकिन इस फोटोशॉप कि गई तस्वीर में पानी की ग्लास की जगह शराब की बोतल लगा दिया गया है। लेकिन, ध्यान से देखने पर दिखाई देगा कि गिलास में शराब नहीं बल्कि पानी भरा हुआ नजर आ रहा है। इस तस्वीर को लेकर यूजर्स ने तस्लीमा को खुब ट्रोल किया। कुछ लोगों ने असली तस्वीर शेयर करके तस्लीमा को सच्चाई बताई। यूजर ने लिखा यह तस्वीर ‘हिंदू-मुस्लिम एकता की प्रतीक है, लेकिन आप अपनी तुच्छ मानसिकता की वजह से हिंदू साधुओं और मुसलमानों पर कीचड़ उछाल रही हैं।’

Leave a Reply

Your email address will not be published.