जाने ब्रह्मोस मिसाइल के नाम से क्यों थर थर कांपते हैं दुश्मन देश

भारत की ब्रह्मोस मिसाइल दुनिया की प्रथम और अकेली,  ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल है, इसकी रफ्तार २.५ से ३.० मैक है.

इस का मतल हुआ की ब्रह्मोस मिसाइल १ सेकंड में  लगभग १ किलोमीटर की दूरी तय कर लेती है. ब्रह्मोस मिसाइल को पकड़ना दुनिया की किसी भी मिसाइल के लिए मुश्किल ही नहीं बल्कि नामुमकिन भी है.

brahmos_hypersonic_cruise_missile_idn

१ – ब्रह्मोस मिसाइल की सबसे बड़ी विशेषता है कि यह न्यूक्लियर वॉर हेड तकनीक से लैस है. अर्थात यह परमाणु हमला करने में सक्षम है.

२ – इसकी एक अन्य खूबी है कि इसको नभ, थल और जल से भी दागा जा सकता है. इसे पनडुब्बी से दागने के लिए दो सफल परीक्षण किए जा चुके हैं.

३ – ब्रह्मोस मिसाइल मेनुवरेबल तकनीक से लैस है. यानी यह हवा में ही मार्ग बदल सकती है और चलते फिरते लक्ष्य को भी भेद सकती है. दागे जाने के बाद यदि दुश्मन मिसाइल या हवाई जहाज अपना रास्ता बदल ले तो यह मिसाइल भी अपना रास्ता बदल लेती है और उसे गिराकर ही दम लेती है.

४ – यह मिसाइल १२०० यूनिट ऊर्जा पैदा कर २९० किलोमीटर दूरी तक के लक्ष्य को तहस नहस कर सकती है.

५ – इसको वर्टिकल या सीधे कैसे भी प्रक्षेपक से दागा जा सकता है.

आगे पढें अगले पेज पर

Leave a Reply

Your email address will not be published.