एएमयू के प्रोफेसर ने व्हॉट्सएप पर दिया तीन तलाक, बोला कुंवारी नहीं थी मेरी बीवी

सुप्रीम कोर्ट ने करीब दो महीने पहले एक झटके में ट्रिपल तलाक को संविधान के विपरीत यानी असंवैधानिक घोषित कर दिया था। मगर, इसके बावजूद भी सुप्रीम कोर्ट ऐसे मामलों पर रोक नहीं लगा पा रही है। कम से कम अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (एएमयू) के एक प्रोफेसर तो इससे सहमत नहीं लगते हैं। दरअसल मामला  ये है कि एएमयू के प्रोफेसर खालिद बिन यूसुफ खान ने अपनी पत्नी को व्हॉट्सएप पर तीन तलाक दिया है और जैसे ही ये खबर सामने आई है हंगामा सा मच गया है । वहीं प्रोफेसर की बीवी यासमीन खालिद ने तलाक मिलने के बाद धमकी दी है कि अगर उसके साथ न्याय नहीं हुआ, तो एएमयू के कुलपति तारिक मंसूर के घर के सामने बच्चों संग आत्महत्या कर लेंगी।

तलाक दिया तो कर लूंगी आत्महत्या

प्रोफेसर खालिद बिन यूसुफ खान पर उनकी पत्नी यासमीन खालिद ने तलाक मिलने के बाद धमकी दी है कि अगर उसके साथ न्याय नहीं हुआ तो वो एएमयू के वीसी के घर के सामने बच्चों संग आत्महत्या कर लेगी। यासमीन ने बताया कि मुझे खालिद ने घर से बाहर निकाल दिया और मैं इंसाफ के लिए यहां-वहां भटकती रही। लेकिन किसी ने मेरी मदद नहीं की। इसके बाद शुक्रवार को मैं पुलिस की मदद से किसी तरह अपने घर में घुसने में कामयाब हुई। यासमीन का आरोप है कि पहले तो खालिद ने उसे व्हॉट्सएप पर तलाक भेज दिया और फिर उसके बाद उसने टेक्सट मैसेज के जरिए तलाक दिया।

कुंवारी नहीं थी मेरी बीवी

दूसरी तरफ, प्रोफेसर खालिद यूसुफ खां ने यासमीन के आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया है। उन्होंने कहा कि मैंने उसे केवल वॉट्सऐप और एसएमएस के जरिए नहीं बल्कि दो लोगों के सामने बोल के भी तलाक दिया है। खालिद इस मामले में खुद को असली पीड़ित मानते हैं… उन्होंने कहा कि यासमीन पिछले दो दशकों से उनका उत्पीड़न कर रही हैं। यासमीन से उनके निकाह के दौरान काफी चीजें छुपाई गईं थीं।  शादी से पहले बीवी ने खुद को ग्रेज्युएट व कुंवारी बताया था। वह ग्रेज्युएट नहीं थीं और शादीशुदा भी थीं। बदनाम किया जा रहा हूं। घर से निकाल दिया गया हूं। बेटी के साथ किराये पर रह रहा हूं। मैंने दो गवाहों की मौजूदगी में तलाक दिया है। वाट्सएप व रजिस्टर्ड पत्र से भी तलाक भेजा है। अभी दो बार प्रक्रिया हुई है, तलाक नहीं हुआ है। तीसरी बार तलाक हो, ये अभी से नहीं कहा जा सकता। मैं दिव्यांग हूं, किसी को क्या चोट पहुंचा सकता हूं?

मेट्रोमोनियम से हुई थी शादी

प्रोफेसर खालिद युसूफ की कश्मीर निवासी पत्नी यासमीन खालिद से मेट्रोमोनियम के जरिये 1995 में अलीगढ़ में ही शादी हुई थी। उनके एक बेटा व दो बेटियां हैं। पिछले कुछ दिनों से मियां-बीवी के पैदा हुई और मामला तलाक तक पहुंच गया। प्रो. खालिद ने 30 सितंबर व एक नवंबर को तीन तलाक दिया। कानून के हिसाब से दिसंबर में तीसरी बार तीन तलाक देना होगा। प्रोफेसर ने वाट्सएप के अलावा रजिस्ट्री से भी पत्नी को दो बार तलाक की कार्रवाई भेजी। पत्नी ने एसएसपी व एएमयू इंतजामिया से शिकायत की, मगर मामला नहीं सुलझा। रविवार को वे बेटी व बेटा के साथ थाने पहुंचीं।

फिलहाल मामला इसलिए भी सुर्खियों में है क्योंकि सुप्रीम कोर्ट की पांच जजों की बेंच ने इसी साल अगस्त में इस तरह तीन तलाक देने को असंवैधानिक ठहराया था।

Share this

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.