राजनीति

मलेशिया सरकार ने कहा कि अगर भारत माँग करे तो वह सौंप देंगे इस्लामिक उपदेशक ज़ाकिर नाईक को

नई दिल्ली: भारत के विवादित इस्लामिक उपदेशक ज़ाकिर नाईक को तो आप लोग नहीं भूले होंगे। आपको बता दें जाकिर नाईक पाने बयानों और उपदेशों की वजह से हर समय चर्चा में रहते थे। हालांकि कुछ दिनों से उनका कोई विवादित बयान नहीं आ रहा है। उसकी वजह यह है कि वह इस समय भारत में नहीं बल्कि मलेशिया में शरण लेकर छुपे हुए हैं। ऐसा हम नहीं बल्कि सूत्रों से मिली जानकारी कहती है।

ज़ाकिर नाईक को देखा गया मलेशिया की एक मस्जिद में:

हाल ही में मलेशिया सरकार ने कहा है कि अगर भारत से प्रत्यार्पण आवेदन आएगा तो ज़ाकिर नाईक को भारत को सौंप दिया जायेगा। इसके लिए ट्रीटी के तहत भारत की तरफ से आवेदन मिलना जरुरी है। मलेशिया की सरकार ने अपनी संसद में माना है कि भारत से भागकर ज़ाकिर नाईक उनके देश में छुपा हुआ है। हाल ही में जाकिर नाईक को मलेशिया के एक मस्जिद में देखे जाने की खबरें भी सामने आयी थी।

ज़ाकिर नाईक को सौंप देगी उनकी सरकार भारत के हवाले:

मलेशिया के उप प्रधानमंत्री और गृह मंत्री अहमद ज़ाहिद हमीदी ने कहा कि अगर भारत की तरफ से प्रत्यर्पण का आवेदन मिलता है तो उनकी सरकार ज़ाकिर नाईक को भारत के हवाले सौंप देगी। हमीदी ने मलेशियाई संसद में ज़ाकिर नाईक को लेकर उठे सवालों पर कहा कि “अभी तक भारत की तरफ से प्रत्यर्पण का कोई आवेदन नहीं मिला है। लेकिन अगर म्यूचुअल लीगल असिस्टेन्स ट्रीटी के तहत भारत की ओर से आवेदन मिला तो ज़ाकिर को प्रत्यर्पित कर दिया जाएगा।“

नहीं ख़त्म होगी ज़ाकिर नाईक की मलेशिया की नागरिकता:

हालांकि हमीदी ने ज़ाकिर को मिली मलेशिया की परमानेंट नागरिकता को खत्म करने से यह कहते हुए इनकार कर दिया कि उसके खिलाफ मलेशिया कानून के तहत कोई अपराध दर्ज नहीं है, इस वजह से ज़ाकिर नाईक की मलेशिया की नागरिकता को कतम नहीं किया जा सकता है। आपको बता दें बीते सप्ताह विदेश मंत्रालय प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा था कि भारत ज़ाकिर नाईक के प्रत्यर्पण के लिए औपचारिक आवेदन की तैयारी कर रहा है और जल्दी ही यह काम पूरा हो जाएगा।

Back to top button