राजनीति

गुजरात में दौरे के दौरान राहुल गाँधी को मिले दो डाई हार्ड फैन, दिखाया गुजरात का असली सच

नई दिल्ली: कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गाँधी का गुजरात दौरा तेजी से चल रहा है, हालांकि आज उनके दौरे का आख़िरी दिन है। राहुल गाँधी अपने गुजरात दौरे के दौरान बीजेपी और पीएम मोदी के खिलाफ तीखे तेवर दिखाते रहे हैं। बीजेपी पर हमला बोलने का कोई मौका उन्होंने अपने हाथ से जानें नहीं दिया। राहुल गाँधी के इन आक्रामक तेवरों के बीच उनके दो ऐसे फैन भी हैं जिन्हें राजनीति से कोई लेना-देना नहीं है। लेकिन राहुल गाँधी के डाई हार्ड फैन हैं।

दोनों ही नहीं हुए वोट डालने वाली उम्र के:

गुजरात में दौरे के दौरान राहुल गाँधी को मिले दो डाई हार्ड फैन, दिखाया गुजरात का असली सच

इन दोनों का कहना है कि ये राहुल गाँधी के सबसे बड़े फैन हैं। इनकी पहली फैन भरूच की मंतशा इब्राहीम सेठ और दुसरे वलसाड के रहने वाले मानव पटेल हैं। जहाँ मंतशा 10वीं की छात्रा है तो वहीँ मानव केवल 16 साल के हैं। दोनों ही वोट डालने लायक नहीं हुए हैं। लेकिन राहुल गाँधी के प्रति इनकी दीवानगी देखते ही बनती है। आज राहुल गाँधी वलसाड में रोड शो के दौरान एक गली से गुजरते हुए अपनी गाड़ी पर एक बच्चे को बिठा लिया।

राहुल गाँधी के रोड शो के दौरान गाड़ी पर खड़े रहे मानव:

गुजरात में दौरे के दौरान राहुल गाँधी को मिले दो डाई हार्ड फैन, दिखाया गुजरात का असली सच

बच्चे ने राहुल गाँधी के साथ गाड़ी पर खड़े होकर रोड शो भी किया। वह कोई और नहीं बल्कि मानव पटेल थे। राहुल गाँधी ने बताया कि मानव पटेल ने उन्हें गुजरात का असली सच दिखाया है। रोड शो ख़त्म होने के बाद राहुल गाँधी ने 16 साल के मानव पटेल को खाने के लिए चॉकलेट भी दी। राहुल गाँधी के साथ रोड शो करने के बाद मानव पटेल ने कहा कि उन्हें सिर्फ दो ही नेता अच्छे लगते हैं, पहले हार्दिक पटक और दुसरे राहुल गाँधी।

पहली ही कोशिश में हो गया मंतशा का सपना पूरा:

गुजरात में दौरे के दौरान राहुल गाँधी को मिले दो डाई हार्ड फैन, दिखाया गुजरात का असली सच

दूसरी तरफ मंतशा बताती हैं कि वह बहुत समय से राहुल गाँधी से मिलना चाहती थीं। वह राहुल गाँधी के साथ सेल्फी भी लेना चाहती थी। उन्होंने कहा कि उनकी पहली कोशिश में ही उनका सपना पूरा हो गया। इससे वह बहुत खुश हैं। मंतशा ने बताया कि वह राहुल गाँधी से मिलने के लिए स्कूल भी नहीं गयी। मंतशा ने कहा कि राहुल गाँधी के साथ सेल्फी लेना किसी सपने के सच होने जैसा है। मंतशा अपने स्कूल की टॉपर है और बड़ी होकर पायलट बनना चाहती है।

Back to top button