जिनपिंग ने कहा – भारत से युद्ध के लिए तैयार रहे चीनी सैनिक, भारत ने दिया कुछ ऐसा जवाब की…

बीजिंग – शी चिनफिंग चीन के राष्ट्रपति के तौर पर अपना दूसरा कार्यभार संभाल चुके हैं। दुसरी बार लगातार राष्ट्रपति के तौर पर अपना कार्यभार संभालते ही उन्होंने चीनी सैनिकों को किसी भी वक्त तैयार रहने के लिए कहा है। आपको बता दें पांच साल में एक बार होने वाली कम्युनिस्ट पार्टी की कांग्रेस में पार्टी, सेना और प्रेजिडेंसी ने नेतृत्व के लिए शी चिनफिंग को फिर से चुना गया है, यानि वो एक बार फिर से 5 सालों तक चीन का राष्ट्रपति रहेंगे। पार्टी के संविधान में चिनफिंग के सिद्धांतों को जगह मिलने से वो अब माओत्से तुंग के बराबर के नेता हो गए हैं। Statement of xi jinping india.

 

दूसरी बार चीन के राष्ट्रपति बने शी जिनपिंग

चीन की कम्युनिस्ट पार्टी ने कांग्रेस की बैठक के लिए 2,287 प्रतिनिधियों का चुनाव किया, जिन्होंने राष्ट्रपति शी जिनपिंग को दूसरी बार चीन का राष्ट्रपति घोषित किया। इसी बैठक के दौरान शी ने अपनी सरकार के लिए नये अधिकारियों का चयन भी किया। आपको बता दें कि हाल ही में भारत और चीन के बीच डोकलाम में सड़क बनाने को लेकर काफी बड़ा विवाद हुआ था। दरअसल, यह विवाद डोकलाम को लेकर था जिसे भूटान अपना क्षेत्र मानता है और चीन उस पर दावा करता है। चीन को इस बात का अंदाजा था कि अगर वह डोकलाम के मुद्दे को उठायेगा तो इसका असर भारत-चीन सीमा पर भी पड़ेगा।

चिनफिंग ने कहा, युद्ध के लिए तैयार रहे सेना

दूसरी बार राष्ट्रपति का कार्यभार संभालते ही शी चिनफिंग ने चीनी सैनिकों को किसी भी वक्त भारत से युद्ध के लिए तैयार रहने को कहा है। न्यूज एजेंसी ने साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट के मुताबिक चिनपिंग ने गुरुवार रात टॉप आर्मी अफसरों के साथ मीटिंग की थी। इस मीटिंग के दौरान उन्होंने सेना अधिकारियों से पार्टी के लिए चीन के प्रति वफादार रहने को कहा है। साथ ही चिनपिंग चीनी अधिकारियों को युद्ध में जंग जीतने पर फोकस करने, नियमों का पूरी तरह पालन करने और सेना को जंग के लिए तैयार रहने के लिए भी कहा है।

भारत ने कहा, हमें शांति की उम्मीद

गौरतलब है कि, डोकलाम का विवाद के थोड़ा ठंड़ा पड़ने के बाद पहली बार चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने दूसरा कार्यकाल शुरू होते ही चीनी सेना से युद्ध के लिए तैयार रहने को कहा है। भारत ने भी इस पर अपनी प्रतिक्रिया दि है।  भारत ने कहा है कि हमें उम्मीद है कि चीन में जिनपिंग के नए कार्यकाल में दोनों देशों के बीच शांति और स्थिरता कायम रहेगी। जिनपिंग के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा, ‘हम उम्मीद करते हैं कि चिनफिंग के नेतृत्व में पार्टी कांग्रेस की दिशा और नीति द्विपक्षीय संबंधों के साथ-साथ स्थिरता और शांति को भी आगे बढ़ाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.