स्तनपान कराने में असमर्थ मांओं के लिए आया इंसानी मिल्क बैंक

बहुत सी महिलाएं अपने बच्चों को स्तनपान नहीं करवा पाती. ऐसे में बच्चे और मां दोनों में ही कमजोरी रह जाती है और दोनों को ही कई तरह की बीमारियां होने का खतरा रहता है. अब ऐसी नई माताओं के लिए जो विभिन्न कारणों से अपने बच्चों को स्तनपान कराने में असमर्थ हैं, उनके लिए एक अच्छी खबर आई है.

क्या है मामला :

आपने ब्ल‍ड बैंक, अंगदान बैंको के बारे में तो सुना होगा लेकिन क्या मिल्क बैंक के बारे में सुना है. जी हां, अब एक ऐसा बैंक खोला गया है जहां इंसानी दूध मौजूद होगा. यानी जो महिलाएं अपने बच्चों को स्तनपान नहीं करवा पाती, वे इस बैंक से दूध लेकर बच्चों को आसानी से मां का दूध दे सकती हैं.

किसने उठाया ये कदम :


यह एक गैर-लाभकारी संगठन ब्रेस्ट मिल्क फाउंडेशन (बीएमएफ) के सहयोग से फोर्टिस ला फेम (महिलाओं और बच्चों के लिए अस्पताल), रिचमंड रोड द्वारा संचालित किया जा रहा है.

किन महिलाओं के लिए है ये बैंक :

अगर एक मां का अपना दूध बच्चे के लिए अनुपलब्ध या अपर्याप्त है, तो ये बैंक सर्वोत्तम विकल्प साबित हो सकता है. बच्चे को यहां का मिल्क देने के लिए पेस्टर्काइज्ड डोनर मैन्युअल डिब्ब (पीडीएचएम) का उपयोग करना है, जिसे इस बैंक द्वारा संग्रहीत और आपूर्ति की जाएगी.

दिल्ली में भी हैं ये बैंक :

हालांकि मानव दूध बैंक दुर्लभ हैं. अब तक केवल दिल्ली में इस तरह के एक बैंक देश में है. ला फेम दिल्ली और स्तन मिल्क फाउंडेशन के सह-संस्थापक निनाटोलॉजी के डॉ. रघुराम मल्लियाह ने कहा कि दिल्ली के मिल्क बैंक में 18 महीनों में हमारे पास लगभग 100 दाता मां और 750 लीटर दूध संसाधित हुआ है और सरकारी अस्पतालों सहित हमने 500 बच्चों के लिए दूध मुहैया करवाया है.

अब खुला है बेंगलुरु में :


बेहतर जागरूकता के कारण टीम को बेंगलुरु में प्रतिक्रिया बहुत ज्यादा होगी. अनिका पराशर सीओओ फोर्टिस ला फेमे ने कहा, “आईटी शहर में अधिक क्षमता है और जब हम उचित आंकड़े इकट्ठा करते हैं, तो संख्या दिल्ली के आंकड़ों से अधिक हो सकती है. हम प्राप्तकर्ताओं, दाताओं, लैक्टेशन विशेषज्ञों और स्त्रीरोग विशेषज्ञों से प्रतिक्रिया प्राप्त करना शुरू कर चुके हैं. पहले से ही नई मांओं को बैंक के बारे में बताना शुरू कर दिया है.”

दाताओं और प्राप्तकर्ताओं के संबंध में बैंक सख्त दिशा निर्देशों का पालन करेगा. केवल अस्पतालों से आने वाले कॉल्स पर कार्रवाई करेंगे, न कि मां के. इसके अलावा, दाताओं के पास पंजीकरण करने के बाद बैंक को विभिन्न परीक्षणों से गुजरना पड़ेगा है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.