भारत में कई ऐसे रहस्य हैं जिनके बारे में कोई नहीं जनता है। सही कहा जाता है कि भगवान के खेल समझना किसी के बस की बात नहीं है। साधारण इंसान भगवान के खेल के बारे में कुछ नहीं जानता है। जो लोग भगवान के ऊपर भरोसा नहीं करते हैं, उनके ये चमत्कार देखने के बाद वो भी हैरत में पड़ जाते हैं। आज के वैज्ञानिक युग में हर काम के पीछे के कारण के बारे में पता लगाया जा सकता है, लेकिन कुछ चीजों का राज वैज्ञानिक भी नहीं खोल पाए हैं।

मंदिर का रहस्य जानकर उड़ जायेंगे आपके होश:

आपको तो पता ही है कि भारत एक धार्मिक देश है। यहाँ कई धर्मों के लोग आपस में बड़े प्रेम से मिलकर रहते हैं। लेकिन यहाँ सबसे ज्यादा हिन्दू धर्म को मानने वाले लोग हैं। यहाँ हिन्दू देवी-देवताओं की कई प्राचीन मंदिर भी हैं। कुछ मंदिर तो इतनें प्राचीन और रहस्यमयी हैं कि उनके बारे में जानने के बाद हर कोई हैरानी में पड़ जाता है। जी हाँ आज हम आपको एक ऐसे ही रहस्यमयी मंदिर के बारे में बतानें जा रहे हैं, जिसके रहस्य के बारे में जानकर आपके होश उड़ जायेंगे।

भगवान शिव के भारत ही नहीं विदेशों में बड़ी संख्या में भक्त हैं। भगवान शंकर के कई ऐसे प्राचीन मंदिर हैं जो भारत के अलावा दुसरे देशों में भी हैं। नेपाल में प्राचीन पशुपतिनाथ का मंदिर भगवान शिव का ही है। कम्बोडिया में भी भगवान शिव के कई प्राचीन मंदिर हैं। कई मंदिर तो इतने भव्य हैं कि उनकी भव्यता देखते ही बनती है। आज हम आपको भगवान शिव के ही चमत्कारी और रहस्यमयी मंदिर के बारे में बतानें जा रहे हैं। आपको बता दें यह रहस्यमयी मंदिर धौलापुर का अन्चलेश्वर मंदिर है।

अपनी ख़ासियत की वजह से पुरे विश्व में प्रसिद्ध है यह शिवलिंग:

आपको जानकर काफी हैरानी होनें वाली है कि इस मंदिर में होनें वाली घटनाओं को देखकर वैज्ञानिक भी हैरान हो गए हैं। अब आप सोच रहे होंगे कि आखिर इस मंदिर में ऐसी कौन सी घटना घटती है। सब्र कीजिये जनाब जल्दी ही हम आपको उसके बारे में बताएँगे। मध्यप्रदेश और राजस्थान की सीमा पर स्थित यह भगवान शिव का विश्वप्रसिद्ध शिवलिंग है। यह मंदिर धौलपुर जिले में स्थित है, जो अपनी ख़ासियत की वजह से पुरे विश्व में प्रसिद्ध है। आप इस शिवलिंग को भूलकर भी आम ना समझें।

वैज्ञानिक भी हुए हैं रहस्य सुलझानें में नाकामयाब:

इस शिवलिंग की सबसे बड़ी ख़ासियत यह है कि यह शिवलिंग दिन में ही तीन बार रंग बदलता है। ऐसा कभी-कभी नहीं बल्कि हर रोज होता है। इस शिवलिंग के बारे में कहा जाता है कि इसका कोई अंत नहीं है। लोगों ने शिवलिंग के अंत के बारे में जानने के लिए इसकी खुदाई भी की लेकिन इसके अंत का पता नहीं चला। आजतक इस शिवलिंग के रहस्य को कोई नहीं सुलझा पाया है। यह शिवलिंग दिन में तीन बार रंग बदलता है, इसकी वजह से यह लोगों के आकर्षण का केंद्र बना रहता है। दुनिया भर के वैज्ञानिक इस शिवलिंग के रहस्य को सुलझानें में नाकामयाब हुए हैं। इस मंदिर की ख़ासियत की वजह से यहाँ हर साल भक्तों का ताँता लगा रहता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.