ब्रेकिंग न्यूज़

सेना ने लगाई हैट्रिक : तीन आतंकी संगठनों को दिया ज़ोर का झटका, 4 आतंकी को पहुँचाया जहन्नुम

जम्मू-कश्मीर – सोमवार के दिन आतंकी संगठनों और आतंकियों पर भारतीय सेना काल बनकर टूट पड़ी। भारतीय सेना के जवानों ने घाटी में हुए दो अलग-अलग मुठभेड़ में चार आतंकियों को मार गिराया। खास बात ये है कि दोनों मुठभेड़ में कुछ ही घंटो के समय का अन्तर था। भारतीय जवानों ने इन दो मुठभेड़ में घाटी में सक्रिय तीन बड़े आतंकी संगठन के 4 आतंकियों को मार गिराया। सेना द्वारा मुठभेड़ में मारे गए चार आतंकियों में दो हिजबुल, एक जैश-ए-मोहम्मद व एक लश्कर-अ-तैयबा के आतंकी थे, जिनकी तलाश काफी दिनों से चल रही थी। encounter between terrorist and security forces.

 सुरक्षा बलों को बड़ी कामयाबी, चार आतंकी ढेर

जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा बलों ने सोमवार को शोपियां में प्रमुख आतंकी जाहिद सहित हिजबुल मुजाहिदीन के तीन आतंकियों को मार गिराया। शोपियां जिले के केल्लर इलाके में सुरक्षा बलों के साथ एक अन्य मुठभेड़ में हिजबुल मुजाहिदीन के एक आतंकी को मार गिराया गया। मारे गए आतंकियों में हिजबुल मुजाहिदीन का मुख्य आतंकी जाहिद भी शामिल है। जैश-ए-मोहम्मद का मारा गया आतंकवादी हवाई अड्डे के निकट बीएसएफ के एक शिविर पर हुए हमले का मास्टरमाइंड था।

 

ऐसे मारे तीन आतंकी संगठनों के चार आतंकी

सोमवार सुबह उत्तरी कश्मीर के बारामूला में सेना के जवानों ने आतंकी हमले की फिराक में आए जैश-ए-मुहम्मद के कमांडर आतंकी खालिद को मार गिराया। बताया जा रहा है कि घाटी में जैश द्वारा किए गए सभी हमलों के पीछे यही मास्टरमाइंड था। आतंकी खालिद ए++ कैटेगरी का था। इसके बाद शाम को शोपियां में सुरक्षा बलों और आतंकियों में हुई मुठभेड़ में हिजबुल के जाहिद मीर व आसिफ अहमद को मार गिराया गया। इसके बाद नंबर आया लश्कर-ए-तैयबा के आतंकी का जिसकी पहचान लश्कर का इरफान के रूप में हुई है। पुलिस के मुताबिक मुठभेड़ में मारे गए आतंकियों में से दो के शव बरामद हुए हैं और तीसरे की तलाश की जा रही है।

 

प्रेमिका के चक्कर में मारा गया अबू खालिद

जैश-ए-मुहम्मद का कमांडर अबू खालिद को अपनी प्रेमिका को नाराज करना काफी भारी पड़ा। लगभग 20 साल की उसकी प्रेमिका व कश्मीर की रहने वाली लड़की ने जैश-ए-मोहम्मद के कमांडर खालिद को मरवाने में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। दरअसल, एक साल पहले वह प्रैगनैंट हो गई थी। उसने यह बात खालिद को बताई तो खालिद ने कहा कि उसका उससे कोई लेना-देना नहीं है। अपने अपमान का बदला लेने के लिए इस युवती ने एक निश्चित स्थान पर खालिद की मौजूदगी होने के बारे में पुख्ता सूचना सेना को दी थी। सूचना मिलने के बाद पुलिस की टीम वहां पहुंची और इलाके को घेर लिया, लेकिन खालिद वहां से निकल चुका था। फिर इसके एक साल बाद 9 अक्तूबर, 2017 की सुबह को इसी प्रेमिका की सुचना पर सेना ने खालिद मार गिराया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close