इन 5 लोगों के साथ हमेशा सख्ती से पेश आएं, नर्मी बरतने पर हो सकता है आपका भारी नुकसान

बचपन से ही हमें यह सीख मिलती है कि बड़ों का आदर और छोटों का सम्मान करें. सबसे प्रेम से बात करें और नर्मी से पेश आयें. ऐसा करने पर आपस में प्रेम बना रहता है और रिश्तों में मिठास रहती है. लेकिन यदि धार्मिक ग्रंथ गरुड़ पुराण की बात करें तो उसमें कुछ और ही लिखा है. गरुड़ पुराण के अनुसार कुछ लोगों के साथ हमें कभी नर्मी से पेश नहीं आना चाहिए. इनके साथ हमेशा सख्त होकर रहना चाहिए. यह जानकर आप थोड़ा हैरान हो सकते हैं लेकिन आत्मा, परमात्मा, स्वर्ग, नर्क, पाप, पुण्य का पाठ पढ़ाने वाले इस धार्मिक ग्रंथ में यही लिखा है. इस संबंध में गरुड़ पुराण में क्या उल्लखित है, आईए जानते हैं.

गरुड़ पुराण के अनुसार इन लोगों के साथ हमेशा सख्ती से पेश आना चाहिए

बुरे स्वभाव वाला व्यक्ति

गरुड़ पुराण के अनुसार बुरे स्वभाव वाले व्यक्ति के साथ हमें कभी भी नर्मी से पेश नहीं आना चाहिए. इन व्यक्तियों के साथ आप कितना भी अच्छा आचरण कर लें उसके बावजूद वह आपके साथ बुरा ही  करेंगे. यह भूल जाएं कि आपके अच्छा बर्ताव करने पर वह भी वैसा ही करेंगे. इसके विपरीत वह आपकी अच्छाई का फ़ायदा उठाएंगे और आपको हमेशा उनसे धोखा ही मिलेगा.

दुर्जन व्यक्ति

दुर्जन मतलब नीच, शरारती या फिर धूर्त व्यक्ति के साथ प्यार से पेश आने पर वह आपको बेवक़ूफ़ समझने लगेंगे. इन लोगों की सोच यह होती है कि जो व्यक्ति प्यार से बात करता है वह कमज़ोर होता है. उन्हें लगता है कि ऐसे लोगों को कभी भी धोखा दिया जा सकता है. इसलिए इनके साथ हमेशा तेज़ तर्रार जुबान का इस्तेमाल करें तभी आप अपना काम करवा पाएंगे.

शिल्पकार

गरुड़ पुराण में वर्णित एक श्लोक के अनुसार हमें शिल्पकारों के साथ भी सख्ती से पेश आना चाहिए. शिल्पकारों को ढील देने पर वह अपनी काम की रफ़्तार धीमी कर लेते हैं और अपने अनुसार काम करने लगते हैं. दरअसल यह बात उन लोगों पर ज़्यादा लागू होती है जो कामचोर होते हैं और केवल खानापूर्ति के लिए ही काम करते हैं. दिल और ईमानदारी के साथ काम करने वाले शिल्पकारों के साथ कम सख्ती से पेश आया जा सकता है.

नौकर

घर या ऑफिस में काम करने वाले नौकर भली-भांति अपने काम से परिचित होते हैं. लेकिन ये कामचोरी ना करें और ग़लतियां ना दोहराएं इसके लिए इनके साथ सख्ती से पेश आना ज़रूरी है. ध्यान हटने पर यह लापरवाही पर उतर आएंगे.

ढोलक

जी हां, ढोलक के साथ भी हमें कभी नर्मी से पेश नहीं आना चाहिए. यदि आप इनके साथ नर्मी से पेश आएंगे तो आप ही बताईये इनमें से तेज़ आवाज़ आएगी क्या? इसलिए ढोलक को बजाते समय पूरी उर्जा का इस्तेमाल करना चाहिए और तेज़ आवाज़ के लिए सख्ती से बजाना चाहिए.

लेकिन शास्त्रों के अनुसार, स्त्रियों के साथ कभी भी सख्ती से पेश नहीं आना चाहिए. इससे हमारा भविष्य बिगड़ सकता है. घर की बहु-बेटियों के साथ हमें नर्मी से ही पेश आना चाहिए. इनसे अगर ग़लती हो जाए तो उसे सुधारें परंतु कभी भी उंची आवाज़ में बात न करें.