ठंड का मौसम आने पर या ज़्यादा पानी पीने पर बार-बार यूरिन जाने की समस्या आती है. लेकिन अगर आपको लंबे समय तक यह समस्या रहती है तो इसे इग्नोर ना करें. बॉम्बे हॉस्पिटल के सीनियर यूरोलॉजिस्ट डॉ. विवेक झा के मुताबिक किसी गंभीर बीमारी के होने पर भी व्यक्ति बार-बार यूरिन जा सकता है. इसलिए आज हम बात करने जा रहे हैं बार-बार यूरिन जाने के पीछे कुछ महत्वपूर्ण कारणों की.

क्यों आती है बार-बार यूरिन

  • अगर आपका पेल्विक मसल्स कमज़ोर होगा तो इस वजह से भी बार-बार यूरिन जाने की समस्या हो सकती है.

  • यदि आप बार-बार यूरिन जाते हैं तो एक बार डायबिटीज़ और किडनी का टेस्ट ज़रूर करवा लें. किडनी डिजीज़ और डायबिटीज़ होने पर भी व्यक्ति कई बार पेशाब जाता है.

  • अगर आपके शरीर में यूरिन जमा करने वाले ब्लैडर का साइज़ छोटा होगा तब भी बार-बार यूरिन जाने की समस्या होने लगती है.

  • 7 से 8 ग्लास पानी पीना सेहत के लिए फ़ायदेमंद होता है. लेकिन पानी का अधिक सेवन करने पर ब्लैडर जल्दी फुल हो जाता है जिससे बार-बार यूरिन के लिए जाना पड़ता है.

  • व्यक्ति को अगर किडनी स्टोन की दिक्कत होगी तो उसके ब्लैडर पर प्रेशर पड़ेगा. ब्लैडर पर प्रेशर पड़ने से यूरिन जाने की इच्छा होती है.

  • अगर आपका ब्लैडर ओवर एक्टिव होगा तो बॉडी में थोड़ा सा भी लिक्विड जाने पर यूरिन जाने की इच्छा होगी.

  • जैसे-जैसे उम्र बढ़ती है ब्लैडर की नर्व्स कमज़ोर होने लगती है और यह ब्लैडर के फुल होने का एहसास कराती है.

  • बॉडी में शुगर का लेवल बढ़ने पर एक्स्ट्रा ग्लूकोज़ यूरिन के माध्यम से बाहर निकलता है. इस वजह से भी बार-बार यूरिन जाना पड़ सकता है.

  • चाय-कॉफ़ी में कैफ़ीन की मात्रा अधिक होती है और इस वजह से भी आपको बार-बार यूरिन के लिए जाना पड़ सकता है. इसके अलावा शराब के अधिक सेवन पर भी यह समस्या होती है.

  • यदि व्यक्ति को यूरिन इन्फेक्शन है या प्रोस्टेट ग्लैंड बढ़ गया है, तो इस वजह से भी बार-बार यूरिन जाने की इच्छा होती है.

  • प्रोस्टेट कैंसर या यूरिनरी ट्रैक्ट के कैंसर भी बार-बार यूरिन जाने की समस्या को बढ़ा सकते हैं.

  • ज़्यादा स्ट्रेस लेने पर या घबराहट और डर महसूस करने पर भी यूरिन बार—बार आता है. इसके अलावा अगर व्यक्ति को कोई अन्य साइकोलॉजिकल प्रॉब्लम होगी तो भी वह बार-बार यूरिन जाएगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published.