राजनीति

KCR की बेटी के कविता आज दिल्ली में कर रही है भूख हड़ताल, 11 मार्च को ED के समक्ष पेश होंगी

तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव (KCR) की बेटी और भारत राष्ट्रीय समिति (BRS) की वरिष्ठ नेता तथा पार्टी प्रमुख के कविता आज नई दिल्ली में भूख हड़ताल कर रही हैं। उन्होंने गुरुवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इसकी जानकारी दी। कविता ने यह कहा था कि वह 10 मार्च को राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में भूख हड़ताल करेंगी। उन्होंने गुरुवार को यह भी कहा था कि इसमें 18 पार्टीयां हिस्सा लेंगी। दरअसल, संसद में महिला आरक्षण बिल पेश किए जाने की मांग को लेकर कविता भूख हड़ताल पर हैं।

दिल्ली के जंतर मंतर पर के कविता के दिनभर के भूख हड़ताल में 12 पार्टियों के नेताओं के शामिल होने की संभावना जताई जा रही है। जिनमें तृणमूल कांग्रेस (TMC), राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP), नेशनल कॉन्फ्रेंस, जनता दल यूनाइटेड (JDU), राष्ट्रीय जनता दल (RJD) और समाजवादी पार्टी (SP) शामिल हैं। आपको बता दें कि दिल्ली के शराब नीति घोटाले के सिलसिले में BRS की नेता से शनिवार को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) पूछताछ करेगी।

11 मार्च को ED के समक्ष पेश होंगी कविता

गुरुवार के दिन पत्रकारों से बातचीत करते हुए के कविता ने यह कहा था कि “हमने 2 मार्च को एक पोस्टर जारी किया था कि महिला आरक्षण बिल को लेकर दिल्ली में 10 मार्च को भूख हड़ताल करेंगे। 18 दलों ने अपनी भागीदारी की पुष्टि की। ईडी ने मुझे 9 मार्च को बुलाया था। मैंने 16 मार्च के लिए अनुरोध किया लेकिन पता नहीं क्या जल्दी है उन्हें। सो, इसलिए मैं 11 मार्च के लिए मान गई।

वहीं कविता ने यह भी कहा कि “मुझसे सवाल करने के लिए ED जल्दीबाजी क्यों कर रही है, और क्यों उन्होंने मेरे विरोध प्रदर्शन से 1 दिन पहले का वक्त चुना? पूछताछ एक दिन बाद भी हो सकती थी।” वहीं कविता का ईडी के केस में यह आरोप है कि वह साउथ कारटेल का हिस्सा हैं, जिसे दिल्ली की अब रद्द कर दी गई। शराब नीति से दलाली के तौर पर फायदा पहुंचा। के. कविता ने सभी आरोपों से इनकार किया और केंद्र सरकार पर राजनैतिक फायदे के लिए केंद्रीय एजेंसियों के दुरुपयोग का आरोप लगाया।

BRS की नेता ने कहा “पिछले जून से भारत सरकार लगातार अपनी एजेंसियों को तेलंगाना भेज रही है… क्यों…? क्योंकि नवंबर या दिसंबर में तेलंगाना में चुनाव होने वाले हैं…” असल मुद्दों से ध्यान भटकाने की भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की कोशिशें हैं, यह बात भी के. कविता ने कही।

महिला आरक्षण बिल पर ये बोलीं के. कविता

वहीं महिला आरक्षण बिल पर बोलते हुए कविता ने कहा कि “भाजपा ने वादा किया था कि वह पूर्ण बहुमत में आने पर महिला आरक्षण को लागू करेगी। 2014 और 2019 में दो बार बीजेपी पूर्ण बहुमत में सत्ता में रही लेकिन इसके बावजूद भी उसने अपना वादा पूरा नहीं किया।

के कविता ने कहा कि “महिला आरक्षण बिल महत्वपूर्ण है और हमें इसे जल्दी लाने की जरूरत है। मैं सभी महिलाओं से वादा करती हूं कि बिल पेश किए जाने तक यह विरोध नहीं रुकेगा।” आपको बता दें कि यह बिल लोकसभा और विधानसभाओं में महिलाओं को एक-तिहाई आरक्षण देने के लिए एक संवैधानिक संशोधन का प्रस्ताव करता है।

Back to top button
?>