आज का गुड लक: बन रहा है धन के देवता कुबेर को खुश करने का योग, भर जायेगा आप घर-बार

आज दिनांक 01.09.2017 शुक्रवार के दिन भाद्रपद महीने के शुक्लपक्ष की दशमी पड़ रही है। इस दशमी को कुबेर पूजन का विधान है। भाद्रपद महीने के शुक्लपक्ष की अष्टमी से लेकर आश्विन कृष्ण पक्ष की अष्टमी के 16 दिनों के विशेष काल के दौरान यक्ष साधना से व्यक्ति के जीवन में स्थायी समृद्धि आती है। हिन्दू पौराणिक धर्मग्रंथों के अनुसार यक्षराज कुबेर उत्तर दिशा के दिक्पाल और धन के स्वामी हैं।

रावण के सौतेले भाई हैं कुबेर देव:

प्राचीन धर्मग्रंथों के अनुसार कुबेर देव ऋषि विश्वश्रवा और रावण के सौतेले बड़े भाई हैं। वह धन के देवता हैं, इन्हें स्वर्ण के खजाने का स्वामी कहा जाता है। ऐसा माना जाता है कि रावण की लंका और पुष्पक विमान पहले कुबेर देव के पास थे। यह कहा जाता है कि गौतमी नदी के तट पर धनद तीर्थ में भगवान शिव की कृपा से कुबेर देव को धनपाल की पदवी मिली थी। कुबेर देव की विधिवत पूजा करने से पूरी जिन्दगी धन की कमी नहीं होती है।

पूजन विधि:

कुबेर देव को धन का देवता कहा जाता है, इसलिए इनका आज के समय में काफिम्ह्त्व है। आज के समय में धन की क्या महत्ता है, यह किसी को बताने की जरुरत नहीं है। आज के दिन कुबेर देव के चित्र का विधिवत पूजन करें। सर्वप्रथम शुद्ध देशी घी का दीपक जलाएं और सुगन्धित धूप करने के बाद चन्दन का तिलक लगायें। तत्पश्चात गुलाबी फूल चढ़ाकर, अबीर अर्पित करने के बाद तिल से बनी हुई मिठाई का भोग लगायें। विशिष्ट मंत्र का एक माला जाप करने के बाद मिठाई को प्रसाद के रूप में वितरित कर दें।

विशिष्ट मंत्र:

ॐ यक्षाय कुबेराय वैश्रणवाय धनधान्यादिपतये धनधान्यसमृद्धि में देहि देहि दापय दापय स्वाहा॥

पूजन मुहूर्त:

दिन 11:47 से दिन 12:46 तक अथवा रात 22:20 से रात 23:20 तक।

अभिजीत मुहूर्त:

दिन 11:57 से दिन 12:48 तक।

अमृत काल:

प्रातः शाम 17:55 से शाम 18:55 तक।

यात्रा महूर्त:

दिशाशूल – पश्चिम। राहुकाल वास – आग्नेय। अतः आग्नेय व पश्चिम दिशा की यात्रा टालें।

वर्जित महूर्त:

रात 20:40 से लेकर अगले दिन प्रातः 09:38 तक भद्रा (पाताल) में रहेगी जिसमें शुभ कार्य वर्जित हैं।

शुभ रंग:

गुलाबी।

शुभ दिशा:

उत्तर।

शुभ समय:

शाम 18:20 से लेकर शाम 19:20 तक।

शुभ मंत्र:

ॐ श्रीं ह्रीं श्री ह्रीं क्लीं वित्तेश्वराय नम: स्वाहा॥

शुभ टिप्स:

जीवन में सुख समृद्धि पाने के लिए आज के दिन लक्ष्मी मंदिर में शक्कर दान करें।

जन्मदिन के लिए शुभ:

छात्रों को आज के दिन शिवालय में घी का पंचमुखी दीपक करने से शिक्षा के क्षेत्र में सफलता मिलेगी।

एनिवर्सरी के लिए शुभ:

ऐसा कहा जाता है कि आज के दिन किसी ब्राह्मण स्त्री को आटा दान करने से दांपत्य जीवन मधुर रहेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.