मोदी-ट्रंप की दोस्ती का कमाल, 1 सितंबर से 26 रुपए लीटर मिलेगा पेट्रोल! जानिए क्या है सच?

नई दिल्ली – पिछले कुछ दिनों से एक खबर सोशल मीडिया में तहलका मचाये हुए है। इस खबर को लोग सोशल मीडिया पर खुब शेयर कर रहे हैं। वायरल हो रही इस खबर में दावा किया जा रहा है कि 1 सितंबर 2017 से पेट्रोल 26 रु. प्रति लीटर मिलेगा। इस खबर को वायरल करन के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप का नाम भी लिया जा रहा है। यह खबर फेसबुक और ट्विटर से लेकर यूट्यूब तक पर फैल चुकी है। Claim of petrol price 26ltr.

क्यों वायरल हो रही है ये खबर

मोदी-ट्रंप की दोस्ती का असर, ट्रंप ने लगाई पाकिस्तान को फटकार कहापाकिस्तान आतंकियों के लिए है जन्नत

दरअसल, इस वायरल खबर में इस बात का दावा किया जा कहा है कि मोदी की ट्रंप से अच्छी दोस्ती होने के कारण अमेरिका अब खुद भारत को कच्चा तेल निर्यात करेगा। अमेरिका से कच्चे तेल की पहली खेप 1 सितंबर से पहले भारत पहुंच जाएगी। वायरल हो रही इस इस खबर के मुताबिक जैसे ही तेल की खेप यह भारत पहुंचेगी, तेल की कीमतों में भारी कमी आ जाएगी और पेट्रोल 26 रुपए प्रति लीटर हो जाएगा।

असल में इस खबर को गलत ढ़ंग से पेश किया जा रहा है। दरअसल, दुनिया के तीसरे सबसे बड़े तेल आयातक देश भारत ने अमेरिका से तेल इम्पोर्ट करने के लिए समझौता किया है। लेकिन टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर में इस बात को साफ करते हुए लिखा गया है कि अमेरिका से तेल की यह पहली खेप सितंबर में नहीं अक्टूबर में भारत आयेगी।

क्या है इस वायरल खबर का सच

अगर टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर को सच माने तो ऐसा कुछ भी नहीं कि जिससे 1 सितंबर से तेल की कीमतें अचानक आधी हो जाएं। मतलब यह वायरल खबर एकदम फर्जी है। 1 सितंबर से पेट्रोल के दाम नहीं घटने वाले। इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन के निदेशक ने भी कहा है कि, परिवहन लागत को देखते हुए अगर भारत अमेरिका से कच्चा तेल खरीदता है तो तेल की कीमतों में थोड़ी कमी हो सकती है।

लेकिन, ऐसा बिल्कुल भी नहीं है कि तेल की कीमतों में अचानक इतनी बड़ी गिरावट आ जाये। इसके अलावा, किसी भी सरकारी विभाग या फिर सरकार की तरफ से इस तरह की कोई बात नहीं कही गई है। इसका मतलब ये हैं कि पेट्रोल की कीमत 26 रु. लीटर हो जाएगी, ऐसा दावा करने वाली खबर फर्जी है। यह खबर भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रही तमाम खबरों कि तरह ही फर्जी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.