राजनीतिविशेष

ऑपरेशन चक्रव्यूह : पाकिस्तान की घुसपैठ का तोड़ है भारत का यह तीन स्तरीय सुरक्षा तंत्र

ऑपरेशन चक्रव्यूह: विदेशी आतंकियों द्वारा घुसपैठ को विफल करने और नशीली दवाओं की तस्करी को रोकने के लिए भारतीय सेना ने पाकिस्तान से लगी सीमा पर सबसे बेहतरीन किस्म के सर्विलान्स उपकरण लगाने की योजना बना रहा है।

चक्रव्यूह नाम का यह कोड ऑपरेशन, इसकी अभेद्य तीन-स्तरीय सुरक्षा परत सेना को मदद करेगी और पाकिस्तानी आतंकियों को बेअसर और गिरफ्तार भी करेगी।

पठानकोट एयरबेस पर हमले की गणित जानने के बाद सेना ने पंजाब में स्थित भारत पाक अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर दुर्घटनाओं से सचेत होते हुए एक दर्जन से अधिक लेजर दीवालों का भी निर्माण किया।

ऑपरेशन चक्रव्यूह का प्रेरणा स्रोत है महाभारत में उपयोग हुआ अभेद्य सैन्य संगठन।जिसका इस्तेमाल सबसे पहले इजराइल सुरक्षा तंत्र ने आतंकियों की घुसपैठ क्र संभावित मार्गों को रोकने के लिए किया था।

पहली परत

सुरक्षा की पहली परत नियंत्रण रेखा (एलओसी) के ठीक दायीं तरफ होगी।

इस परत में अत्यधिक संवेदनशील सेंसर, रडार, कैमरा, ऑप्टिकल फाइबर और स्वचालित बंदूकों के साथ एक 24×7 निगरानी कक्ष से जुड़ा का एक नेटवर्क होगा।

इन के अलावा, हवाई सूक्ष्म ऐरोस्टेट गुब्बारे, उच्च गुणवत्ता के निगरानी कैमरों होंगे, जो सीमा पर आसमान की निगरानी करेंगे।

सभी निगरानी प्रणाली समन्वित और त्वरित प्रतिक्रिया के लिए एकीकृत की जाएगी।

सरकार सही नियंत्रण रेखा पर आतंकवादियों को पकड़ने के लिए उम्मीद कर रहा है। पिछले 3 महीनों में, 30 सफल घुसपैठ का प्रयास किया गया है। वर्तमान में, वहाँ प्रशिक्षण शिविरों में 400 से 600 और लांच पैड में 300 आतंकवादी हैं। यह संपर्क की पहली पंक्ति है, सेना ने उन्हें घुसपैठ के बारे में सचेत करने के लिए सही नियंत्रण रेखा पर सेंसर तैनात किया गया है। लेकिन यह हमेशा विशेष रूप से दक्षिण कश्मीर में घने जंगलों के कारण असफल होता है।

दूसरी परत

यही कारण है कि एक दूसरी परत आवश्यक हो जाती है। इसमें हवा में यूएवी इस्तेमाल करने वाले आतंकियों पर नज़र राखी जाती है। इस आधार पर, सैनिकों द्वारा हाथ आयोजित थर्मल लगे इमाजर्स (एचएचटीआई) से गतिविधियों पर नज़र रखतें हैं। पिछले छह महीनों में, 50 के लगभग आतंकवादियों को नियंत्रण रेखा के दाईं ओर ही ख़त्म कर दिया गया।

indianarmy-main

इस दूसरी परत की सुरक्षा नियंत्रण रेखा के ठीक पीछे है। इसमें सेना के अर्द्धसैनिक सैनिकों की तैनाती है। यह परत आतंकियों को सवागत कक्ष में ही घेर लेती है। आतंकवादीयों को अपने कार्य योजना, पैसा, निर्देश जैसी अन्य मदद इन्ही भारी वन क्षेत्रों से मिलती है। सेना ने इन्ही क्षेत्रों में संदिग्ध संचालकों के लिए टेलीफोनों के जरिये निगरानी बधाई है। पिछले छह महीनों में इस क्षेत्र में 35 आतंकियों को ढेर किया गया।

सेना के नजरिये से विशेष महत्व के क्षेत्र: लोलाब घाटी, रजवार वन (हफरूदा), बांदीपोरा, काजीकुंड (हंदवारा), राफियाबाद और नौगाम हैं।

तीसरी परत

तीसरे सुरक्षा परत घाटी में सक्रीय होती है। यहाँ, स्थानीय पुलिस और अर्धसैनिक बलों के बीच जानकारी साफ की जाती है। यहाँ भारी हथियारों से लैस और पर्याप्त धन प्राप्त कर लेने वाले आतंकियों को लक्षित किया जाता है। पिछले छह महीनों इस क्षेत्र में 20 आतंकियों को ढ़ेर किया गया। तीसरी परत के सबसे सवेंदनशील क्षेत्रों में कुलगाम, अनंतनाग, पुलवामा, लोलाब, केरन और तंगधार क्षेत्र प्रमुख हैं।

खुफिया आदानों का कहना है कि आतंक के दिग्गजों हफीज सईद, सैयद सलाहुद्दीन और मौलाना मसूद अजहर ने अपने लोगों से सुरक्षा बलों को लक्षित करने की बात कही है। रिपोर्ट के अनुसार 10 आतंकवादियों ने तंगधार और केरन क्षेत्र में घुसपैठ करने की कोशिश की जबकि उड़ी नाला में उड़ी क्षेत्र में 6 आतंकियों को काले पठानी सूटों में प्रवेश कर रहें थें।

Back to top button