शाहरुख की बादशाहत खत्म! लोगों ने कहा – सदीं की सबसे वाहियात फिल्म है ‘जब हैरी मेट सेजल’

शाहरूख खान और अनुष्का शर्मा जैसे स्टार कास्ट के बावजूद इस शुक्रवार रिलिज हुई फिल्म जब हैरी मेट सेजल कुछ खास रंग नही जमा पाई है.. बात अगर बॉक्स ऑफिस क्लेक्शन की करें तो बीते तीन दिनों में फिल्म का क्लेक्शन सिर्फ 45.75 करोङ रहा है जो कि उम्मीद से काफी कम है। साथ ही ये फिल्म, क्रिटिक्स का हालिया शिकार बन चुकी है जिसे बेहद तीखे कमेन्ट्स का सामना करना पङ रहा है। फिल्म का ये हाल देखकर तो सभी यही कह रहे हैं कि अब शाहरूख की रोमैन्टिक इमेज एक्सपायर हो चुकी है और ऐसें सवाल उठने वाजिब भी है क्योंकि..

शाहरूख की रोमैन्टिक हीरो की छवि को लोगों ने नकारना शुरू कर दिया है :

ऐसा नही है कि अब रोमैन्टिक फिल्मों का दौर खत्म हो चुका है ..इसी फिल्म के डॉयरेक्टर इम्तियाज अली ने पिछली सभी फिल्मों में लव रोमान्स के फार्मूले से दर्शकों को भरपूर मनोरन्जन किया है और अगर बात फिल्म की हीरोईन अनुष्का की करें तो वो आज के समय की सफल अभिनेत्रियों में से हैं। ऐसे में अनुष्का के स्क्रीन प्रजेन्स की जादुई क्षमता और इम्तियाज के हिट लव फार्मूला दोनों का काम ना करना इस बात की ओर इशारा करता है कि कहीं न कहीं शाहरूख की रोमैन्टिक हीरो की छवि को लोगों ने नकारना शुरू कर दिया है।

अगर बात करें, बॉलीवुड में किंग ऑफ रोमांस कहे जाने वाले शाहरूख खान की घटती लोकप्रियता की तो वो उनके पिछली फिल्मों के परफॉरमेन्स से भी साफ जाहीर होती है। दिलवालें में जहां शाहरूख और कॉजोल की सुपर हिट केमेस्ट्री भी फींकी पङ गई, वहीं रईस में शाहरूख का मायरा के साथ इश्क की पतंग कुछ खास उङान नही भर सकी। वजह साफ है कि अब वो नब्बे का दशक नही रहा जब राहुल और राज के दोनों बाहें फैलाकर रोमैन्टिक पोज् देने पर दर्शकों का प्यार उमङ पाता था और हीरोईन के साथ वो सारी समां को अपने गिरफ्त में ले लेतें थें। शायद अब दर्शक 51 के हो चलें शाहरूख को राहुल और राज के रोमैन्टिक इमेज से इतर किसी दमदार रोल में देखना चाहतें हैं।

दर्शकों की पसन्द को समझने में जहां शाहरूख अभी देर कर रहे हैं वहीं दूसरे खान स्टार यानि सलमान और आमिर खान, लोगों के रूझान को समझते हुए अपना गाङी सही ट्रैक पर ला चुके हैं। आमिर खान की फिल्मों में जहां कथ्य और सामाजिक सरोकारों का रूझान होता है वहीं सलमान भी विशुद्ध रोमैन्टिक फिल्मों से परहेज कर रहें है। ऐसे में शाहरूख को भी फिल्मी गलियारें की हवा का रूख पकङना होगा क्योंकि अगर वो जल्द ही अपनी ऑउटडेटेड इस इमेज से बाहर नही निकलते हैं तो शायद खानत्रयी का ये किंग अपनी बादशाहत खो बैठेगा।