जब कभी भी आप के मन में आये सुसाइड का ख्याल, तो याद करें ये ज़रूरी बातें

आज के टाइम में कोई भी पूरे तरीके से खुश नहीं है. लोग किसी ना किसी कारणों से परेशान या दुखी ज़रूर रहते हैं. किसी ना किसी बात की टेंशन उन्हें लगी ही रहती है. सपने देखने का हक़ हर किसी को होता है, और हर कोई उसे पूरा करने की कोशिश में लगा रहता है. कुछ लोगों को सफलता मिलती है, तो कईयों को असफलता का सामना करना पड़ता है. हर कदम पर आपको सफलता मिले ये ज़रूरी तो नहीं. पर असफल होने पर खुद को चोट पहुचना भी तो ग़लत है. if you get suicide thoughts remember these things,

क्या करें जब आये सुसाइड का ख्याल:

  • सुसाइड के मामले हर साल बढ़ते ही जा रहे हैं. इसका मुख्य कारण होता है अपने सपनों को पूरा ना कर पाना. अगर आप किसी काम में असफल हो चुकें है तो ज़रूरी है की परिस्थितियों को समझते हुए आगे बढें ना की खुद को चोट पहुंचाएं. असफलता आपकी कमज़ोरी नहीं बल्कि आपकी ताकत बननी चाहिए. आपने सुना तो होगा ही कि, “कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती”.
  • असफलता मिलने पर लोग उसे आसानी से स्वीकार नहीं कर पाते और निराश हो जाते हैं. ग़लतियों को छुपाने से कुछ नहीं होगा बल्कि उसे स्वीकारें और हल निकालने की कोशिश करें. खुद पर कॉन्फिडेंस रखें.
  • अगर देखा जाए तो असफलता का सामना तब ही करना पड़ता है जब आपने पूरे मन से मेहनत ना की हो. खुद को चोट पहुँचाने में छात्रों की संख्या लगातार बढ़ रही है. एग्जाम में कम नंबर आने पर या फेल होने पर छात्र आत्महत्या करने की कोशिश करते हैं. ऐसी स्थिति में उन्हें डांटने या कोसने की बजाय उन्हें सांत्वना दें और आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहित करें.
  • कई लोग डिप्रेशन में भी आकर आत्महत्या करने की कोशिश करते हैं. बहुत लोग ऐसे होते हैं जो हर वक़्त अकेला महसूस करते हैं. उनके अंदर बहुत सी बातें होती हैं पर किसी से शेयर नहीं करते. ऐसे में चाहिए की आप उनसे बात करें और उनकी परेशानी जानने की कोशिश करें. ऐसा करने पर उनका मन हल्का होगा और सुसाइड का ख्याल भी नहीं आएगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published.