समाचार

गोत्र बना रोड़ा तो मौत को गले लगा एक हुए प्रेमी-प्रेमिका, चिताओं ने ऐसे अमर कर दी प्रेम कहानी

मध्य प्रदेश के दमोह से एक बेहद भावुक करने वाली घटना सामने आई है। यहां एक युवक और युवती में बेइंतहा प्यार था। प्यार इतना सच्चा था कि वो एक दूसरे के बिना रह नहीं पाते थे। दोनों ने अपने प्यार को हमेशा-हमेशा पाने के लिए एक होने की ठानी औऱ शादी करने का फैसला किया। लेकिन उनकी शादी में गोत्र रोड़ा बन गया। अपने को ऊंची गोत्र का समझने वाले लड़की वालों ने शादी से इनकार कर दिया। जब इस प्रेमी जोड़े को सभी रास्ते बंद नजर आए तो उन्होंने एक होने के लिए एक साथ आत्महत्या कर ली।

गोत्र बना बाधा

मध्य प्रदेश के दमोह जिले में 17 साल की नाबालिग लड़की और 19 साल के उसके प्रेमी ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। दोनों का गोत्र उनकी शादी में परेशानी खड़ी कर रहा था। लड़की का गोत्र बड़ा और लड़के का गोत्र छोटा था। मामला हिंडोरिया थाना इलाके के खामखेड़ा गांव का है। इस घटना के बाद गांव में सनसनी फैल गई। पुलिस ने पोस्टमॉर्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिए।

मरने के बाद अमर हुई प्रेम कहानी

जब तक प्रेमी-प्रेमिका जिंदा थे तबतक दोनों के घरवालों ने उनके प्यार को कई महत्व नहीं दिया लेकिन जब दोनों ने एक साथ फांसी लगा ली तो उनकी आत्मा जागी और उनको अपने किए पर काफी अफसोस हुआ। प्रेमी जोड़े की मौत के बाद दोनों परिवारों ने उनके प्रेम को अमर बनाने के लिए एक साथ अंतिम संस्कार करने का फैसला लिया। दोनों की चिता अगल-बगल सजाई गई, चिता के जलते ही उससे उठी लपटों ने दोनों की प्रेम कहानी को अमर कर दिया। गांव और आसापास के इलाकों में प्रेमी प्रेमिका के एकसाथ हुए अंतिम संस्कार की घटना सदियों तक लोगों के जेहन में बैठी रहेगी।

पुलिस जांच जारी

पुलिस जांच के दौरान पता चला कि लोधी समाज की लड़की मुला पुत्री हुकुम सिंह और उसी समाज के अनिकेत पुत्र अमर सिंह ने आत्महत्या कर ली है। पुलिस की जांच में पता चला कि मुला का गोत्र ‘महदेले’ है। लोधी समाज में इस गोत्र को बड़ा माना जाता है, जबकि अनिकेत का गोत्र ‘घुरटया’ था। ये महदेले से छोटा गोत्र है। इस वजह से दोनों का रिश्ता तय नहीं हो पा रहा था। लड़की वाले किसी भी कीमत पर उसकी शादी छोटे गोत्र में नहीं करना चाहते थे। इस वजह से लड़की और लड़का मानसिक दबाव में थे।

बताया जा रहा है कि आत्महत्या से पहले दोनों ने आपस में बात की और एक साथ जीवन लीला खत्म करने का प्लान बनाया। प्लान के मुताबिक, शनिवार देर रात लड़की ने अपने घर की गौ-शाला और लड़के ने अपने खलिहान (गल्ले) पर जाकर एक पेड़ पर रस्सी बांधी और फांसी लगा ली। इसके बाद पुलिस ने शवों को कब्जे में लिया। दोनों का पंचनामा कर पोस्टमॉर्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिए। परिवार ने दोनों की चिताओं को एक साथ जलाया।

Back to top button