तो क्या डर रहा है इस्लाम? इस घटना के बाद आप बताइए कि कौन है सच्चा मुसलमान

बीते दिनों से कश्मीर जल रहा है.

सोशल मीडिया पर हल्ला हो रहा है कि सेना मुस्लिम लोगों को मार रही है – ये इस्लाम के लोग मासूम हैं – असल में सच यह है कि आज के मुसलमान ने इस्लाम धर्म को पढ़ा ही नहीं है – इन लोगों को मौलवियों ने ट्रेनिग दी है और इन्होनें की अपनी तरह से मासूम मुसलमान बच्चों को इस्लाम पढ़ाया है –

बीते सप्ताह इसी तरह की दो घटनायें हुई हैं, जिनका जिक्र हम आज करेंगे.

हम समझने की कोशिश करेंगे कि क्या वाकई इस्लाम धर्म खतरे में है?

और बाद में यह पढेंगे कि इस्लाम धर्म को सबसे बड़ा खतरा अपने ही मुस्लिम लोगों से है.

उससे पहले आइये एक रिपोर्ट पढ़ते हैं-

इस समय कश्मीर के हालात काफी खराब हैं । अलगाववादी नवयुवक मुसलमान लड़कों को अपने ही देश के खिलाफ जिहाद करने को बरगला रहे हैं । अब नीदरलैंड्स में रहने वाले एक कश्मीरी युवक ने एक ऐसा सवाल पूछा है जिसका इन अलगाववादियों के पास कोई उत्तर नहीं होगा इसके साथ ही उन्होंने अलगाववादी नेताओं पर निशाना भी साधा। उन्होंने कहा, ‘इन अलगाववादियों के बच्चे मलेशिया, अमेरिका, लंदन में सुरक्षित माहौल में रहते हैं और गरीब लोगों के लड़के सड़कों पर मारे जाते हैं।’

कश्मीर घाटी में दम तोड़ रहे आतंकवाद को जिंदा रखने के लिए पाकिस्तान और खाड़ी देशों से हवाला के जरिए करोड़ों रुपये आ रहे हैं. कश्मीर में अलगाववाद को शह देने के साथ नई पीढ़ी को देश विरोधी गतिविधियों को बढ़ाने के लिए इस पैसे का इस्तेमाल हो रहा है. खुफिया रिपोर्ट्स में इसका खुलासा हुआ है.

अधिक जानें अगले पेज पर :

Leave a Reply

Your email address will not be published.