विशेष

अगर आपका भी एक से ज्यादा बैंक में अकाउंट है तो जरुर पढ़ ले यह खबर वरना होगें ये नुकसान…

आजकल लगभग बैंक में हर किसी का अकाउंट होता है और होना भी चाहिए क्योंकि बैंक अकाउंट की आजकल कई जगह जरुरत पड़ती है। पर कई लोग अलग-अलग बैंकों में कई सारे खाते खुलवा लेते हैं जो कि बाद में परेशानी का कारण बनते हैं। उन सब को संभालना आपके लिऊ मुश्किल हो जाता है। लेकिन यदि आप एक बिजनेशमेन हैं तो आपका दिनभर में पैसों का लेनदेन काफी ज्यादा होता होगा। ऐसे में आप चाहे बेशक अपनी सुविधा के लिए एक से ज्यादा अकाउंट खुलवा सकते हो ।

एक से ज्यादा खाते खोलने से आमतौर पर होने वाले नुकसान :

यदि आपके एक से अधिक बैंक खाते हैं। तो हम आपको उन से होने वाले सामान्य नुकसान के बारे में बताते हैं। मान लो आपके एक से ज्यादा बैंक अकाउंट है तो आप को उन सब को संभालने में बड़ी दिक्कत होती होगी। सभी खातों पर नजर रखना थोड़ा मुश्किल होता है। इसके अलावा कई बार समय की कमी के कारण भी अपने सभी खातों का हिसाब नहीं रख पाते। ज‍िसकी वजह से उन्‍हें सुरक्षा संबंधी जोखिम भी उठाना पड़ जाता है। इसलिए सबसे अच्छी बात तो यही है कि आप जिन खातों का प्रयोग नहीं करते आप को उनको बंद करवा देना चाहिए।

मिनिमम बेंलेंस :

जो बचत खाते होते हैं उनमें एक राशि निर्धारित होती है कि हम इतने रुपए से कम अपने खाते में नहीं रख सकते।मिनिमम बैलेंस का यह नियम सभी बैंकों में अलग-अलग भी होता है। कई बार खातों में म‍िन‍िमम बैलेंस न रख पाने की वजह से बैंकों से म‍िलने वाले 4% सालाना ब्‍याज का भी लाभ पाने से वंचित रह जाते हैं। आमतौर पर आपके बैंक खाते में मिनिमम बैलेंस 5 से 10 हजार रुपए तक होना चाहिए। अब आप यह सोचो कि अगर आप के तीन से चार अकाउंट हैं तो आपको सभी में इतने रुपए जमा करवाने होंगे जिस के लिए आप को अधिक रुपये खर्च करने होंगे जो आप को अच्छा नही लगेगा।

 

बैंक द्वारा लिए वसूले जाने वाले चार्जेस के बारे में भी जाने :

जो बचत खाते होते हैं वह मुफ्त नहीं होते। इसके लिए भी आपको कुछ पैसे चुकाने होते हैं। आपको डेबिट कार्ड, एसएमएस अलर्ट, एटीएम आदि इस्तेमाल करने का भी शुल्क चुकाना होता है। अगर आपके खाते में निर्धारित बैलेंस से कम है तो भी बैंक आप से चार्जेस लेता है। तो आप सोच सकते हैं की अगर ज्यादा अकाउंट होंगे तो ज्यादा चार्जेस देना होगा। और अगर आप ऐसा नहीं करते हैं तो आपका खाता स्वयं बंद हो जाएगा और ऐसा तो आप कतई नहीं चाहते होंगे कि आपका खाता बंद हो।

सभी बैंक खातो से जुड़ी जानकारी रखने में होगी परेशानी :

ज्यादा बैंकों में अकाउंट होने से कई दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। अधिक ब्याज और इनकम जेनरेटिंग अकाउंट होने से इनकम टैक्स फाइल करते समय आपकी कागजी कार्रवाई बढ़ जाती है। इनकम टेक्स रिटर्न करते समय अधिक खातों की जानकारी रखना और सभी डॉक्यूमेंट इकट्ठे करना आपको थका देने वाला काम लग सकता है। इसलिए अपनी सुविधा के अनुसार ही बैंक में खाता खुलवायें।

Show More

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

Back to top button
Close