J&K: 24 घंटे में 5 आतंकी ढेर, सेना के खिलाफ नहीं मान रहे पत्थरबाज!

जम्मू कश्मीर: गुरुवार को सुबह से ही सेना और सुरक्षा बलों ने दक्षिणी कश्मीर के जिले पुलवामा में सर्च ऑपरेशन और मुठभेड़ जारी रखी है, रिपोर्ट्स के मुताबिक 6 घंटे से जारी मुठभेड़ में अबतक 3 आतंकी मारे गए हैं, और बीते 24 घंटे में सुरक्षा बलों ने कुल 5 आतंकियों को ढेर किया है. पजलपोरा, काकापोरा, हाजिन पीर के बाद बिजबेहड़ा में सेना ने आतंकियों को घेर रखा है. इस सर्च अभियान में सेना की आरआर टीम और जम्मू कश्मीर पुलिस की एसओजी टीम ने यह घेराबंदी की है. army encounter.

आतंकी तीन बार सुरक्षा बलों पर हमला कर चुके हैं :

Jawan killed in naushera sector

बताया जा रहा है कि गुरुवार की सुबह ही इन इलाकों को खाली करा लिया गया था और सर्च अभियान जारी किया गया था. सुरक्षा बलों को जानकारी मिली है कि इन गांवों में आतंकवादी छिपे हुए हैं. गौरतलब है कि घाटी में लश्कर कमांडर जुनैद मट्टू के मारे जाने के बाद से सुरक्षा बलों पर होने वाले हमलों में इजाफा हुआ है, इसके बाद से आतंकी तीन बार सुरक्षा बलों पर हमला कर चुके हैं.

सुरक्षा बलों ने 3 आतंकियों को मार गिराया :

आपको बता दें कि आज सुबह से चल रही मुठभेड़ में सुरक्षा बलों ने 3 आतंकियों को मार गिराया साथ ही, इसके पहले 2 और आतंकियों को सेना ने ढेर किया था, बीते एक हफ्ते में सेना ने अपनी कार्रवाई के दौरान लश्कर के 6 काडर खत्म किये हैं, गुरुवार को मारे गये तीन आतंकियों की पहचान शारिक, माजिद मीर और इरशाद अहमद के रूप में हुई थी. माजिद मीर लश्कर का आतंकी था और उसके खिलाफ बेकसूर नागरिकों को मारने और हत्या करने के कई मामले दर्ज हैं. मुठभेड़ स्थल से सुरक्षा बलों ने एके-47 राइफल और पिस्टल बरामद की है.

मुठभेड़ के दौरान सेना के एक मेजर के कंधे में गोली लगी :

इस मुठभेड़ के दौरान सेना के एक मेजर के कंधे में गोली लगी है, लेकिन खतरे की स्थिति नहीं है, फिलहाल स्थितियां नियंत्रण में हैं, आपको बता दें कि बीते कुछ समय से सेना के काम और कार्रवाई में स्थानीय लोगों बहुत अड़चनें पैदा कर रहे हैं, सेना जब कहीं भी सर्च ऑपरेशन या मुठभेड़ करने जाती है तो वहां स्थानीय लोग सेना का विरोध कर रहे हैं, और पत्थरबाजी भी कर रहे हैं.यहां भी सेना को पहले पत्थरबाजी से निपटना पड़ा, पत्थरबाजी का उद्देश्य सेना की घेराबंदी को तोडना था ताकि आतंकी आसानी से भाग सकें. लेकिन सेना और सुरक्षा बलों ने स्थितियों पर काबू पा लिया.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.