समाचार

सरकार बनाने के बाद पहली बार भारत के सामने झुका तालिबान, लगाई यह गुहार

अफगानिस्तान में तालिबान के कब्जे के बाद से दुनियाभर के देशों ने वहां जाने वाली अपनी उड़ानें रोक दी थीं। अब सरकार बनाने के बाद तालिबान ने करीब डेढ़ महीने बाद भारत से अपील की है कि अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को फिर से शुरू किया जाए। इसके लिए पहली बार तालिबान ने भारत को औपचारिक खत लिखा है। अफगान सिविल एविएशन ऑथॉरिटी ने डायरेक्टोरेट जनरल ऑफ सिविल एविएशन (डीजीसीए) से अफगान नेशनल कैरियर्स को दोनों देशों के बीच उड़ाने शुरू करने की इजाजत देने की अपील की है।

taliban

बता दें कि समाचार एजेंसी एएनआइ के मुताबिक, अफगानिस्तान में तालिबान के इस्लामिक अमीरात ने काबुल के लिए कमर्शियल उड़ानें फिर से शुरू करने के लिए डीजीसीए (नागरिक उड्डयन महानिदेशालय) को पत्र लिखा है। नागरिक उड्डयन मंत्रालय (MoCA) फिलहाल तालिबान के इस पत्र की समीक्षा कर रहा है।


गौरतलब हो कि यह खत 7 सितंबर को अफगानिस्तान नागरिक उड्डयन प्राधिकरण के कार्यवाहक मंत्री हमीदुल्लाह अखुंजादा ने भारत के नागरिक उड्डयन (DGCA) के महानिदेशक अरुण कुमार को लिखा है। वहीं नागरिक उड्डयन मंत्रालय (Ministry of Civil Aviation) इस खत पर विचार कर रहा है।

Taliban Government

अखुंजादा ने डीजीसीए को लिखा कि, “जैसा आप अच्छी तरह से जानते हैं कि काबुल एयरपोर्ट को अमेरिकी फोर्सेस ने नुकसान पहुंचाया था और उसे निष्क्रिय कर दिया था। लेकिन हमारे दोस्त कतर के टेक्निकल सपोर्ट से इस एयरपोर्ट को एक बार फिर चालू कर दिया है। इस संबंध में एक NOTAM (एयरमैन को नोटिस) 6 सितंबर, 2021 को जारी किया गया था।”

भारत की तरफ़ से तालिबान को नहीं दी गई है मान्यता…

Taliban Government

वहीं बता दें कि भारत ने तालिबान की अंतरिम सरकार को अभी तक मान्यता नहीं दी है। हालांकि, दोहा, कतर में भारत के राजदूत दीपक मित्तल और तालिबानी नेता शेर मोहम्मद अब्बास स्टानकजई मुलाकात कर चुके हैं। अमेरिकी फोर्सेस के जाने के बाद तालिबान ने 30 अगस्त को अफगानिस्तान पर कब्जा कर लिया। भारत से काबुल के लिए आखिरी फ्लाइट 21 अगस्त को नागरिकों को निकालने के लिए गई थी। एयर इंडिया की फ्लाइट ने पहले दुशांबे और फिर नई दिल्ली के लिए उड़ान भरी थी।

पाकिस्तान, अफगानिस्तान में विमान लैंड कराने वाला पहला देश…

Taliban Government

जानकारी के लिए बता दें कि इससे पहले अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के लगभग एक महीने बाद पहली बार अंतरराष्ट्रीय कमर्शियल फ्लाइट (First international commercial flight) काबुल एयरपोर्ट (Kabul Airport) पर लैंड हुई थी। पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस (Pakistan International Airlines) का एक विमान मुट्ठी भर यात्रियों को लेकर काबुल के हामिद करजई इंटरनेशनल एयरपोर्ट (Hamid Karzai International Airport) पर लैंड हुआ। अफगानिस्तान पर 15 अगस्त को तालिबान के कब्जे के बाद ही अंतरराष्ट्रीय उड़ानें बंद हुई थीं।

Back to top button
?>