ब्रेकिंग न्यूज़

तालिबानियों ने किया पूरे अफगानिस्तान पर कब्ज़ा, राष्ट्रपति गनी दूसरे देश भागने के फिराक में

पूरे अफगानिस्तान पर तालिबान ने लगभग अपना कब्जा कर लिया है और राजधानी काबुल के बाहरी इलाके तक तालिबानी पहुंच गए हैं। ऐसे में कहा जा रहा है कि कुछ ही घंटों में ये काबुल पर भी कब्जा कर लेंगे। अफगानिस्तान के तीन अधिकारियों ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि तालिबानी राजधानी काबुल के बाहरी इलाके तक पहुंच गए हैं। सुबह ही तालिबान ने जलालाबाद पर कब्जा किया था। जिसके बाद कभी भी काबुल पर कब्जा कर लिया जाएगा।

वहीं अफगान आंतरिक मंत्रालय ने रविवार को कहा कि तालिबान ने अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में हर तरफ से घुसना शुरू कर दिया है। समाचार एजेंसी रॉयटर्स से पहचान जाहिर न करने की शर्त पर अफगानिस्तान के अधिकारियों ने कहा कि फिलहाल इस इलाके में किसी तरह का संघर्ष नहीं हो रहा है। तालिबान के लड़ाके कलाकन, काराबाघ और पघमन जिलों में घुस गए थे। तालिबान ने काबुल पर कब्जे का ऐलान नहीं किया है। रविवार को हेलीकॉप्टरों के मंडराने के बाद सरकारी दफ्तरों ने अचानक ही अपने कर्मचारियों को जल्दी घर भेजना शुरू कर दिया था।

किया जलालाबाद शहर में कब्जा

इससे पहले तालिबान ने रविवार को काबुल के बाहरी शहर जलालाबाद पर कब्जा कर लिया था। तालिबान ने रविवार सुबह कुछ तस्वीरें ऑनलाइन जारी की थी। जिनसे उसके लोग नांगरहार प्रांत की राजधानी जलालाबाद में गवर्नर के दफ्तर में थे।

आपको बता दें कि तालिबान ने पिछले सप्ताह ही अफगानिस्तान के बड़े हिस्से पर कब्जा कर लिया था। जिसके बाद अफगानिस्तान की केंद्र सरकार पर दबाव बढ़ गया। अफगानिस्तान के चौथे सबसे बड़े शहर मजार-ए-शरीफ पर शनिवार को तालिबान ने कब्जा किया था।

ashraf ghani

अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी ने शनिवार को कहा था कि वो 20 वर्षों की “उपलब्धियों” को बेकार नहीं जाने देंगे। राष्ट्र को संबोधित करते हुए इन्होंने कहा था कि तालिबान के हमले के बीच ‘विचार-विमर्श जारी है।

इसके अलावा राष्ट्रपति अशरफ गनी के चीफ ऑफ स्टाफ ने अपने ट्विटर अकाउंट पर लोगों से अपील की है कि परेशान न हों, कोई चिंता की बात नहीं है और काबुल में स्थिति नियंत्रण में है। कार्यकारी गृहमंत्री अब्दुल सत्तार मिर्काजवाल ने कहा  कि काबुल पर हमला नहीं होगा और सत्ता हस्तांतरण शांतिपूर्ण तरीके से होगा। उन्होंने कहा कि शहर की सुरक्षा सुनिश्चित की जाएगी।

सौंपेंगे शांतिपूर्ण तरीके से सत्ता

रविवार को अफगानिस्तान के एक अधिकारी ने बताया कि तालिबान वार्ताकार सत्ता के ‘‘हस्तांतरण’’ की तैयारी के लिए राष्ट्रपति के आवास जा रहे हैं। ये शांतिपूर्ण तरीके से सत्ता सौंपेंगे। तालिबान ने कहा कि उनकी ताकत के बल पर सत्ता लेने की योजना नहीं है। वहीं कहा जा रहा है कि जल्द ही राष्ट्रपति अशरफ गनी अपना पद छोड़ने वाले हैं।


इसी बीच तालिबान ने दावा किया है कि वो सभी नागरिकों का ध्यान रखेंगे। तालिबान के प्रवक्ता ने अपने बयान में ‘सबको माफ’ करने की बात कही है। लेकिन लोगों को सलाह दी है कि अपने घरों में ही रहें।

भेजे गए सैनिक

तालिबान में बिगड़ते हालातों को देखते हुए अमेरिका, ब्रिटेन और कनाडा ने यहां पर सैनिक भेजे हैं। ये सैनिक वहां मौजूद अपने राजनयिक स्टाफ की मदद के लिए भेजे गए हैं। अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने अफगानिस्तान से अमेरिकी बलों की व्यवस्थित एवं सुरक्षित वापसी सुनिश्चित करने के लिए युद्धग्रस्त देश में 5,000 बलों की तैनाती का आदेश दिया है।

Back to top button