दिलचस्प

टिकटोक से हुई दोस्ती, फ़िर बात पहुँची शादी तक। इस जोड़े ने पेश की अनूठी मिसाल…

नासिक में हुई अनोखी शादी, जिसने समाज के सामने पेश की मिसाल.

प्रेम से जुड़ी कई कहानियां आपने सुनी होगी। कुछ फिल्मों में तो कुछ अपने आसपास, लेकिन आज हम आपको एक ऐसी प्रेम कहानी के बारे में बताने जा रहें। जो न तो फ़िल्मी है और न ही ऐतिहासिक। फिर भी आपने आप मे अनूठी है। जी हां हम आपको बता दें कि यह प्रेम कहानी महाराष्ट्र के नासिक की है। जहां 15 दिन पहले हुई शादी अचानक चर्चा में आ गई है। बता दें कि जिले के मनमाड़ इलाके में रहने वाले एक युवक ने एक किन्नर संग पूरे रीति रिवाजों के साथ विवाह किया है। वही उसके परिजनों ने भी खुले मन ने किन्नर बहू को अपना लिया है। 15 दिन बाद भी किन्नर बहू से मिलने के लिए हर दिन लोग इनके घर आ रहे हैं। तो हुई न यह अनूठी प्रेम कहानी।

transgender marriage from nasik

बता दें नासिक के मनमाड़ के रहने वाले संजय झालटे ने समाज और लोगों की परवाह किए बिना 15 जून को लक्ष्मी नाम की किन्नर को अपनी पत्नी बनाया है। कोरोना संक्रमण काल में यह शादी मंदिर में हुई। मालूम हो कि इस शादी में ज्यादा लोग शामिल नहीं हुए, लेकिन जितने भी लोग यहां आए सभी ने इस जोड़े को अपना आशीर्वाद दिया। संजय का कहना है कि इस तरह की शादी से वे समाज में एक संदेश देना चाहते हैं। जिसके लिए यह शादी की है।

टिकटॉक से शुरू हुई थी लव स्टोरी…

transgender marriage from nasik

बता दें कि संजय झालटे की पहचान किन्नर ‘शिवलक्ष्मी’ से टिकटॉक पर हुई थी। कुछ दिनों में पहचान प्रेम में बदल गई और फिर दोनों ने शादी का फैसला किया। संजय ने अपनी इच्छा अपनी मां को बताई और फिर उनकी मां रिश्ता लेकर शिवलक्ष्मी के पास गईं। उनके मानने के बाद दोनों की शादी मनमाड़ के प्राचीन शिव मंदिर में हुई। इस शादी में शिवलक्ष्मी की कुछ किन्नर साथी भी शामिल हुए थे।

दोनों ने शादी कर पेश की सामाजिक तौर पर मिसाल…

transgender marriage from nasik

इस शादी को लेकर संजय झालटे ने कहा कि, “आखिरकार किन्नर भी एक इंसान ही है। उनकी भी अपनी जिंदगी है। ऐसे में उनके साथ शादी करने में क्या दिक्कत है। नई जिंदगी की शुरुआत करते हुए संजय ने एक गाने की कुछ पंक्तियां भी कही कि कुछ तो लोग कहेंगे लोगों का काम है कहना।” वहीं संजय की मां कहती हैं कि यह सब सुनकर अजीब लगता है कि बेटे ने एक किन्नर से शादी की है। लेकिन यह भी सच है कि दोनों ने समाज के सामने नया आदर्श प्रस्तुत लिया है। फिलहाल गांव के लोगों के लिए भी यह शादी चर्चा का विषय बनी हुई है।

transgender marriage from nasik

transgender marriage from nasik

वहीं इस शादी पर शिवलक्ष्मी का कहना है कि, “भारतीय संस्कृति में लड़की शादी के बाद अपने पति के घर ससुराल जाती है। मुझे कभी नहीं लगा था कि मुझे एक बहू के रूप में स्वीकार किया जाएगा, लेकिन हम दोनों के परिवार ने समाज के सभी रूढ़ीवादी परंपराओं से ज्यादा हमारे रिश्ते को अहमियत दी। मुझे अपने नाम की तरह सही मायने में ससुराल वालों ने एक लक्ष्मी के रूप के स्वीकारा। ये सब एक सपने की तरह है। जाहिर है मैं बहुत खुश हूं।”

transgender marriage from nasik

Back to top button
शादी से पहले लिव इन के मजे ले चुके हैं ये सितारे बेहद खूबसूरत है अरविन्द अकेला कल्लू की दुल्हनिया, देखकर हो जाएंगे लट्टू