दिलचस्प

ऑटो से शौचालय जाना पड़ गया भरी, रास्ते में मिल गई पुलिस। फिर हुआ कुछ यूँ…

शौच के लिए गया था ऑटो चालक, पास नहीं होने पर पुलिस ने ठोंका ₹2 हजार का जुर्माना। पढ़िए पूरी ख़बर....

हर तरफ़ लगभग लॉकडाउन का माहौल कोरोना महामारी की वज़ह से बीते डेढ़ दो महीने से देखने को मिल रहा था। कहीं अब जाकर देश के अलग-अलग हिस्सों में लॉकडाउन को लेकर ढील दी जा रही। इसी बीच सोशल मीडिया में एक ऐसा अजीबोगरीब मामला सामने आया है। जिसे सुन आपकी भी हँसी छूट जाएगी। या फ़िर आप सम्बंधित व्यक्ति के प्रति सहानुभूति प्रकट करने लगेंगे।

auto driver

बता दें कि यह अजीबोगरीब मामला केरल का है। जहां लॉकडाउन के दौरान पुलिस के अजीब व्यवहार के कारण उसके खिलाफ अब तक कई शिकायतें सामने आ चुकी हैं। जी हां कोल्लम के पास एक ऑटो चालक फारिग होने गया तो परिपल्ली पुलिस ने उस पर पर 2,000 रुपये का जुर्माना लगा दिया। हालांकि यह घटना 2 जून की बताई जा रही है, लेकिन यह घटना बीते शनिवार को सामने आई और कई लोगों ने ऑटो चालक के प्रति सहानुभूति जताई।

auto driver

मालूम हो कि ऑटो चालक परपल्ली पुलिस स्टेशन के आसपास रहता है। उसके घर में शौचालय नहीं था, इसलिए वह अपने ऑटो से पास के पेट्रोल फिलिंग स्टेशन पर पहुँच गया, जहां पर एक सार्वजनिक शौचालय है। लेकिन उसके लिए शौचालय के लिए घर से बाहर निकलना घाटे का सौदा साबित हुआ और उसे परिपल्ली पुलिस ने रोक लिया। इसके बाद ऑटो चालक तत्काल आवश्यकता कहते रहा, लेकिन पुलिस अधिकारियों ने एक न सुनी और पुलिस अधिकारी ने कहा कि, “चूंकि उसके पास स्व-घोषणा नहीं है तो यह उल्लंघन है और उसे जुर्माना देना होगा।”

police

इसी विषय पर ऑटो चालक ने कहा कि, ” मैंने अनुरोध किया कि मैं खुद को राहत देने जा रहा हूं, लेकिन यह बहरे कानों में पड़ गया और चूंकि मेरे पास कोई स्वघोषणा लिखी हुई नहीं थी, इसलिए मुझ पर 2,000 रुपये का जुर्माना लगाया गया था। मेरे पास पैसे नहीं थे, इसलिए मुझे अपना वाहन पुलिस स्टेशन में खड़ा करना पड़ा। दो दिन में बड़ी मुश्किल से मुझे 2,000 रुपये मिले और मैंने जुर्माना भर दिया और मैं अपना वाहन ले गया।” जिस तरह से उन्होंने मेरे साथ व्यवहार किया, वह वास्तव में बहुत दुखी और निराश करने वाला था।

वही एक आंकड़े की बात करें तो केरल पुलिस उल्लंघन करने वालों से वसूले गए जुर्माने के माध्यम से औसतन लगभग 20 लाख रुपये कमा रही है, जिसमें मास्क न पहनने और बिना वैध कारण के वाहनों के साथ बाहर जाना भी शामिल है।

Back to top button