ये 8 संकेत बता देंगें, सुसाइड करने वाले के ये लक्षण!

आजकल के लोग अपनी जिंदगी से इतनी जल्दी तंग आ जाते हैं कि सुसाइड करने के बारे में सोचने लगते हैं। ऐसे में अगर हम किसी सुसाइड करने वाले व्यक्ति की जान बचा सकें तो इससे अच्छा काम दूसरा कोई नहीं हो सकता है। पर सोचने वाली बात यह है कि हमें यह कैसे पता चलेगा कि सामने वाला सुसाइड करने के बारे में सोच रहा है।

शोधकर्ताओं की मानें तो वह यह कहते हैं कि सुसाइड करने के पीछे बहुत सारे कारण हो सकते हैं। वह कारण पर्सनल भी हो सकते हैं। परंतु मेडिकल रिजल्ट के हिसाब से लोग सुसाइड दो कारणों की वजह से करते हैं यानी कि दो केमिकल की वजह से वह सुसाइड करते हैं। सेरोटोनिन और डोपामीन। जब इंसान के शरीर के अंदर इन दोनों केमिकल की कमी हो जाती है तो वह डिप्रेशन में चला जाता है और सुसाइड करने के बारे में सोचने लगता है।

क्या काम करते हैं सेरोटोनिन और डोपामीन?

सेरोटोनिन (Serotonin) :

यह दोनों केमिकल ब्लड प्लेट्स में पाए जाते हैं और साथ ही सेंट्रल नर्वस सिस्टम के अंदर भी पाए जाते हैं। यह हमारे शरीर में आने वाले बदलाव जैसे कि हैप्पीनेस, अच्छे मूड में रहना, नींद लाने में सहायता करते हैं। साथ ही साथ यह मेमोरी और लर्निंग प्रोसेस में भी सहायक होते हैं।

डोपामीन (Dopamine) :

इस केमिकल का काम हमारे दिमाग में जो खुशी पैदा होती है। जिस आनंद का अहसास हमें होता है और जो इमोशंस हमारे शरीर के अंदर आते हैं उनको कंट्रोल करना होता है।

क्या हैं सुसाइडल बिहेवियर के सिम्प्टम्स और उन्हें कैसे हैंडल करें?

मनोचिकित्सकों का कहना है कि सुसाइड बिहेवियर के सिम्प्टम पर अगर हम ध्यान दें तो हमें यह पता चल सकता है कि वह व्यक्ति सुसाइड करने वाला है, और हम उसको यह गलत काम करने से रोक सकते हैं। चलिए जानते हैं कि सुसाइड करने के सिम्प्टम कौन से हैं सुसाइड करने वाला व्यक्ति कभी एकदम से शांत हो जाता है और कभी एकदम से उत्तेजित हो जाता है।

*_ कभी उसको अचानक बहुत जल्दी गुस्सा आ जाता है कभी बिना बात के वो हंसने लगता है और बिना बात के ही रोने लगता है।

*_ हमेशा उसके मन में निगेटिव बातें आती हैं। उसके हर व्यवहार से निराशावादी होने का पता लगता है।

*_ उसकी लोगों की बातों को सोचने समझने की शक्ति खत्म हो जाती है। उसे कुछ समझ नहीं आता कि क्या सही है और क्या गलत है।
ऐसे लोग सोशल मीडिया पर बहुत देर तक एक्टिव रहते हैं। परंतु किसी से आमने सामने बात करने में घबराते हैं।

*_ उनकी हर चीजें अव्यवस्थित रहती हैं। उनका ध्यान अपने शरीर की सफाई पर नहीं रहता। जैसे कि ना उन्हें नहाने का ध्यान रहता है ना उन्हें ब्रश करने का ध्यान रहता है।

*_ उन्हें हमेशा यह लगता है कि दुनिया में वह सबसे बुरे हैं और हर कोई उन्हें बुरी नजर से देख रहा है।

*_ उन्हें किसी की भी बात अच्छी नहीं लगती। उन्हें हर किसी की अच्छी बात भी बुरी लगती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.