राजनीति

विवादित बयान के सरताज़ आज़म खान की हालत नाज़ुक, डॉक्टरों ने कही ये बात

डॉक्टरों ने कही ये बात जिससे आज़म के चाहने वालों की बढ़ गई धड़कन

विवादित बयानों के लिए मशहूर समाजवादी पार्टी के नेता आज़म खान की हालत नाज़ुक बताई जा रही है। बता दें कि 9 मई को वह कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। जिसके बाद से वे अस्पताल में भर्ती हैं। मेदांता अस्पताल में ईलाज करा रहे आज़म खान लगातार किसी न किसी बात को लेकर सुर्खियों में बने रहते हैं, लेकिन इस बार उनके चाहने वालों के लिए बुरी ख़बर है, क्योंकि मेदांता अस्पताल की तरफ़ से जारी बयान में उनकी हालत क्रिटिकल बताई जा रही। मालूम हो कि बीते दिनों ही यह ख़बर आई थी कि उन्हें ऑक्सीजन सपोर्ट पर रखा गया है। मेदांता अस्पताल, लखनऊ द्वारा जारी हैल्थ बुलेटिन में बताया गया है कि, “आज़म खान का स्कैन किया गया। जिसमें उनके फेफड़े में ‘फाइब्रोसिस’ और ‘कैविटी’ पाई गई है।”

 azam khan

वहीं अपने पिता के स्वास्थ्य को लेकर अब्दुल्ला आज़म का कहना है कि उनकी स्थिति अभी स्थिर है और उन्हें डॉक्टरों की सघन निगरानी में रखा गया है। मेदांता लखनऊ की “क्रिटिकल केयर एक्सपर्ट टीम” उनका बेहतर ईलाज कर रही है। वहीं दूसरी ओर अब्दुल्ला आज़म की कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आई है। जो कहीं न कहीं आज़म परिवार के लिए एक ख़ुशी की बात है।

azam khan

मेदांता अस्पताल के मेडिकल डायरेक्टर डॉक्टर राकेश कपूर की मानें तो पिछले दिनों आज़म खान के लंग्स में फाइब्रोसिस नामक रोग की पहचान हुई थी। जिसकी वज़ह से उनका ऑक्सीजन सपोर्ट बढ़ाया गया था।

जेल में बंद थे आज़म खान…

 azam khan

जानकारी के लिए बता दें कि अपने विवादित बयानों के लिए चर्चा में रहने वाले आज़म खान फ़रवरी 2020 से सीतापुर जेल में बंद थे। उनके ऊपर अवैध ज़मीन हथियाने और फ़र्जी प्रमाणपत्र बनवाने जैसे कई आरोप लगें है। इतना ही नहीं इन्हीं मामलों में उनका बेटा अब्दुल्ला भी उनके साथ जेल में बंद था, लेकिन कोरोना की वज़ह से इन दोनों को मेदांता अस्पताल लखनऊ में 9 मई को भर्ती कराया गया था।

आज़म खान के वे बयान जिससे शर्मसार हुई राजनीति…

 azam khan

समाजवादी पार्टी के नेता और रामपुर से लोकसभा सांसद आजम खान भले अभी कोरोना की वज़ह से अस्पताल में भर्ती हैं, वरना उनकी जुबां जब-जब चली है। उन्होंने आग ही उगला है। उनके कई सारे ऐसे बयान रहें हैं जो महिलाओं की अस्मिता के खिलाफ रहें, लेकिन पार्टी द्वारा कभी उनके खिलाफ कड़ा रुख अख्तियार नहीं किया गया। आजम खान के उस बयान को कौन भूल सकता है। जब वह बदायूं में एक सभा को संबोधित करते हुए महिलाओं को लेकर गंदी बात बोल गए थे। उन्होंने उस समय कहा था कि, “गरीब घर की महिलाए यार के साथ नहीं जा सकती इसलिए वह बच्चे ज्यादा पैदा करती हैं। उनके इस बयान के बाद भी उनकी खूब आलोचना भी हुई थी। इसके अलावा आजम खान के बयानों से सेना भी नहीं बची हैं। उन्होंने सेना को लेकर भी बहुत उल्टा सीधा बोला है। उन्होंने 2013 में कारगिल युद्ध को लेकर कहा था कि कारगिल पर देश को फतह मुस्लिम जवानों ने दिलायी थी। उनमें हिंदू शामिल नहीं थे। ऐसे में कहीं न कहीं विवादित बयानों से उनका पुराना रिश्ता रहा है। जो अभी अस्पताल में अपने लिए दुआएं मांग रहें हैं।

Back to top button
?>