ब्रेकिंग न्यूज़
Trending

तूफान के बीच समंदर में फंसी 410 जिंदगियां, राहत और बचाव अभियान में जुटी नेवी

नौसेना ने शुरू किया रेस्क्यू ऑपरेशान, बचाव कार्य में लगाए चार युद्धपोत

कोरोना महामारी के बीच देश में एक बड़ी आफ़त ने दस्तक़ दी है। चक्रवाती तूफान ‘ताउते’ ने महाराष्ट्र से लेकर गुजरात तक तबाही मची है। अलग-अलग इलाकों में तूफान के बीच आई तेज हवा और बारिश ने अपना कहर बरपाया। ऐसे में कहीं घर जमींदोज़ हो गए तो कहीं पेड़ ज़मीन पर पसर गए। वहीं ताउते चक्रवाती तूफान से मुंबई के समंदर में सैकड़ों जिंदगियां फंस गई थी। ऐसे में ज़रा सी भी देरी किसी अनहोनी को निमंत्रण दे सकती थी, लेकिन भारतीय नेवी ने जज्बे और समर्पण की एक अद्भुत मिसाल पेश की है। तूफान के बीच 24 घंटे से ज्यादा वक्त से नौसेना की टीम रेस्क्यू में जुटी है। इस दौरान नेवी के पास 4 एसओएस कॉल भी आए और नौसेनिकों ने तत्परता से उस पर एक्शन लेते हुए तूफ़ान में फँसे लोगों की ज़िंदगी बचाने के लिए अपना सबकुछ दांव पर लगा दिया है।

tauktae cyclone indian navy

गौरतलब हो कि सोमवार को निर्माण कम्पनी एफकान्स के “बंबई हाई तेल क्षेत्र” में अपतटीय उत्खनन के लिए तैनात दो बजरे लंगर से खिसक गए और वे समुद्र में अनियंत्रित होकर बहने लगे, जिसकी जानकारी मिलने के बाद नौसेना ने तीन फ्रंटलाइन युद्धपोत तैनात किए थे। इन दो बजरे पर 410 लोग सवार थे। इन दो बजरे की मदद के लिए आईएनएस कोलकाता, आईएनएस कोच्चि और आईएनएस तलवार को तैनात किया गया था।


जानकारी के लिए बता दें कि नौसेना ने अपने अदम्य साहस की मदद से अभी तक 146 लोगों को सुरक्षित बचा लिया है। नौसेना के एक अधिकारी की मानें तो लोगों को बचाने के लिए राहत और बचाव कार्य बीती पूरी रात चला और बाक़ी लोगों को बचाने के लिए यह राहत बचाव कार्य लम्बा खींच सकता है, क्योंकि समुद्र की स्थिति बहुत खराब है, तेज तूफान और हवाएं रेस्क्यू ऑपरेशन में कठिनाई पैदा कर रही हैं। उन्होंने कहा, “आईएनएस कोलकाता को आईएनएस कोच्चि के समर्थन में पी-305 बजरा की स्थिति की निपटने के लिए डायवर्ट कर दिया गया है। दो तटरक्षक जहाजों को पी-305 की ओर मोड़ दिया गया है जबकि एक अन्य जहाज को बचाव अभियान में भाग लेने के लिए गैल कंस्ट्रक्टर के पास भेजा गया।


वहीं गौरतलब है कि ऑपरेशन ताउते ने महाराष्ट्र में बीते दिन दस्तक दी थी, यहां करीब 6 लोगों की जानें गई है। जबकि देर रात को ये तूफान गुजरात पहुंचा, वहां पर भी भारी नुकसान दर्ज किया गया है। मुंबई में बीते दिन तेज़ हवाओं के बाद बारिश हुई, तो वहीं गुजरात, दमन-दीव के तटीय इलाकों में भी ऐसा ही असर देखने को मिला।

Back to top button