समाचार

कोरोना की चपेट में आ गए 80साल के आसाराम बापू, सांस लेने में हो रही दिक्कत, अस्पताल में हुए भर्ती

कोरोना वायरस का कहर दिन प्रतिदिन फैलता ही जा रहा है। इस वायरस की रफ्तार को कंट्रोल करने के लिए देश के कई हिस्सों में लॉकडाउन लगाया गया है। हालांकि अभी कोरोना की रफ्तार कम नहीं हुई है। आलम ये है कि घर बैठे लोग भी किसी न किसी तरह से इस वायरस की चपेट में आ रहे हैं। ये वायरस भारतीय जेलों तक भी पहुंच चुका है। कई कैदी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इस लिस्ट में अब 80 साल के आसाराम बापू भी शामिल हो गए हैं।

गौरतलब है कि आसाराम बापू लंबे समय से राजस्थान की जोधपुर जेल मे बंद हैं। हाल ही में उन्हें सांस लेने में तकलीफ और बैचेनी हो रही थी। ऐसे में बापू का टेस्ट कराया गया तो वे कोरोना पॉजिटिव पाए गए। बुधवार शाम को जैसे ही यह रिपोर्ट आई तो उन्हें महात्मा गांधी अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में एडमिट किया गया। उधर आसाराम की तबीयत बिगड़ने की खबर लगते ही बड़ी संख्या में उनके समर्थक हॉस्पिटल आ पहुंचे।

बताते चलें कि आसाराम बापू पिछले कई दिनों से खराब सेहत का सामना कर रहे हैं। उनकी तबीयत आजकल कोई खास ठीक नहीं रहती है। अभी फरवरी माह में ही उन्हें बैचेनी की शिकायत हुई थी। तब भी वे अस्पताल में भर्ती किए गए थे। सूत्रों की माने तो उनकी सेहत में लगातार गिरावट होती जा रही है। उन्हें पिछले तीन दिनों से बैचेनी और सांस लेने में तकलीफ की शिकायत थी। उनकी शिकायत के बाद ही उनका कोरोना टेस्ट हुआ था।

गौरतलब है कि इस समय आसुमल थाउमल हरपलानी उर्फ आसाराम बापू  एक नाबालिग लड़की से रेप के मामले में राजस्थान की जोधपुर जेल में सजा काट रहे हैं। उनके ऊपर साल 2013 में एक नाबालिग लड़की से रेप करने का आरोप लगा था। इसके अलावा उनके ऊपर नरबलि और हत्या जैसे मामले भी दर्ज हैं। एक समय था जब देशभर में आसाराम की बहुत पूछ परख थी। उनके प्रवचन सुनने के लिए लोगों की भीड़ लगी रहती थी। लेकिन जब से उनके ऊपर रेप का आरोप लगा है तब से उनके समर्थकों में भारी गिरावट आई है।

यदि आसाराम कोरोना को मात दे देते हैं तो उन्हें पुनः जेल में शिफ्ट कर दिया जाएगा। वैसे उनकी उम्र 80 साल है और उनकी तबीयत भी काफी समय से खराब है। ऐसे में वे कोरोना वायरस को कैसे हराते हैं यह देखने वाली बात होगी। वैसे हमारी सलाह आपको यही है कि आप जितना हो सके सावधान रहे और इस वायरस से बचने की कोशिश करें।

Back to top button
?>