ब्रेकिंग न्यूज़

NIA के हाथ लगी सचिन वाझे की डायरी, वसूली के रेट के बारे में कॉर्ड में लिखी है जानकारी

एंटीलिया मामले की जांच कर रही राष्ट्रीय जांच एजेंसी के हाथ एक डायरी लगी है। जिसमें सचिन वाझे ने कोड वर्ड में कुछ नाम लिख रखे हैं। इस डायरी में रेस्त्रां, पब और हुक्का बार से कितने पैसे वसूले गए हैं। इन सबका जिक्र किया गया है। अभी तक की जांच में पाया गया है कि सचिन वाझे ने जनवरी महीने से ये वसूली करना शुरू किया था। लेकिन सचिन वाझे खुद इन पैसों की वसूली नहीं करता था।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार डायरी में सचिन वाझे की टीम ने कितनी वसूली की है। इस बारे में लिखा गया है। इस डायरी में हर होटल और पब वालों के नाम के आगे रेटकार्ड लिखे हैं। इस डायरी में मुंबई के लॉटरी कारोबारी और मटके धंधे की भी पूरी डिटेल है और इनके आगे भी रकम की जानकारी दी हुई है। जांच में ये सामने आया है कि सचिन वाझे के नाम पर कुछ गुंडे पैसों की उगाही करते थे और आगे बढ़ाते थे।

एनआईए के अधिकारियों का कहना है कि अभी वो इस बात का जांच कर रहे हैं कि आखिर जिलेटिन की छड़ें कहां से आई थीं। गौरतलब है कि 25 फरवरी को मुकेश अंबानी के घर के बाहर एक स्कॉर्पियो मिली थी। इसके अंदर जिलेटिन की छड़ी मौजूद थी। अभी तक की जांच में पाया गया है कि इस पूरी साजिश में वाझे शामिल थे। वाझे ने ये सब क्यों किया इसकी पड़ताल एनआईए कर रही है। साथ में ही उन लोगों के नाम का भी पता लगाने में लगी है, जो कि सचिन वाझे के साथ इसमें शामिल थे।

वहीं महाराष्ट्र आतंकवाद रोधी दल (एटीएस) ने मनसुख हिरेन हत्याकांड के संबंध में दमन से एक कार बरामद की है। वॉल्वो कार सोमवार को बरामद की गई है। लेकिन इसके मालिक का अभी पता नहीं चला पाया है। बरामद की गई कार को ठाणे स्थित एटीएस कार्यालय में रखा गया है।

दूसरी ओर पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने प्रेसवार्ता करते हुए जानकारी दी कि उनके पास एक चिट्ठी है। जिसे लेकर शाम को वो दिल्ली में केंद्रीय गृह सचिव से मुलाकात करेंगे और गृह सचिव से सीबीआई से जांच कराने की मांग करेंगे। देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि राज्य में ट्रांसफर-पोस्टिंग का एक रैकेट चल रहा है। जब मैं मुख्यमंत्री था तब भी ऐसी खबरें सामने आई थीं और हमने इसका सख्त निपटारा किया था। फडणवीस ने दावा किया कि उनके पास फोन कॉल रिकॉर्डिंग है, जिससे पता चलता है कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के पास ये सब जानकारी थी।

Back to top button