समाचार

राकेश टिकैत के कोरोना टीका मांग पर बोले बॉलीवुड डायरेक्टर, ‘ये क्या हलवा है कि वहां भी भेज दें’

कृषि कानूनों के खिलाफ यूपी गेट पर धरना-प्रदर्शन दे रहे किसान नेता राकेश टिकैत ने कोरोना वैक्सीन की मांग की है। मांग करते हुए इन्होंने कहा है कि इन दिनों कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं। तो उनकी गाइडलाइंस को फॉलो किया जाए। आंदोलन स्थलों पर जो किसान प्रदर्शनकारी बैठे हैं, उनको भी वैक्सीन लगाई जाए। आंदोलन स्थलों पर हम शारीरिक दूरी का पालन कर रहे हैं। ऐसे में धरना स्थल पर आने जाने वाले किसानों को वैक्सीन लगाई जाए।

राकेश टिकैत की इस मांग पर बॉलीवुड के नामी डायरेक्टर अशोक पंडित का बयान आया है। बॉलीवुड के डायरेक्टर अशोक पंडित ने भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत की मांग पर एक ट्वीट किया और लिखा कि हलवा है क्या कि तुमको उधर ही भजे दे। दरअसल किसान नेता राकेश टिकैत ने गुरुवार को एक संबोधन के कहा था कि सरकार को धरना स्थल पर कोरोना की वैक्सीन भेजनी चाहिए। ताकि जो किसान आंदोलन कर रहे हैं वो ये वैक्सीन लगा सकें। साथ में ही राकेश टिकैत ने ये भी कहा था कि वो भी खुद ये वैक्सीन लगाएंगे। वहीं लंबे समय से चल रहे आंदोलन पर इन्होंने कहा था कि कोरोना के कारण आंदोलन खत्म नहीं होने देंगे, टेंटों को और बड़ा बना लेंगे और आंदोलन लंबा चलेगा।


राकेश टिकैत की इसी मांग पर अब डायरेक्टर अशोक पंडित की ये प्रतिक्रिया आई है। वहीं हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर के आदेश पर फिलहाल कुंडली बॉर्डर पर शिविर लगाए गए हैं। यहां पर किसान प्रदर्शनकारियों को टीका लगाने की पूरी तैयार कर रखी है। उम्मीद की जा रही है कि आने वाले दिनों में इनका टीकाकरण शुरू हो जाए। टीकरी समेत अन्य बॉर्डर पर भी जल्द ही टीकाकरण की शुरुआत हो सकती है।

गौरतलब है कि 16 जनवरी से देश में कोरोना वायरस टीकाकरण की शुरुआत हो गई है। पहले चरण में डॉक्टरों के साथ फ्रंटलाइन वर्कर्स को कोविड-19 वैक्सीन दी गई है। वहीं अब दूसरा चरण चल रहा है। जिसके तहत गंभीर बीमारियों से ग्रसित 45 वर्ष से अधिक लोगों और 60 साल से अधिक आयु के लोगों को कोरोना का टीका लगाया जा रहा है। हालांकि इसके बावजूद कोरोना काबू में नहीं आया है और कोरोना के केसों में एकदम से उछाल आया है। 24 घंटे में कोरोना के 39 हजार से अधिक मामले सामने आए हैं, जो कि चिंता का विषय हैं।

दूसरी तरफ किसान भाई लंबे समय से दिल्ली के बॉर्डरों पर धरना प्रदर्शन कर रहे हैं और सरकार से नए कृषि काननू को वापस लेने की मांग कर रहे हैं। कोरोना जैसी महामारी के बीच भी भारी संख्या में किसान बॉर्डरों पर जमा हुए हैं।

Back to top button