नई दिल्ली – पिछले कुछ दिनों से वंदेमातरम बोलने और न बोलने को लेकर विवाद बढ़ता जा रहा है। जहां कुछ लोग सरकारी संस्थाओं में वंदेमातरम को अनिवार्य करने के पक्ष में हैं तो वहीं कुछ विशेष धर्म के लोगों को जो इस देश में रहते खाते पीते और मौज करते हैं उन्हें वंदे मातरम कहने में आपत्ति है। गौरतलब है कि उत्तराखंड सरकार के एक मंत्री ने यह बयान भी दे दिया कि अगर उत्तराखंड में रहना है तो वंदेमातरम कहना है। इस पर विरोधी किसी कीमत पर वंदेमातरम कहने से परहेज कर रहे हैं। हालांकि, यह एक फ्रीडम ऑफ स्पीच हो सकता है, लेकिन वंदे मातरम कहने से किसी की आजादी को कैसे खतरा हो सकता है। Muslim fight in live show.

लाइव टीवी डिबेट में भिड़ गए दो मौलवी –

वीडियो : ‘वंदे मातरम’ पर भीड़ गए दो मौलाना, एक ने कहा – ‘तुम तो मोदी और योगी रंग में रंग गए’

वंदेमातरम को फ्रीडम ऑफ स्पीच से जोड़कर किए जा रहे एक लाइव टीवी डिबेट के दौरान दो मौलवी आपस में भिड़ गए। झगड़े के दौरान एक ने कहा कि मुसलमानों को वंदेमातरम बोलने में कोई आपत्ति नहीं होनी चाहिए, क्योंकि इससे इस्लाम को कोई खतरा नहीं है। तो वहीं दूसरे मौलवी ने जवाब में कहा कि आप कौन होते हैं मुसलमानों की बात करने वाले। आप तो मोदी और योगी के रंग में रंगे हुए हैं।

आपको बता दे कि ये डिबेट हिंदी न्यूज चैनल आज तक पर चल रही थी। जिसका मुद्दा था कि क्या वंदेमातरम कहना ही होगा। इसी मुद्दे पर बहस के दौरान मौलाना नदीमुद्दीन ने कहा कि किसी को भी वंदेमातरम बोलने में दिक्कत नहीं होनी चाहिए, क्योंकि आजादी की लड़ाई में हिंदू मुसलमान दोनों धर्म के लोगों ने भाग लिया था।

मौलाना पर चढ़ा मोदी और योगी का रंग –

नदीमुद्दीन की बात सुनकर मौलाना मंसूर रजा को गुस्सा आ गया और एंकर को बीच बचाव करना पड़ा। जिसके बाद एंकर ने यासूब अब्बास को बोलने को कहा। यासूब अब्बास ने इस मुद्दे पर अपनी बात रखते हुए कहा कि, मुसलमान सिर्फ अल्लाह की इबादत करता है और अल्लाह के लिए सभी भगवान और धर्म बराबर हैं।

वंदे मातरम कहने में इस्लाम को कोई नुकसान नहीं हो रहा। इतना सुनते ही मौलाना अंसार रजा को गुस्सा आ गया। और उन्होंने यासूब अब्बास से कहा कि आप ये सब कहां से बोल रहे हैं आपको पता भी है। आप पर मोदी और योगी का रंग चढ़ा हुआ है। जिसके बाद शो के एंकर ने मामले को शांत कराया।

देखें वीडियो –

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.