राजनीति

शुभेंदु अधिकारी को TMC कार्यकर्ताओं ने नंदीग्राम जानें से पहले ही रोका, क्या हमले की थी तैयारी?

पश्चिम बंगाल में कुछ ही दिनों में विधानसभा चुनाव शुरू होने वाले है. यहाँ की नंदीग्राम सीट पर हाई प्रोफाइल मुकाबला देखने को मिल रहा है. इस सीट से TMC की तरफ से खुद बंगाल की सीएम ममता बनर्जी लड़ रही है. वही उनके सामने है TMC के पूर्व नेता और नंदीग्राम के विधायक शुभेंदु अधिकारी जो पाला बदलकर BJP की तरफ से लड़ रहे है. अब हालिया खबर मिली हैं कि बीजेपी नेता शुभेंदु अधिकारी का रविवार को पश्चिम बंगाल के नंदीग्राम में TMC के कार्यकर्ताओं ने रास्ता रोका था.

जानकारी के मुताबिक TMC कार्यकर्ताओं ने सोनाचुरा इलाके में शहीद मीनार के पास शुभेंदु अधिकारी के खिलाफ नारेबाजी करते हुए उनका रास्ता रोक लिया था. इसी मामले में कई अन्य मीडिया प्लेटफार्म का कहना था कि, टीएमसी कार्यकर्ता उनका रास्ता रोकने की कोशिश कर रहे थे, वहीं शुभेंदु को बीजेपी में उनके समर्थक वहां से निकालने के लिए कोशिश करते नज़र आये.

आपको बता दें कि नंदीग्राम वही विधानसभा सीट हैं, जिसका चर्चा अभी देश भर में है. यहाँ से सीएम और टीएमसी सुप्रीमो ममता बनर्जी अपना दमखम दिखा रही है. इसके साथ ही वह इस बार एक ही सीट से चुनाव लड़ रही है. इस सीट पर काटे को टक्कर होने वाली है. इसी वजह से तमाम पार्टियों की नज़र भी इस सीट पर बनी हुई है. वहीं इसके साथ सीएम ने 2007 में पुलिस की गोलीबारी में मारे गए आंदोलनकारियों को नंदीग्राम पहुंच रविवार को श्रद्धांजलि दी.

इस दौरान ममता ने कहा कि, ‘शहीदों’ के सम्मान के लिए उन्होंने इस निर्वाचन क्षेत्र में बंगाल विरोधी ताकतों के खिलाफ लड़ने का फैसला किया है. ममता बनर्जी ने नंदीग्राम सीट से अपने पूर्व सहयोगी और भाजपा प्रत्याशी शुभेंदु अधिकारी को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि किसान पश्चिम बंगाल का सम्मान हैं और प्रदेश सरकार उनके विकास के लिए बिना रुके कर रही है. उन्होंने ट्वीट किया कि, ‘आज ही के दिन, 2007 में # नंदीग्राम में गोलीबारी में निर्दोष ग्रामीण मारे गए थे. कई किसानों के शव नहीं मिल सके. यह राज्य के इतिहास का एक काला अध्याय था. उन सभी को दिल से हार्दिक श्रद्धांजलि’

ममता बनर्जी ने एक अन्य ट्वीट में लिखा, ‘नंदीग्राम में अपनी जान गंवाने वालों की याद में, TMC हर साल 14 मार्च को कृषक दिवस के रूप में मानती हैं और कृष्णरत्न पुरस्कार देते हैं. किसान हमारी शान हैं और हमारी सरकार उनके सर्वांगीण विकास के लिए काम कर रही है. ममता के इसी ट्वीट पर बोलते हुए अधिकारी ने एक समाचार एजेंसी को बताया, गोलीबारी के लिए जिम्मेदार उन पुलिस अधिकारियों को सम्मान देने वालों को नंदीग्राम दिवस मनाने का कोई अधिकार नहीं है. इतने सालों में जो लोग नंदीग्राम को भूल चुके थे वे अब यहां सिर्फ वोट मांगने के लिए आये है.

आपको बता दें कि बंगाल राज्य की 294 सदस्यीय विधानसभा के लिए आठ चरणों में चुनाव होगा जो 27 मार्च से 29 अप्रैल तक होगा. इसके नतीजों का ऐलान दो मई को होने वाला है. अगर इस चुनाव से पहले एग्ज़िट पोल की माने तो बंगाल में एक बार फिर दीदी का जादू देखने को मिल सकता है. वहीं BJP को सीएम की कुर्सी नहीं मिलते दिख रही. हालांकि सर्वे के मुताबिक BJP राज्य की सबसे बड़ी दूसरे नंबर की पार्टी जरूर बन रही है.

Show More
Back to top button