ब्रेकिंग न्यूज़

कलियुगी बेटा: पैसों की खातिर योगेश ने ली थी अपनी मां की जान, एक कॉल ने खोल दिया राज

सराफ कुलदीप की पत्नी कंचन वर्मा के कत्ल की गुत्थी हल करने में एक फोन कॉल पुलिस के लिए काफी मददगार साबित हुई और इस फोन कॉल के जरिए ही पुलिस को कंचन वर्मा के बेटे और उसकी पत्नी पर शक हुआ। यूपी के अलीगढ़ महानगर के एटा चुंगी के सटी सरोज नगर कॉलोनी में सराफ कुलदीप के घर में शुक्रवार को चोरी की एक घटना हुई थी और घर से करोड़ों का समान लूटा लिया गया था। साथ में ही इनकी पत्नी कंचन की हत्या भी कर दी गई थी। इस मामले की जांच करते हुए पुलिस ने पाया कि कंचन की हत्या उनके बेटे योगेश उर्फ राजा ने की है और इस हत्या में योगेश का साथ उसकी प्रेमिका व दोस्तों ने दिया है।

इस मामले में शुरू से ही पुलिस व विवाहित बहनों को भाई योगेश पर शक था। लेकिन शनिवार को एक फोन कॉल की मदद से मिले सुराग के आधार पर पुलिस ने कंचन वर्मा के कत्ल में योगेश के साथ-साथ उसकी पत्नी, दोस्त और उसकी प्रेमिका को गिरफ्तार कर लिया। इतना ही नहीं पुलिस को घर से लूटे गए एक करोड़ के जेवरात व एक लाख रुपये नकद भी मिल गई। इस पूरे मामले को पुलिस ने महज एक दिन के अंदर हल किया है।

इस तरह से पकड़े गए आरोपी

मौका-ए-वारदात पर पुलिस को कई ऐसे सुराग मिले थे। जिससे पुलिस को ये पता चल गया था कि आरोपी घर का ही सदस्य है। आरोपी को पकड़ने के लिए पुलिस ने सीसीटीवी की मदद ली और कई सारे सुराग पुलिस को मिले। जो योगेश की ओर इशारा कर रहे थे। शनिवार सुबह अंतिम संस्कार के बाद पुलिस ने परिवार के सदस्यों से बातचीत की। मिले साक्ष्यों व सुरागों के आधार पर योगेश पर शक पुख्ता हो गया। इसी बीच शनिवार शाम एक फोन कॉल ऐसी आई जिनसे ये साबित कर दिया की कंचन का कातिल कोई ओर नहीं बल्कि उनका बेटा योगेश ही है।

एसएसपी के अनुसार, शाम को कुलदीप के बेटे योगेश उर्फ राजा को थाने ले जाकर जब पूछताछ शुरू की गई तो उसने खुद ही गुनाह कबूल किया। उसने पुलिस को बताया कि अपनी पत्नी सोनम उर्फ चित्रा, दोस्त तनुज चौधरी व उसकी प्रेमिका शेहजल चौहान उर्फ रिनी के साथ मिलकर ये वारदात उनसे की। जिसके बाद पुलिस ने अन्य आरोपियों को भी पकड़ लिया। तनुज को उसके घर और रिनी को उसके घर से गिरफ्तार किया गया। तनुज से लूट की रकम में से 50 हजार रुपये बरामद हुए। इस तरह कुल एक करोड़ के सोने, चांदी व हीरों के जेवरात और एक लाख रुपये बरामद किए गए। पुलिस ने जांच में पाया कि वारदात के समय योगेश व तनुज घर के अंदर गए थे। जबकि रिनी बाहर रेकी कर रही थी। वारदात के समय पहने गए कपड़ों को तीनों ने किराये के मकान की छत पर जला दिया था। उसकी राख से तिजोरी काटने में प्रयुक्त किया गया ग्राइंडर भी बरामद किया गया। ये चारों आरोपी अब जेल में हैं।

जिस तरह से पुलिस ने इस केस को हल किया उसके लिए एसएसपी ने पुलिस टीम को 25 हजार के इनाम की घोषणा की है। इसके अलावा आईजी, एडीजी जोन स्तर से भी नकद इनाम की घोषणा हुई है। डीजीपी ने टीम को बधाई दी है। साथ में सम्मान देने की घोषणा की गई है।

इस वजह से की मां की हत्या

योगेश की प्रेमिका पहले से शादीशुदा थी और उसका एक बच्चा भी था। जिसके कारण योगेश के परिवार वालों को ये रिश्ता पसंद नहीं था। योगेश को परिवार वालों ने घर स भी निकाल दिया था। वो प्रेमिका के साथ रहने लगा और इन्होंने शादी कर ली। वहीं कुछ समय बाद योगेश की नौकरी चले गई और परिवार वालों की ओर से भी उसे पैसे नहीं दिए जा रहे थे। ऐसे में योगेश ने अपने घर में ही चोरी करने का प्लान बनाया। घर में योगेश की मां मौजूद थी। जिन्होंने योगेश को देख लिया था। ऐसे में योगेश ने अपने साथी के साथ मिल मां का गला घोंट उनकी हत्या कर दी।

Show More
Back to top button