काले धन के खिलाफ और सख्त हुआ आयकर विभाग, 15 दिनों में छापेमारी से 540 करोड़ का खुलासा!

देश के आर्थिक उत्थान के लिए उठाये गए कदमों में पीएम मोदी के नोटबंदी के फैसले को नाकारा नहीं जा सकता. नोटबंदी के दौरान भले ही पूरे देश को लम्बी लम्बी कतारों में खड़ा होना पड़ा लेकिन देश इस फैसले से बहुत खुश था. फिर भी कुछ लोगों को इस फैसले से भी दिक्कत थी वो लोग बोलते थे कि बड़ी मछलियां नहीं फसेंगी. बड़े लोग अपना काला धन बचा लेंगे.

 15 दिनों में 540 करोड़ रूपये के काले धन का पता लगाया:

ताजा मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक आयकर विभाग ने 15 दिनों में 540 करोड़ रूपये के काले धन का पता लगाया है. प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के 31 मार्च को बंद होने के बाद इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने राष्ट्रिय स्तर पर टैक्स चोरी करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की. नए वित्तीय वर्ष की शुरुआत होते ही विभाग ने जमकर छापेमारी की और 15 दिन में 540 करोड़ का काला धन बरामद किया.

विभाग ने इसके लिए एंट्री ऑपरेटरों, मुखौटा कंपनियों, सरकारी अधिकारियों, रियल एस्टेट कारोबारियों और अन्य क्षेत्र के लोगों पर कार्रवाई की. इन 15 दिनों में आयकर विभाग ने कुल 250 जगह छापेमारी की. इस छापेमारी में कम से कम 300 मुखौटा कंपनियों का पता चला. दरअसल 31 मार्च को प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना खत्म हो गयी. इसके बाद आयकर विभाग ने छापेमारी शुरू की. इस योजना के तहत काला धन रखने वाले लोगों को 31 मार्च तक खुलासा करने और टैक्स भरने का मौका दिया गया था.

इस योजना के तहत जो लोग काले धन का खुलासा नहीं करेंगे और बाद में पकडे जाते हैं तो उन्हें बहुत ऊंची दर से टैक्स का भुगतान करना पड़ेगा साथ ही जुर्माना भी बहुत ज्यादा वसूल किया जायेगा. आयकर विभाग का कहना है कि उसके पास काला धन रखने वालों का पूरा ब्यौरा और दस्तावेज हैं ऐसे में उन लोगों को सूचित किया गया है और छूट की अवधि दी गयी है. इस दौरान अगर वह खुलासा नहीं करते हैं और टैक्स नहीं भरते हैं तो उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.