समाचार

दरवाजे पर खड़े होकर पत्नी को दिया ट्रिपल तलाक, घर से निकालते ही किया दूसरा निकाह

हिमाचल प्रदेश में ट्रिपल तलाक का पहला मामला सामने आया है। इस राज्य की एक मुस्लिम महिला ने अपने शौहर के खिलाफ ये केस दर्ज किया है। इस महिला का आरोप है इसके शौहर ने उसे तीन तलाक दिया है। राजधानी शिमला में रहने वाली इस महिला का कहना है कि निकाह के 24 साल बाद उसके पति ने उसे ट्रिपल तलाक दिया है। मुस्लिम महिला (विवाह पर अधिकारों का संरक्षण) अधिनियम, 2019 के तहत मामला दर्ज किया गया है और पुलिस ने जांच भी शुरू कर दी है।

पीड़िता का नाम शगुफ्ता खान है। 49 वर्षीय शगुफ्ता खान के अनुसार 12 जनवरी को उसके पति ने उसे तलाक दिया है। जिसके बाद उसने पुलिस से मदद मांगी और ट्रिपल तलाक कानून के तहत केस दर्ज करवाया। पुलिस को पीड़िता ने बताया कि वो 12 जनवरी को दिल्ली से शिमला के भरारी स्थित अपने निवास स्थान पर लौटी। लेकिन उसके पति अयूब खान ने उसे घर के अंदर प्रवेश नहीं करने दिया और दरवाजे पर खड़े होकर तीन बार तलाक-तलाक-तलाक बोल दिया। इसके बाद शगुफ्ता खान को घर के अंदर घुसने तक नहीं दिया गया।

शगुफ्ता खान

शगुफ्ता खान को घर से निकालने के कुछ ही दिनों में अयूब खान ने दूसरा निकाह भी कर लिया। वहीं घर से निकाले जाने के कारण शगुफ्ता खान को एक मस्जिद में शरण लेनी पड़ी। कुछ समय बाद पीड़िता ने पुलिस में केस भी दर्ज करवाया। पुलिस के अनुसार पीड़िता का पति उच्च न्यायालय में एक वकील है और लंबे समय से उसे परेशान कर रहा है।

शगुफ्ता ने बताया कि बच्चे भी उसके खिलाफ हैं और पापा का पक्ष ले रहे हैं। क्योंकि सभी को उनसे डर लगता है। शगुफ्ता ने कहा कि मेरे पास कुछ नहीं बचा है। इसलिए, ये स्पष्ट है कि वे अपने पिता का समर्थन करेंगे। कोई भी मेरे समर्थन में नहीं आया। मेरे पति ने मुझसे सब कुछ छीन लिया। शगुफ्ता का आरोप है कि उसके पति ने कई बार उसपर हाथ भी उठाया है और उसे मारा भी है। इतना ही नहीं  शगुफ्ता को उसका पति दवाई तक नहीं दिया करता था।

शगुफ्ता  ने कहा कि पति ने दो बार मुझे पीटा है और दवाओं से वंचित रखा है। मैं मधुमेह की बीमारी से पीड़ित है। ससुराल वालों ने गलत दवाएं दीं जिससे मैं अवसाद में चले गई। पुलिस ने मुस्लिम महिलाओं (विवाह पर अधिकारों का संरक्षण) अधिनियम, 2019 के तहत मामला दर्ज कराया है। शिमला के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक प्रवीर ठाकुर ने कहा कि ये हिमाचल प्रदेश में उपर्युक्त कानून के तहत पंजीकृत पहला ट्रिपल तालक मामला है। पुलिस जल्द ही पति के खिलाफ कार्रवाई करेगी।

Back to top button
?>