राजनीति

BJP ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर किया खुलासा, कहा ‘जय श्री राम’ से चिढ़ना उनकी औंछी राजनीति

नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती के मौके पर पश्चिम बंगाल में आयोजित कार्यक्रम में जय श्रीराम के नारे लगाए गए. इस दौरान ममता बनर्जी इस नारे से नाराज़ हो गई. इस दौरान उन्होंने बोलने से मना कर दिया है. वहीं, उन्होंने भीड़ पर पार्टी विशेष होने के आरोप भी लगाए हैं.

इस बात पर बीजेपी ने उन पर काफी गंभीर आरोप लगाए है. ममता पर बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के आरोप लगाते हुए कहा नेता जी सुभाष चंद्र बोस के मंच पर बंगाल मुख्यमंत्री ने बनर्जी ने अल्पसंख्यक के वोट का लाभ लेने का प्रयास किया है, ये बहुत ही शर्म की बात है. उन्हें जय श्री राम के जप में क्या समस्या है, मैं यह समझ नहीं पा रहा हूं. मुख्यमंत्री इससे क्यों नाराज़ हैं. इस नारे से चिढ़ना कुछ और नहीं बल्कि उनकी हताशा को बतलाता है. इतना ही नहीं कैलाश विजयवर्गीय ने आरोप लगाया कि जय श्रीराम के नारे से चिढ़ना कुछ नहीं सिर्फ ममता की राजनीति है.

आपको बता दें कि इस नारेबाजी का सीएम ममता बनर्जी ने काफी कड़ा विरोध किया है. उन्होंने कहा यह कोई राजनीतिक कार्यक्रम नहीं है. इसके आगे केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा है कि सरकार के कार्यक्रम की कुछ गरिमा बनी रहनी चाहिए. इसके साथ ही उन्होंने इस दौरान खुद को काफी अपमानित भी महसूस किया. ममता ने बीजेपी को यही नहीं छोड़ा उन्होंने आगे कहा किसी को आमंत्रित करने के बाद उसका अपमान करना आपको किसी भी तरह से शोभा नहीं देता. अपनी इतनी बात रखने के बाद उन्होंने कार्यक्रम में कुछ भी बोलने से इंकार कर दिया.


आपको बता दें कि पश्चिम बांगाल की राजधानी कोलकाता स्थित विक्टोरिया मेमोरियल पर कार्यक्रम आयोजित किया गया है. इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) भी मौजूद थे.

ममता ने कहा हम पराक्रम दिवस नहीं देशनायक दिवस मनाएंगे
आपको बता दें कि ममता ने केंद्र सरकार के पराक्रम दिवस का भी विरोध जताते हुए कहा था कि हम देशनायक दिवस मनाएंगे. सीएम ममता बनर्जी ने अपने एक बयान में कहा, ‘मैं केंद्र सरकार के फैसले नेताजी सुभाष चंद्र जी की जयंती को मनाए जाने के खिलाफ हूँ और इस पर अपनी नाराज़गी जाहिर करती हूँ. केंद्र की इन नीतियों पर हमला बोलते हुए बंगाल सीएम ने कहा कि उन्होंने मूर्तियों के निर्माण और एक नए संसद परिसर बनवाने के लिए हजारों करोड़ रुपये खर्च कर दिए हैं. हमारे द्वारा आजाद हिंद स्मारक का निर्माण किया जाएगा. हम बताएंगे कि यह कैसे होता है.


पीएम के सामने ही सरकार को घेरा
इस कार्यक्रम के तहत पीएम मोदी के सामने ही बनर्जी ने अपनी नाराजगी बताई. इस कार्यक्रम के दौरान कई कालाकारों ने अपनी कला का प्रदर्शन भी किया. इसके साथ ही पीएम ने एक पोस्टल स्टाम्प भी जारी किया है. ज्ञात होकि शनिवार को कोलकाता में बोस की जयंती के मौके पर 7 किमी लंबी एक रैली का भी आयोजन किया गया था. इस रैली के दौरान ममता बनर्जी ने भारतीय जनता पार्टी पर आरोप लगाए थे. ममता ने कहा ‘हम नेताजी का जन्मदिवस केवल उन वर्षों में नहीं मनाते, जब राज्य में चुनाव होने हों. हम बड़े पैमाने पर उनकी 125वीं जयंती का उत्सव मना रहे हैं.

Back to top button