विशेष

शादी के 17 दिन बाद महिला ने दिया बच्चे को जन्म, प्रेमी को बचाने के लिए पिता-भाई पर मढ़ा दोष

उत्तर प्रदेश के उन्नाव में एक नई नवेली दुल्हन शादी के 17 दिनों बाद मां बन गई और उसने एक बेटे को जन्म दिया। जिसके बाद ससुराल वालों ने लड़की के घर वालों को बुलाकर सच जाने की कोशिश की। हालांकि इस दौरान मायके पक्ष के लोगों ने ससुर को जान से मारने की नीयत से हमला कर दिया। जिसके बाद ये मामले पुलिस थाने पहुंच गया और पुलिस के सामने महिला ने अपनी पुरी कहानी सुनाई। ये घटना साल 2019 के दिसंबर महीने की है। बताया जा रहा है कि महिला ने उस समय एसपी रहे विक्रांतवीर से मिलकर उन्हें बताया कि उसके पिता और भाई उससे देह व्यापार करा रहे थे। इतना ही नहीं उन्होंने खुद भी उससे दुष्कर्म किया। महिला की शिकायत के आधार पर एसपी के निर्देश पर 29 दिसंबर 2019 को केस दर्ज किया गया। पुलिस ने महिला की तहरीर के आधार पर उसके पिता, दो सगे, चचरे भाइयों समेत 10 लोगों पर सामूहिक दुष्कर्म, जान की धमकी, मारपीट समेत अन्य धाराओं में रिपोर्ट दर्ज कर जांच शुरू की थी।

जांच करने के दौरान पता चला सच

इस केस की जांच पुलिस लंबे समय से कर रही थी और मंगलवार को इस केस को हल कर लिया गया है। पुलिस के अनुसार महिला ने झूठी कहानी पुलिस को सुनाई थी। इस महिला का चक्कर दिलीप नाम के युवक से चल रहा था। इस दौरान महिला ने गर्भ धारण कर लिया। जब लड़की के परिवार वालों को ये बात पता चली तो उन्होंने इसकी शादी करवा दी। शादी के समय लड़की के पेट में सात महीने का गर्भ था। वहीं शादी के 17 दिन बाद लड़की के पेट में दर्द हुई। जिसके बाद उसे अस्पताल में भर्ती किया गया। तब ससुराल वालों को पूरा सच पता चला कि लड़की गर्भवर्ती है। वहीं इस लड़की ने अस्पातल में एक बेटे को जन्म दिया। वहीं जब ये मामला सामने आया तो इस लड़की ने अपने प्रेमी के कहने पर परिवार वालों पर झूठा आरोप लगाते हुए केस दर्ज कर दिया।

पुलिस के अनुसार महिला ने सामूहिक दुष्कर्म की झूठी रिपोर्ट दर्ज करवाई थी। वहीं जांच में महिला ने प्रेमी के कहने पर अपनों को फंसाने की बात स्वीकार की। जिसके बाद पुलिस ने प्रेमी को गिरफ्तार कर लिया है। लखनऊ के बंथरा थाना क्षेत्र की रहने वाली महिला ने 29 दिसंबर 2019 को केस दर्ज किया था। महिला ने आरोप लगाया था कि 3 साल से उसके पिता और भाई उससे देह व्यापार करा रहे हैं। उन्होंने खुद भी उससे दुष्कर्म किया। इस दौरान सात माह का गर्भ ठहरने पर पिता ने उसकी शादी उन्नाव के सदर कोतवाली क्षेत्र के एक गांव में कर दी। विवाह के 17 दिन बाद प्रसव पीड़ा शुरू हुई। तब ससुराल वालों के सामने सच आया।

महिला थाना एसओ इंद्रपाल सिंह सेंगर ने बताया कि शादी के दो वर्ष पहले से महिला के लखनऊ के बंथरा थाना क्षेत्र के एक गांव निवासी दिलीप से अवैध संबंध थे। इसी दौरान गर्भ ठहरने करने पर उसकी दूसरे युवक से शादी कर दी गई। अपने गुनाह को छिपाने के लिए प्रेमी के कहने पर महिला ने पिता समेत अन्य पर आरोप मढ़ दिया। जिसके बाद आरोपी दिलीप और परिवार के साथ बच्चे का डीएनए सैंपल कराया गया तो बच्चा दिलीप का निकला। जिसके बाद दिलीप को गिरफ्तार कर जेल भेजा दिया गया है।

Show More
Back to top button