विशेष

15 अगस्त को लॉन्च को सकती है कोरोना की वैक्सीन Covaxin, जुलाई से शुरु हो रहा ह्यूमन ट्रॉयल

अगर सभी ट्रॉयल सफल हुए तो उम्मीद है कि 15 अगस्त तक कोवैक्सीन को भारत में लॉन्च किया जाएगा

देश में कोरोना संक्रमण का खतरा लगातार बढ़ता ही जा रहा है और संक्रमितों का आंकड़ा 6 लाख को पार कर चुका है। देश के कई राज्यों से काफी कोरोना संक्रमितों की जानकारी सामने आ रही हैं। इनमें दिल्ली, महाराष्ट्र, गुजरात, तमिलनाडु और यूपी जैसे राज्य शामिल हैं। अब इस भयंकर महामारी के बीच एक बड़ी ही राहत देने वाली खबर भी सामने आई है।खबर है कि 15 अगस्त को कोरोना की वैक्सीन कोवैक्सीन ( COVAXIN) लॉन्च हो सकती है। भारत बायोटेक ने कोवैक्सीन को बनाया है और अब इसे लॉन्च करने की तैयारी में जुटी हुई है। इस दौरान क्लीनिकल ट्रायल को पूरा करने का निर्देश दिया गया है। वहीं ICMR( Indian Council of Medical Research) ने समय पर सभी कार्यवाही को पूरा करने को कहा है।

15 अगस्त तक लॉन्च हो सकती है स्वदेशी वैक्सीन

हाल ही में भारत सरकार ने इस स्वदेशी कोविड-19 कोवैक्सीन को ह्यूमन ट्रायल की अनुमति दी थी। ICMR की ओर से जारी लेटर के मुताबिक 7 जुलाई से ह्यूमन ट्रॉयल के लिए इनरोलमेंट शुरु हो जाएगा। अगर सभी ट्रॉयल सफल हुए तो उम्मीद है कि 15 अगस्त तक कोवैक्सीन को भारत में लॉन्च किया जाएगा। इस वैक्सीन को तैयार करने में भारत बायोटेक और ICMR की साझेदारी है।

BB152 Covid Vaccine के नाम से तैयार इस वैक्सीन को 15 अगस्त को लॉन्च करने की प्लान बनाया जा रहा है। इसके चलते सभी मेडिकल कॉलेजों को ट्रॉयल में तेजी लाने को कहा गया है। एम्स समेत देश के 13 अस्पतालों को क्लीनकल ट्रॉयल में तेजी लाने के को कहा गया है। अगर इस वैक्सीन को सभी चरणों में सफलता मिलती है तो 15 अगस्त को इसे लॉन्च कर दिया जाएगा। भारत बायोटेक की तरफ से बयान जारी कर बताया गया था कि इस वैक्सीन को ICMR और राष्ट्रीय विषाणु विज्ञान संस्थान(NIV ) के साथ मिलकर तैयार किया है। इस वैक्सीन के ह्यूमन ट्रॉयल के लिए भारतीय औषध महानियंत्रक( DCGI)की ओर से हरी झंडी मिल चुकी है।

बाजार में आने में लग सकता है थोड़ा वक्त

गौरतलब है कि भारत बायोटेक के कोवैक्सीन के ट्रायल के अलावा Zydus CadiIla को भी कोरोना के लिए डेवलप किए जा रहे वैक्सीन के ट्रायल की अनुमति मिल गई है। ड्रग कंट्रोलर जनरल इंडिया (DCGI) ने कोविड-19 के फेज 1 और फेज 2 मानव परिक्षणों को शुरु करने के लिए फार्मास्यूटिकल कंपनी जाइसड कैडिला को अनुमति दे दी है।

बता दें कि वैक्सीन के लॉन्च को लेकर खुशी तो है, लेकिन डॉक्टरों की राय भी इसमें थोड़ी अलग है। उन्होंने बताया कि ह्यूमन ट्रॉयल शुरु होने में कम से कम एक हफ्ते लग सकते हैं। आमतौर पर ट्रॉयल को पूरा होने में 6 महीने लग सकते हैं लेकिन जिस स्पीड से वैक्सीन को लेकर काम हो रहा है उसी हिसाब से इस वैक्सीन का ट्रॉयल बहुत जल्दी हो सकता है। हालांकि 15 अगस्त को इसे लॉन्च करना बहुत ही सफल कदम माना जाएगा। ऐसा हो सकता है कि इसकी घोषणा भी कर दी जाए लेकिन वैक्सीन को बाजार में आने में थोड़ा वक्त लग सकता है। इसकी अवधि 3 से 4 महीने की भी हो सकती है।

अगर वैक्सीन की सफलता योजना के मुताबिक हो जाती है तो ये भारत के लिए बहत बड़ी कामयाबी होगी। इस खबर ने टूटते हौंसलों को थोड़ी उम्मीद दी है और कोरोना के खिलाफ भारत की जंग को मजबूत किया है। बता दें कि दूसरे देशों में भी वैक्सीन की तैयारी जोरों पर हैं और हर किसी का प्रयास कोरोना को खत्म करने का है। हैदराबाद की कंपनी भारत बायोटेक कोरोना वैक्सीन- कोवैक्सीन सफलता के करीब है और अब हर किसी को उम्मीद है कि जल्द ही हम कोरोना से निजात पा सकेंगे।

Show More

Related Articles

Back to top button
Close