विशेष

नई नवेली दुल्हन पहुंची ससुराल, जमाई ने दुल्हन को देखते ही पहुँचाया हॉस्पिटल

कोरोना वायरस के फैलाव को रोकने के लिए किए गए लॉकडाउन के बीच अब शादी विवाह की बातें आम हो चुकी हैं। हालांकि, सरकार की तरफ से शादी समारोह में मात्र 50 लोगों को ही अनुमति दी गई है, फिर भी शादियां हो रही हैं। लॉकडाउन के दौरान कई शादियां हुईं, जिनकी खबरें मीडिया में आईं, लेकिन हाल ही में मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में हुई शादी ने सनसनी फैला दी है।

दरअसल, भोपाल के रेड जोन इलाके में एक शादी हुई है, जिसके बाद इलाके में हड़कंप मच गया है। बता दें कि शादी के तीसरे दिन बाद ही दुल्हन कोरोना पॉजिटीव पाई गई है। दुल्हन की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटीव आने के बाद प्रशासन सख्त हुआ है और दुल्हा सहित शादी में शामिल हुए सभी 32 लोगों को फौरन होम क्वारंटीन होने के आदेश दे दिए हैं।

बताया जा रहा है कि, जिस दिन शादी होने वाली थी उस दिन दुल्हन की तबियत ठीक नहीं थी। दुल्हन में शादी के पहले से ही कोरोना के लक्षण थे, इसे देखते हुए एहतियातन दुल्हन ने शादी से सिर्फ 3 दिन पहले अपना कोरोना टेस्ट करवाया था। इसके बाद शादी हुई और वो ससुराल आ गई। जमाई ने दुल्हन को देखा तो कहा की इस का फिर से कोरोना चेक करवाओ । ससुराल पहुँचने के मात्र दो दिन बाद ही दुल्हन का रिपोर्ट पॉजिटीव आया है। रिपोर्ट पॉजिटीव मिलते ही दुल्हन को आनन फानन में हॉस्पिटल पहुँचाया गया।

गौरतलब हो कि राजधानी भोपाल के जाटखेड़ी में रहने वाली दुल्हन का विवाह बीते दिनों 18 मई को सतलापुर के रहने वाले एक शख्स के साथ हुआ था। जानकारी के लिए बता दें कि शादी से तीन दिन पहले ही नवविवाहिता का कोरोना टेस्ट हुआ था। इसकी रिपोर्ट तब आई, जब नवविवाहिता शादी करके अपने ससुराल पहुँची। रिपोर्ट पॉजिटीव मिलने के बाद, अब नई दुल्हन को ससुराल की बजाय अस्पताल में रहना पड़ेगा। बता दें कि नवविवाहिता को भोपाल एस्स में शिफ्ट कर दिया गया है, तो वहीं शादी में शामिल हुए सभी लोगों को तत्काल होम क्वारंटीन किया गया है।

अबदुल्लागंज बीएमओ डॉक्टर अरविंद सिंह चौहान ने कहा कि नई दुल्हन की रिपोर्ट पॉजिटीव आने के बाद ये इस क्षेत्र  का पांचवा मामला है। उन्होंने कहा कि इससे पहले इस इलाके में इंदौर से आई एक छात्रा तथा चार अन्य कोरोना के मरीज पाए गए थे। बीएमओ ने बताया कि सभी चारों मरीज ठीक होकर घर लौट चुके हैं।

मालूम हो कि मध्यप्रदेश में कुल 56 जिले हैं, जिनमें से 49 जिलों में कोरोना की एंट्री हो चुकी है। पूरे मध्यप्रदेश में 5 हजार से अधिक कोरोना के केसेस हैं। हालांकि मध्यप्रदेश से अब जो कोरोना के केसेस सामने आ रहे हैं, वो वहीं हैं जो अन्य राज्यों से लौट रहे हैं। बता दें कि ग्रीन जोन के नाम से जिन जिलों में छूट मिली है, वहां सोशल डिस्टेंसिंग और लॉकडाउन के नियमों की धज्जियां उड़ रही हैं। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें, तो जिन जिलों में छूट दी गई है वहां सार्वजनिक स्थानों समेत बैंको में भारी भीड़ देखने को मिल रही है। अगर ऐसा चलता रहा, तो कोरोना संक्रमण का खतरा बहुत बढ़ जाएगा। कई विशेषज्ञ ये मान रहे हैं कि जुलाई तक प्रदेश में मरीजों की संख्या 80 हजार तक हो सकती है।

कोरोना मरीजों के बढ़ने की आशंका को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने अपनी तैयारियां शुरू कर दी हैं। स्वास्थ्य विभाग के सचिव ने कहा है कि प्रदेश में व्यवस्थाएं दुरूस्त की जा रही हैं। लोगों को घबराने की जरूरत नहीं है, बल्कि सरकार द्वार बनाए गए नियमों का कड़ाई से पालन  करने की जरूरत है।

Show More

Related Articles

Back to top button
Close