समाचार

BSP में मची भसड़! खत्म होने के कगार पर पार्टी, 112 नेताओं ने दिया सामूहिक इस्‍तीफा!!

लखनऊ – लोकसभा में 0 और विधानसभा में 19 सीटें। ये है बहन जी की बीएसपी का दो बड़े चुनावों का रिपोर्ट कार्ड। कई सालों से सत्ता से दूर रहने और पार्टी के इतने खराब प्रदर्शन से आहत होकर पार्टी के 112 नेताओं ने एक साथ इस्‍तीफा दे दिया है। जिससे बहुजन समाज पार्टी के राजनीतिक अस्‍तित्‍व पर खतरा मंडराने लगा है। एक ओर जहां पार्टी सुप्रीमो मायावती इस सदमे से बाहर निकलने का प्रयास कर रही हैं तो वहीं दूसरी ओर पार्टी पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं में असंतोष बढ़ता ही जा रहा है। बसपा के 112 नेताओं के एक साथ इस्‍तीफा देने की वजह हार की असली वजह तलाशने के बजाय EVM में गड़बड़ी और कार्यकर्ताओं पर आरोप लगाना है। Leaders resign from bsp.

 

करारी हार के बाद 112 नेताओं का सामूहिक इस्‍तीफा –

इस्‍तीफा देने वाले 112 पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं का कहना है कि मायावती पार्टी के संस्थापक कांशीराम के सिद्धातों से भटक गई हैं। कार्यकर्ताओं ने मायावती के उस ऐलान की भी आलोचना की है जिसमें मायावती ने कहा था कि पार्टी हर माह 11 तारीख को काला दिवस मनाया जाएगा। दरअसल, पार्टी कार्यकर्ता मायावती के ईवीएम वाले बयान से आहत हैं। इसपर बसपा के पूर्व लोकसभा प्रभारी सुशील सिंह चंदेल का कहना है कि जो धरना-प्रदर्शन जनसमस्याओं के लिए होना चाहिए था वो अब ईवीएम के खिलाफ हो रहा है। मायावती ने जनादेश का अपमान किया है।

Leaders resign from bsp

क्लीन स्वीप के इरादे से उतरी थी बसपा –

खबर यह है कि बसपा इस बार के विधानसभा चुनाव में क्लीन स्वीप के इरादे से उतरी थी। यह चुनाव बीएसपी की प्रतिष्ठा का था, लेकिन पीएम मोदी की सुनामी में लोकसभा की तरह ही विधानसभा में भी पार्टी को करारी हार का मुंह करना पड़ा। पार्टी सूत्रों के मुताबिक कई और कार्यकर्ता व पदाधिकारी इसी सप्ताह अपना इस्तीफा दे सकते हैं। इधर बीएसपी में भसड़ मची हुई है उधर यूपी में बीजेपी की ऐतिहासिक जीत के बाद सीएम पद के लिए लखनऊ में विधायकों की बैठक जारी है। यूपी में सीएम के नाम का ऐलान चंद घंटों में होने वाला है। आपको बता दें कि सीएम पद के दावेदारों में केशव प्रसाद मौर्य, केंद्रीय मंत्री उमा भारती, मनोज सिंहा, योगी आदित्यनाथ, राजनाथ सिंह और दिनेश शर्मा का नाम लिया जा रहा है।

Back to top button
?>