समाचार

तबलीगी जमात का आयोजन केजरीवाल सरकार की बड़ी बिफलता, कहाँ गायब हो गए 15 लाख CCTV कैमरा

पूरे देश भर में 14 अप्रैल 2020 तक लॉक डाउन का ऐलान कर दिया गया है, लॉक डाउन के दौरान सभी लोग अपने घरों के अंदर रहेंगे, इस समय के दौरान कोई भी आयोजन नहीं किया जाएगा, परंतु तबलीगी जमात को लेकर काफी सुर्खियां बनी हुई है, निजामुद्दीन के तबलीगी जमात के मरकज सुर्खियों का विषय बना हुआ है, निजामुद्दीन के इस इलाके में स्थित तबलीगी मरकज में बहुत से लोग कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं, जिसकी वजह से हर तरफ काफी हड़कंप मचा हुआ है.

खबरों के अनुसार ऐसा बताया जा रहा है कि लॉक डाउन अवधि में इस धार्मिक समारोह में बहुत से लोग मौजूद थे, और इस आयोजन को लेकर बहुत बड़ी लापरवाही बरती गई  है, जिसके लिए  दिल्ली की केजरीवाल सरकार पर सवाल उठ रहे हैं।

ऐसा बताया जा रहा है कि इसके पीछे लापरवाही बरती गई है, आखिर इस आयोजन को क्यों नहीं रोका गया? इसके पीछे लापरवाही की बातें सामने आ रही है, जिसमें अरविंद केजरीवाल की सरकार घिरती हुई दिखाई दे रही है, अंडमान निकोबार प्रशासन की तरफ से जमात में शामिल 10 लोगों के कोरोना पॉजिटिव होने की रिपोर्ट दिल्ली पुलिस और प्रशासन को भेजा गया था, 25 मार्च को ही इनकी रिपोर्ट भेज दी गई थी, लेकिन इसके ऊपर प्रशासन इधर-उधर के बहाने बना रहा है और इस रिपोर्ट पर किसी भी प्रकार का कोई एक्शन नहीं लिया गया, जब इन 10 लोगों की जान चली गई तो चारों तरफ काफी माहौल गर्मा गया।

कुछ जमाती  जमात में शामिल होने के बाद लोग अंडमान गए थे, जहां पहुंचने के बाद उनकी तबीयत खराब होने लगी, तब उनका टेस्ट कराया गया था, दिल्ली पुलिस और प्रशासन को जब रिपोर्ट भेजा गया तो यह रिपोर्ट मिलने के बाद कागजी कार्यवाही में ही समय व्यर्थ किया गया था, पुलिस ने मरकज को नोटिस तो जारी किया लेकिन इसके ऊपर कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया, आपको बता दें कि मरकज में जमात में शामिल 24 और लोग कोरोना से संक्रमित पाए गए थे, दिल्ली के स्वास्थ्य अधिकारी सत्येंद्र जैन ने ऐसा कहा है कि इसमें घोर लापरवाही की गई है, तबलीगी जमात का आयोजन किसी घोर अपराध से कम नहीं है, उन्होंने कहा कि इसमें सैकड़ों लोग शामिल हुए थे, मरकज की इस हरकत के बाद दिल्ली और देशों में बड़े पैमाने पर कोरोना संक्रमण के फैलने का खतरा अधिक हो गया है।

आखिर मरकज के इस कार्यक्रम को क्यों नहीं रोका गया? आखिर अरविंद केजरीवाल सरकार इस आयोजन को क्यों नहीं रोक पाई? इसके लिए केजरीवाल सरकार पर बहुत से सवाल उठ रहे हैं, लॉक डाउन के बावजूद भी इतने बड़े पैमाने पर कार्यक्रम का आयोजन लोगों को काफी आश्चर्य में डाल रहा है, आपको बता दें कि कोरोना वायरस की वजह से मक्का मदीना भी बंद कर दिए गए हैं, लेकिन इसके बावजूद भी निजामुद्दीन मरकज में तबलीगी जमात कैसे हुआ? इस पर केजरीवाल सरकार घिरती हुई नजर आ रही है, इस पर अरविंद केजरीवाल ने उच्चस्तरीय बैठक बुलाई थी, जिस बैठक में इन्होंने आगे की रणनीति पर चर्चा की थी।

Back to top button
?>