समाचार

चीन ने जला दिए कोरोना वायरस के 10000 मरीजों के श’व? सैटेलाइट में दिखी दिल दहला देने वाली तस्वीरें

31 दिसंबर को सबसे पहले चीन में कोरोना वायरस की पहचान और इसके बाद चीन में ही कई मरीज इस बीमारी से ग्रस्त पाए गए। इसके बाद पूरी दुनिया में चीन को लेकर अलग-अलग प्रतिक्रियाएं आईं और न्यूजीलैंड में तो चीन के लोगों का जाना ही बैन कर दिया गया। पहचान होने के बाद से अब तक करीब 1000 लोगों की इस वायरस से मौत हो चुकी है। 42,000 से ज्यादा लोग इससे संक्रमित हैं और ये अब तक 5 देशों में फैल चुका है। अब ऐसी खबर आ रही है जिन हजार लोगों की कोरोना वायरस से मौत हुई है उनके शव जलाए गए हैं और ये इमेज सैटेलाइट में सामने आई है।

कोरोना वायरस के मरीजों को जलाया गया?

चीन में कोरोना वायरस से हर तरह डर का माहौल बना हुआ है और अब तक चीन में इससे हजारों की मौत हो चुकी है। सोमवार को चीन से एक ही दिन में 108 लोगों ने कोरोना वायरस के कारण दम तोड़ दिया। ऐसा बताया जा रहा है कि चीन ने भले ही अब तक सिर्फ एक हजार मौत के बारे में दुनिया की जानकारी दी हो लेकिन ये आंकड़ा कई गुना ज्यादा है। डेली मेल के मुताबिक चीन के वुहान शहर से डराने वाली सेटेलाइट तस्वीरें आई हैं, इसमें देखा जा सकता है कि यहां आसमान में सल्फर डाइऑक्साइड की मात्रा ज्यादा पाई गई है। वुहान चीन का ऐसा शहर है जिसमें कोरोना वायरस के सबसे ज्यादा मरीज पाए गए हैं। ब्रिटेन की वेबसाइट डेली मील के अनुसार, सेटेलाइट इमेज में देखा गया है कि वुहान के आसमान में सल्फर डाइऑक्साइड की मात्रा 1350 माइक्रोग्राम पर क्यूबिक मीटर है। ब्रिटेन में तो 500 µg/m3 के लेबल को बहुत ही खतरनाक माना जाता है। चीन के दूसरे शहर बीजिंग और शंघाई में भी सल्फर डाइऑक्साइड खतरनाक स्तर पर पाया गया है।

इतनी भारी मात्रा में सल्फर डाइऑक्साइड दो वजह से हो सकता है, एक ये कि वहां भारी मात्रा में मेडिकल वेस्ट को जलाया जा रहा है या फिर वहां मानव के शव जलाए गए हों। शवों को जलाने के दौरान भारी मात्रा में सल्फर डाइऑक्साइड गैस निकलती है। ऐसे में ये अनुमान लगाया गया है कि अकेले वुहान शहर में 10 हजार से ज्यादा लोगों को जलाया गया है। आपको बता दें कि कोरोना वायरस के चलते वुहान शहर पूरी तरह से लॉक डाउन है और यहां करीब 10 लाख लोगों को निगरानी में रखा गया है। मौत के आंकड़ों के अलग-अलग दावे निकलकर सामने आए हैं। पिछले दिनों ताइनवल की मीडिया ने चीन के जानलेवा कोरोना वायरस को लेकर बड़ा खुलासा किया।

चीन की दूसरी सबसे बड़ी कंपनी टेनसेंट का एक डाटा लीक हुआ है जिसमें कोरोना वायरस से मौत के आंकड़ सामने आए हैं, इन्हें जानकर लोगों को हैरानी हुई। टेनसेंट के अनुसार, कोरोना वायरस से अब तक 24 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि चीन ने अपने आंकड़े में इसकी मात्रा हजार के करीब बताया है। चीन के प्रमुख चिकित्सा सलाहकार जोंग नानशान के मुताबिक इस महामारी से प्रभावित होने वाले लोगों की संख्या लगातार कम हो रही है। कई हिस्सों में नए संक्रमण के मामले कम हुए हैं। हालांकि फरवरी माह में इस वायरस से सबसे ज्यादा नुकसान हो सकता है। लेकिन इस बात की भी उम्मीद है कि अप्रैल माह तक इसका प्रकोप खत्म हो जाएगा। अप्रैल तक महामारी के खत्म होने या थमने की वजह तापमान में होने वाली वृद्धि होगी। उम्मीद के मुताबिक तापमान बढ़ने से वायरस का प्रकोप कम होने लगेगा। हालांकि, इस बात को कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है।

 

Back to top button