ब्रेकिंग न्यूज़

यूपी: योगी सरकार ने 11 एंटी-सीएए प्रदर्शनकारियों से 50 लाख के बॉन्ड पर हस्ताक्षर करने को कहा

संभल में जिला प्रशासन ने सीएए विरोध प्रदर्शन में भाग ले रहे 11 लोगों को नोटिस जारी किया है। उन्हें 50 लाख रुपये के निजी बांड पर हस्ताक्षर करने के लिए कहा गया है जिस में कहा गया है की वो भविष्य में किसी भी हिंसक गतिविधियों में लिप्त नहीं होंगे।

पुलिस रिपोर्ट के आधार पर सीआरपीसी की धारा 111 के तहत नोटिस भेजा गया है ( मजिस्ट्रेट के आदेश किसी भी व्यक्ति के खिलाफ जिस के द्वारा शांति भंग करने की संभावना है)।

नखासा के सब-डिविजनल मजिस्ट्रेट राजेश कुमार ने कहा: “11 व्यक्तियों को नोटिस में कहा गया है कि पुलिस को संदेह है कि वे हिंसा में शामिल हो सकते हैं और इसलिए 50 लाख रुपये का निजी बॉन्ड और और हर एक व्यक्ति के लिए दो ज़मानतदार लिया जाना चाहिए। ” उन्होंने कहा कि यह नोटिस 24 अन्य लोगों को भी जल्द ही भेजे जाएंगे

पुलिस के मुताबिक, पिछले महीने से नखासा थाना क्षेत्र के हुसैना बाग के पास एक खेत में करीब 500 महिलाएं CAA विरोध-प्रदर्शन कर रही हैं।

स्टेशन हाउस ऑफिसर (SHO) नखासा पुलिस स्टेशन, देवेंद्र सिंह धामा ने कहा कि पुलिस ने अज्ञात व्यक्तियों के खिलाफ IPC की धारा 188 (लोक सेवक द्वारा विधिवत आदेश देने का आदेश) के तहत एफआईआर दर्ज कर ली है और ५०५ मामले में अभी तक बनाया गया है।

देवेंद्र सिंह धामा ने कहा कि कुछ दिनों पहले, 36 लोगों के नामों की एक रिपोर्ट जिला प्रशासन को भेजी गई थी, जिसमें अनुरोध किया गया था कि इन व्यक्तियों को एक बांड पर हस्ताक्षर करने के लिए कहा जाए ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि सीआरपीसी की धारा 107/116 के तहत शांति बनाए रखी जाएगी।

“इनमें से महिला प्रदर्शनकारियों की मदद कुछ दूसरे लोग भी कर रहे हैं। हमने प्रारंभिक जांच के आधार पर एक सूची तैयार की,” धामा ने कहा।

पिछले साल 19 और 20 दिसंबर को संभल में नए नागरिकता कानून के विरोध में दो व्यक्तियों की मौत हो गई और कई घायल हो गए। हिंसा के संबंध में 12 एफआईआर दर्ज की गईं और 43 लोगों को गिरफ्तार किया गया। कुछ आरोपियों को जमानत पर रिहा कर दिया गया है।

इससे पहले, सोमवार (10 जनवरी) को, अलीगढ़ प्रशासन ने अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के चार छात्रों जो 1 लाख रुपये की निजी मुचलके पर थे और इसी तरह के बांड पर हस्ताक्षर किए थे, उन की सुरक्षा राशि जब्त कर ली गयी थी

Show More

Related Articles

Back to top button
Close