ब्रेकिंग न्यूज़

मोदी सरकार में दिवाला कानून के ज़रिये 4 लाख करोड़ रुपये की वसूली, एक बड़ी उपलब्धि – अनुराग ठाकुर

नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा बैंकों और वित्तीय संस्थानों में एनपीए को कम करने के प्रयासों के कारण, 2014 के बाद से दिवाला कानून के कार्यवाही के ज़रिये से 4 लाख करोड़ रुपये की वसूली की गई है, जो बहुत एक “बड़ी उपलब्धि” है।

इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया (ICAI) के 70 वें वार्षिक समारोह को संबोधित करते हुए, अनुराग ठाकुर ने कहा कि जब मोदी ने 2014 में अपने पहले कार्यकाल में पद संभाला था, एनपीए 52 लाख करोड़ रुपये था। वित्तीय संस्थानों द्वारा कानूनी कार्यवाही शुरू करने और केंद्र सरकार के आदेश पर उचित प्रक्रिया का पालन करने के कारण, एनपीए को 52 लाख से 18 लाख करोड़ रुपये तक लाया गया। उन्होंने कहा कि कानूनी कार्यवाही आगे भी जारी रही, जिसमें 4 लाख करोड़ रुपये की वसूली की गई।

अनुराग ठाकुर ने चार्टर्ड अकाउंटेंट्स से अपील की कि वे अपने ग्राहकों से यथासंभव मुकदमों को समाप्त करने में मदद करें और यह सुनिश्चित करें कि ऐसे वित्तीय संस्थानों को उनका बकाया वापस मिल जाए। अनुराग ठाकुर ने कहा कि देश की अर्थव्यवस्था को आगे बढ़ाने में मदद करना हमारी सामूहिक जिम्मेदारी है।

वित्त राज्य मंत्री ने यह भी घोषणा की कि सरकार केवल आधार विवरण मांगकर पैन कार्ड जारी करने की योजना बनाई है। करदाताओं के लिए “फेसलेस मूल्यांकन योजना” पहले ही शुरू की जा चुकी है, नरेंद्र मोदी के शासन में “स्थिर आर्थिक विकास” का दावा करते हुए, वित्त राज्य मंत्री ने कहा कि इसमें कोई संदेह नहीं है कि देश 2025 तक पांच ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बन जाएगा और “लक्ष्य को प्राप्त करने से कोई नहीं रोक सकता है”। उन्होंने चार्टर्ड एकाउंटेंट से भ्रष्टाचार ख़तम करने में मदद करने और धोखेबाजों का पता लगाने के लिए कहा।

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा कि चार्टर्ड एकाउंटेंट न केवल देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ हैं, बल्कि वे उत्कृष्ट प्रशासक, रणनीतिकार और सलाहकार भी हैं।

उन्होंने चार्टर्ड एकाउंटेंट परीक्षा आयोजित करने के अपने तरीके के लिए भी आईसीएआई की सराहना की और कहा कि पिछले 70 वर्षों में इसकी मूल्यांकन प्रणाली में कोई भी खामी नहीं पाई गई है। “सीए देश का वित्तीय मार्गदर्शक हैं, “सीए देश की आर्थिक प्रणाली के विश्वसनीय राजदूत हैं और किसी भी खाते पर उनके हस्ताक्षर सत्यता की गवाही देते हैं,”

Show More

Related Articles

Back to top button
Close