ब्रेकिंग न्यूज़राजनीति

CAA से मुसलमानो के लिए कोई खतरा नहीं, NPR देश के लिए ज़रूरी है – रजनीकांत

अभिनेता रजनीकांत ने बुधवार को कहा कि राजनीति फायदे के लिए कुछ राजनीतिक दल  नागरिकता (संशोधन) कानून, राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (NPR) और राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (NRC) पर जनता को उकसा रहे हैं । चेन्नई में अपने पोएस गार्डन निवास पर संवाददाताओं से बात करते हुए रजनीकांत ने कहा कि अगर देश में मुसलमानों के लिए कोई खतरा होता है, तो वह सबसे पहले आवाज उठाएंगे।

रजनीकांत ने कहा मुसलमानों के लिए भारत में कोई खतरा नहीं है। राजनीतिक लाभ के लिए राजनीतिक दल सीएए पर फर्जी सूचनाएं फैला रहे हैं और माहौल खराब कर रहे हैं, कुछ मुल्ला और मौलवी उन का साथ दे रहे हैं। यह बहुत गलत है। केंद्र ने स्पष्ट रूप से कहा है कि सीएए भारतीय नागरिकों को प्रभावित नहीं करता है। यह पड़ोसी देशों के निवासियों को नागरिकता प्रदान करने के बारे में है। रजनीकांत ने कहा कि कुछ राजनीतिक दल मुसलमानों के खिलाफ इस क़ानून को बता कर आतंक फैला रहे हैं।

“मुस्लिम समुदायों को देश में सबसे अधिक अधिकार हैं। विभाजन के दौरान, (कुछ) मुसलमानों ने फैसला किया कि यह उनकी मातृभूमि है और उन्होंने कहा कि वे यहां रहेंगे चाहे जिस हाल में रहें । कोई भी उन्हें देश से बाहर कैसे भेज सकता है? अगर मुसलमानों को यहां कोई खतरा होता है तो सब से पहले मैं अपनी आवाज उठाऊंगा।

रजनीकांत ने कहा  सीएए के खिलाफ हो रहे  प्रदर्शनों पर छात्रों को शामिल होने से पहले उन्हें “समस्या का गहराई से विश्लेषण” करना चाहिए और अपने प्रोफेसरों और बड़ों के साथ इस विषय पर चर्चा करना चाहिए। अन्यथा कुछ नेता आपको यूज करने की कोशिश करेंगे। इसके अलावा, आप यह भी नहीं जानते कि पुलिस आप के इस विरोध पर कैसी प्रतिक्रिया देगी। ऐसी स्तिथि में आप परेशानी में पड़ सकते हैं। ”

रजनीकांत ने कहा कि भारतीय नागरिकों और विदेशियों के बीच अंतर करने के लिए एनपीआर आवश्यक है।  कांग्रेस ने इसे 2010 में किया था, यह 2015 में भी किया गया था, और इसे 2021 में किया जाना है। उन्होंने कहा की क्या हमें यह जानने की जरूरत नहीं है कि स्थानीय नागरिक और विदेशी नागरिक कौन हैं?”

NRC पर, अभिनेता ने कहा कि NRC में क्या होगा यह तो केवल मसौदा तैयार होने के बाद ही सामने आएगा। “एनआरसी को अभी तक लागू नहीं किया गया है … केंद्र इसके बारे में सोच रहा है। एनआरसी का मसौदे बनने के बाद हमें इस की पूरी जानकारी मिल जाएगी।”

थुथुकुडी में हिंसा के संबंध में प्राप्त समन के बारे में पूछे जाने पर, रजनीकांत ने कहा, “मुझे अब तक कोई नोटिस नहीं मिला है। अगर ऐसा कुछ मुझे मिलता है तो मैं निश्चित रूप से अपने पूर्ण सहयोग प्रदान करूंगा।”

श्रीलंकाई तमिलों के बारे में, रजनीकांत ने कहा कि शरणार्थियों को दोहरी नागरिकता प्रदान करने की आवश्यकता है। “हमें श्रीलंका में मौजूद लोगों को परेशान नहीं करना चाहिए, हमें उन्हें अल्पसंख्यक नहीं मानना ​​चाहिए। वे चोल काल से वहां रह रहे हैं।”

Show More

Related Articles

Back to top button
Close